मंदी की ऐसी मार,भारी भरकम चुनावी खर्च से भी न हुआ GDP का बेड़ा पार
मंदी की ऐसी मार,भारी भरकम चुनावी खर्च से भी न हुआ GDP का बेड़ा पार
फोटो: ब्लूमबर्ग क्विंट

मंदी की ऐसी मार,भारी भरकम चुनावी खर्च से भी न हुआ GDP का बेड़ा पार

चुनाव की प्रक्रिया खासतौर पर भारत जैसे बड़े देश में बेहद ही महंगी है. चुनावी अभियान, लंबी-लंबी यात्राएं, वोटरों को लुभाने के लिए तरह-तरह के पैंतरे इन सब की वजह से भारी खर्च होता है. इसकी वजह से इकनॉमी में एक झटके में बहुत सारा पैसा आता है, पैसा आने की वजह से बाजार में भारी डिमांड बढ़ती है और इकनॉमिक एक्टिविटी बढ़ जाती है. जिससे जीडीपी के आंकड़ों में तेजी देखने को मिलती है.

लेकिन आर्थिक मंदी इतनी मजबूत थी कि लेकिन इस बार के चुनाव के बाद इकनॉमिक ग्रोथ पर ये गणित नहीं चला.

सेंटर फॉर मीडिया स्टडीज के मुताबिक 2019 के चुनाव में करीब 55,000 करोड़ मतलब 8 बिलियन डॉलर रुपये खर्च किए गए. ये अब तक का सबसे महंगा चुनाव रहा है. 

2019 समेत पिछले 5 सालों के चुनावों के आंकड़े देखने पर पता चलता है कि इलेक्शन ईयर में इकनॉमिक ग्रोथ में तेजी देखने को मिलती है. ज्यादातर लोकसभा चुनाव अप्रैल मई के महीने में होते हैं, इसलिए जून तिमाही में तेजी देखने को मिलती है.

चुनाव के बाद 2015 में ग्रोथ 5.3 परसेंट से छलांग मारकर 8 परसेंट हो गई थी
चुनाव के बाद 2015 में ग्रोथ 5.3 परसेंट से छलांग मारकर 8 परसेंट हो गई थी
ग्राफिक्स: ब्लूमबर्ग क्विंट
2014 के लोकसभा चुनावों के बाद अप्रैल-जून 2015 में ग्रोथ 5.3 परसेंट से छलांग मारकर 8 परसेंट हो गई थी. वहीं 2009 चुनाव के वक्त ग्रोथ रेट 3.5 से छलंगा मारकर 5.9 परसेंट हो गई थी.
Loading...

इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च के चीफ इकनॉमिस्ट देवेन्द्र पंत का कहना है -

जिस तरह से हर बार के चुनाव के बाद ग्रोथ पर पॉजिटिव असर देखने को मिलता है वो इस बार नदारद था. इसकी वजह ये भी हो सकती है कि पहले चुनाव में जमीनी स्तर पर जाकर खर्च करना होता था, लेकिन अब चुनाव डिजिटल माध्यम से लड़े जाते हैं. इस वजह से इकनॉमी पर खास असर न पड़ा हो.
देवेन्द्र पंत, इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च

हालांकि इस दौर में सरकारी खर्चों में अच्छी ग्रोथ देखने को मिली है. इस वजह से ग्रोथ को हल्का सपोर्ट देखने को मिला. FY20 की पहली तिमाही में सरकार का कंज्म्पशन खर्च 11.8 परसेंट की दर से बढ़ा. जबकि पिछले फाइनेंशियल ईयर की आखिरी तिमाही में ये 9.9 परसेंट था.

केयर रेटिंग्स के चीफ इकनॉमिस्ट मदन सबनवीस बताते हैं-

इकनॉमी में इतनी कमजोरी है कि हो सकता है कि चुनावों में हुए खर्च का इकनॉमी पर कोई खासा असर देखने को नहीं मिला. 
मदन सबनवीस, केयर रेटिंग्स

ये भी पढ़ें : इकनॉमी को और बड़ा झटका, GDP ग्रोथ रेट गिर कर 5 फीसदी पर पहुंचा

जीडीपी ग्रोथ रेट घट कर 5 फीसदी पर पहुंचा

पहली तिमाही में GDP ग्रोथ घटकर 5 फीसदी के स्‍तर पर आ गई. पिछले वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही में यह 5.8 फीसदी थी. दरअसल खपत में आई भारी गिरावट की वजह से GDP के आंकड़ों में इतनी भारी गिरावट आई है. आरबीआई ने वित्‍त वर्ष 2019-20 में भारत की GDP ग्रोथ 6.7 फीसद रहने का अनुमान लगाया था. हालांकि बाद में इसने इसे रिवाइज कर घटा दिया था. सरकार की ओर से कहा गया है कि अर्थव्यवस्था में यह गिरावट साइक्लिक है, स्ट्रक्चकरल नहीं है.

ये भी पढ़ें : 8 कोर सेक्टरों में भारी मंदी, एक ही साल में 7.3 से 2.1% हुई ग्रोथ

(हैलो दोस्तों! WhatsApp पर हमारी न्यूज सर्विस जारी रहेगी. तब तक, आप हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our बिजनेस section for more stories.

वीडियो

Loading...