ADVERTISEMENT

कोरोना की मौजूदा लहर का अर्थव्यवस्था पर कोई असर नहीं- RBI

RBI गवर्नर ने वित्तीय वर्ष 2021-22 में जताया बेहतर ग्रोथ का अनुमान

Published
कोरोना की मौजूदा लहर का अर्थव्यवस्था पर कोई असर नहीं- RBI

देश में कोरोना के बढ़ते मामलों और अर्थव्यवस्था पर इसके असर को लेकर RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने बयान दिया है. उन्होंने विश्वास दिलाते हुए कहा कि कोविड की मौजूदा लहर भारतीय अर्थव्यवस्था को प्रभावित नहीं करेगी और ग्रोथ की रफ्तार जारी रहेगी.

RBI गवर्नर ने कोरोना की वजह से देश में फिर से लॉकडाउन लगाने की संभावना से भी इनकार किया है.

भारतीय अर्थव्यवस्था में आएगी मजबूती

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास का यह बयान उस वक्त आया है जब देश में कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से कई राज्यों के शहरों में लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू के जरिए सख्ती बढ़ा दी गई है.

PTI के अनुसार, टाइम्स नेटवर्क इंडिया इकोनॉमिक कॉन्क्लेव में बोलते हुए आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि देश की आर्थिक गतिविधियों में सुधार जारी रहना चाहिए और वित्तीय वर्ष 2021-2022 के लिए RBI के 10.5 प्रतिशत वृद्धि अनुमान को घटाने की जरुरत नहीं लगती है.

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने देश में लॉकडाउन की संभावना से इनकार किया है.

क्रिप्टोकरेंसी पर RBI गंभीर

क्रिप्टोकरेंसी से जुड़े मुद्दे पर बोलते हुए शक्तिकांत दास ने कहा कि, इस विषय पर हमने अपनी चिंताओं के बारे में सरकार को अवगत कराया है, फिलहाल इसकी जांच चल रही है. PTI के अनुसार, आरबीआई गवर्नर ने कहा कि, क्रिप्टोकरेंसी के विषय पर सरकार और रिजर्व बैंक की राय में कोई मतभेद नहीं है. शक्तिकांत दास ने कहा कि इस संबंध में रिजर्व बैंक वित्तीय स्थिरता को लेकर अपनी चिंताओं का आकलन कर रहा है.
शक्तिकांत दास, गवर्नर, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया

वहीं आरबीआई गवर्नर ने कहा कि रिजर्व बैंक और बॉन्ड मार्केट के बीच कोई विवाद नहीं है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि केंद्रीय बैंक यह सुनिश्चित करेगा कि रुपया स्थिर रहे.

वहीं सरकार द्वारा बैंकों के निजीकरण को लेकर रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा कि, इस संबंध में RBI की सरकार से बात जारी है.

(इनपुट: PTI)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT