2021 में कैसी रहेगी शेयर बाजार की चाल, क्या है एक्सपर्ट्स की राय?

कई जानकारों के अनुसार मिड कैप एवं स्मॉल कैप के शेयर लार्ज कैप से ज्यादा मुनाफा बना सकते हैं.

Updated
2021 में कैसी रहेगी शेयर बाजार की चाल, क्या है एक्सपर्ट्स की राय?

कई अन्य क्षेत्रों की तरह शेयर बाजार के लिए भी 2020 कई मायनों में ऐतिहासिक रहा. जनवरी में नए ऊंचाई छूने के बाद जहां कोरोना को लेकर बाजार में कोहराम रहा, वहीं अर्थव्यस्था में सुधार और वैक्सीन को खबरों से मार्केट को नई ऊर्जा भी मिली. साल के आखिरी समय आने के साथ ही 2021 में बाजार की संभावनाओं को लेकर अनुमानों का दौर शुरू हो चुका है. अब जानते हैं कि शेयर बाजार से आने वाले वाले साल में क्या उम्मीदें है और ऐसे कौन से सेक्टर्स, शेयर्स, फंड्स हैं जहां पर एक अच्छी कमाई हो सकती है.

2020 को बाजार इसलिए रखेगा याद

  • बाजार मार्च के अपने न्यूनतम स्तर से करीब 80% चढ़कर अपने उच्चतम स्तर के पास हैं. सेंसेक्स 47,000 को पार करने के बाद अभी 46,000 के पास हैं जबकि निफ्टी भी आसानी से 13,000 के ऊपर ट्रेड कर रहा हैं.
  • भारतीय बाजारों में FII द्वारा निवेश किसी भी समय के सर्वाधिक स्तर पर हैं. नवंबर 2020 में पहली बार एक ही महीने में इक्विटी मार्केट में 50,000 करोड़ रूपये से ज्यादा रूपये डाले गए.
  • साल के दूसरी छमाही में आने वाले IPO को बाजार का पुरजोर समर्थन मिला है. हाल में आए दो पब्लिक इशू बर्गर किंग इंडिया और बेक्टर्स फूड को और उससे पहले ग्लैंड फार्मा, मझगांव डॉक, रूट मोबाइल, आदि को जमकर सब्सक्राइब किया गया था.

नए साल से क्या उम्मीदें-

  • अर्थव्यस्था के पटरी पर लौटने की गति में रफ्तार के साथ ही बाजार के और चढ़ने की संभावना है. कई जानकारों के अनुसार मिड कैप एवं स्मॉल कैप के शेयर लार्ज कैप से ज्यादा मुनाफा बना सकते हैं. अलग-अलग इन्वेस्टमेंट फर्म और रेटिंग एजेंसियों ने भी अपने अनुमान लगाने शुरू कर दिए हैं.
  • मॉर्गन स्टेनली भारत के बारे में ओवरवेट (Overweight) रेटिंग रखते हुए BSE के इंडेंक्स सेंसेक्स के 2021 के अंत तक 50,000 पार कर जाने का अनुमान जताया हैं. पहले कंपनी ने जून 2021 तक सेंसेक्स के 37,500 पहुंचने का अनुमान ही रखा था. विशेष परिस्थितियों में कंपनी ने बेयर मार्केट के लिए 37,000 जबकि बुलिश मार्केट के लिए 59,000 तक का अनुमान रखा हैं.
  • प्रतिष्ठित कंपनी JP मॉर्गन भी निफ्टी को दिसंबर 2021 तक 15,000 के पार देखती हैं. ग्लोबल ब्रोकरेज फर्म BNP परिबास ने सेंसेक्स के लिए 50,500 का बुलिश अनुमान रखा हैं.
  • भारत की ब्रोकरेज कंपनी कोटक सिक्योरिटीज के अनुसार 2021 बाजार के लिए काफी खास नहीं होगा. कंपनी ने सेंसेक्स के 2021 के अंत में 46,000 के वर्तमान स्तर के पास रहने की ही संभावना व्यक्त की हैं.
  • रिसर्च और ब्रोकरेज कंपनी एक्सिस सिक्योरिटीज के अनुसार दिसंबर 2021 में निफ्टी 14,600 के करीब व्यापार कर रहा होगा. ICICI सिक्योरिटीज इसी समय निफ्टी के 14,900 के स्तर पर पहुंचने की उम्मीद करती हैं.

किन स्टॉक्स और सेक्टरों का रह सकता हैं बोलबाला?

सेंसेक्स, निफ्टी जैसे बेंचमार्क इंडेक्सों की तरह ही कुछ स्टॉक्स और सेक्टरों से नए वर्ष में काफी उम्मीदें हैं. इस साल फार्मा और IT, आदि सेक्टरों के स्टॉक्स में अच्छी उछाल दिखी हैं लेकिन आने वाले साल के लिए परिस्थितियों में बदलाव मुमकिन हैं.

ET मार्केट न्यू ईयर सर्वे में एनालिस्ट द्वारा अलग अलग सेक्टरों और स्टॉक्स को लेकर संभावना जताई गई हैं. ज्यादातर एक्सपर्ट्स ने इस सर्वे में भारती एयरटेल को लेकर अच्छी उम्मीद जताई हैं जबकि अनुमान हैं कि बजाज फाइनेंस फिसड्डी साबित हो सकता हैं. इसके अलावा अच्छे बैलेंस शीट वाले प्राइवेट बैंकों के भी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद हैं. काफी जानकारों द्वारा PSU बैंकों के बुरा प्रदर्शन जारी रहने का अनुमान लगाया गया हैं.

डिवीस लैब्स, डॉ रेड्डी लैब्स, विप्रो, HCL टेक जहां इस साल टॉप गेनर्स रहें वही NTPC, BPCL, इंडियन ऑयल आदि शेयरों ने काफी करेक्शन देखा.

कैसा रहने वाला है IPO बाजार?

अच्छे माहौल का फायदा उठाते हुए कंपनियों ने कई IPO को जल्दी लाने पर विचार शुरू कर दिया हैं. हाल में आए एंटोनी वेस्ट हैंडलिंग सेल समेत ज्यादातर पब्लिक ऑफरों को निवेशकों से शानदार समर्थन मिला हैं. इस सिलसिले के आगे भी जारी रहने की उम्मीद हैं. कई जानी कंपनियां जैसे जोमैटो, NSE, LIC, कल्याण ज्वेलर्स 2021 के पहले कुछ महीनों में ही IPO लांच कर सकती हैं.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स?

अगर आगे देखें तो ग्लोबल रिस्क एप्पेटाइट में में लगातार वृद्धि से भारतीय शेयर बाजार को इकोनॉमी में कमजोरी के बावजूद और उछाल मिलेगी.
शिलन शाह, सीनियर इंडिया इकोनॉमिस्ट, कैपिटल इकोनॉमिक्स (Source: ET)
हम मार्च से शुरू हुए बुल मार्केट में हैं और हालंकि हमें करेक्शन की उम्मीद करनी चाहिए, इक्विटी मार्केट में उछाल की और संभावना हो सकती हैं.
रिद्धम देसाई, इक्विटी एनालिस्ट, मॉर्गन स्टेनली (Source: ET)

फिर भी सावधानी की क्यों जरूरत?

यूनाइटेड किंगडम (UK) में कोरोना के नए स्ट्रेन से काफी लोगों के प्रभावित होने के बाद सोमवार 21 दिसंबर को मार्केट में बड़ी गिरावट देखने को मिली थी. कई देशों ने UK से आने जाने वाली फ्लाइट्स पर भी पाबंदिया लगाई हैं. इस दौर के विस्तार के कारण आर्थिक गतिविधियों में कमी की आशंका निवेशकों के लिए एक बड़ी चिंता हो सकती हैं. इसके अलावा कई एक्सपर्ट्स के मुताबिक बाजार काफी ओवरवैल्यूड हैं और बड़े करेक्शन की संभावना लगातार बनी रहेगी. इसके अलावा जियो-पॉलिटिकल परिस्थितियों और नीतियों का भी बाजार पर बड़ा प्रभाव रहेगा.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!