ADVERTISEMENTREMOVE AD

Gujarat Result 2022: औवैसी-BTP समेत छोटी पार्टियां फेल, AAP ने बिगाड़ा सबका खेल

Gujarat election result 2022: पिछले चुनाव में बीटीपी ने 2,एनसीपी ने जीती थी 1 सीट, इस बार हर उम्मीदवार फिसड्डी निकला

story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

गुजरात (Gujarat Election Results 2022) में एक बार फिर बीजेपी की सरकार बनने जा रही है, 182 सीटों में से 156 सीटों पर जीत दर्ज कर बीजेपी ने ऐतिहासिक जीत दर्ज कर रिकॉर्ड बनाया है. पिछले चुनाव के मुकाबले कांग्रेस (Congress) और ज्यादा पिछड़ गई और पहली बार चुनाव लड़ रही AAP ने 12.9 फीसदी वोट हासिल किए.

लेकिन औवैसी (Owaisi) की एआईएमआईएम (AIMIM), एनसीपी (NCP), बीटीपी (BTP), बीएसपी (BSP), जेडीयू (JDU) जैसी छोटी पार्टियों की क्या स्थिति है?

ADVERTISEMENTREMOVE AD

भुज पर तीसरे स्थान पर रही AIMIM, बाकी उम्मीदवार फिसड्डी

असददुद्दीन औवैसी की पार्टी एआईएआईएम (AIMIM) ने इस बार राज्य की 13 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे. लेकिन मोदी लहर और AAP की बनाई बढ़त ने औवेसी का एक भी उम्मीदवार जीतने नहीं दिया.

13 सीटों पर उतरे औवेसी के उम्मीदवारों में से केवल भुज सीट पर सकील महामद समा ने दम दिखाया और वे कांग्रेस को टक्कर देते नजर आए, लेकिन उनके खाते में केवल 17 फीसदी वोट ही आ सके. भुज में एआईएमआईएम तीसरे नंबर पर रही. बाकी 12 सीटों पर चुनाव लड़े एआईएमआईएम के उम्मीदवार फिसड्डी साबित हुए.

0

बीटीपी का सूपड़ा साफ

दिल्ली और पंजाब की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी राज्य के आदिवासी इलाके में पैठ जमाती दिखी और इसका असर कहीं न कहीं भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) पर पड़ा. आदिवासी इलाकों ने कांग्रेस भी पिछड़ गई.

2017 में भारतीय ट्राइबल पार्टी के पास दो सीटें थीं. इसने झगड़िया और देदियापाड़ा से जीत हासिल की थी. लेकिन 2022 के नतीजों को देखें तो बीटीपी किसी सीट पर जीत दर्ज नहीं कर पाई. कई सीटों पर तो यह आम आदमी पार्टी से भी पीछे चली गई.

यहां तक की आदिवासी नेता और भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) के संस्थापक और लगातार सात बार जीत दर्ज करने वाले छोटूभाई वसावा भी मतगणना में भरूच जिले की झगड़िया सीट से हार गए.

वहीं छोटू वसावा के बेटे BTP प्रमुख महेश वसावा ने 2017 में देदियापाड़ा सीट जीती थी. लेकिन उन्होंने बाद में झगड़िया सीट से नामांकन दाखिल किया. हालांकि अपने पिता को सामने देख उन्होंने अपना नामांकन वापस ले लिया था.

ADVERTISEMENT

बाकी छोटी पार्टियों के उम्मीदवार भी हारे

शरद पवार की पार्टी एनसीपी ने इस बार कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ा और तीन सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे. गुजरात एनसीपी के अध्यक्ष जयंत पटेल भी अपनी सीट उमरेठ से हार गए. 2017 में एनसीपी एक सीट पर जीती थी.

वहीं जनता दल यूनाइटेड का भी कहीं खाता नहीं खुला, ना ही उन्हें कोई वोट शेयर मिला. बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी ना तो पिछले चुनाव में कोई सीट निकाल पाई और ना ही अब की बार. बीएसपी को 0.50 और एसपी 0.29 फीसदी वोट मिला. इसके अलावा सीपीआई, सीपीआई (एम) और सीपीआई (एमएल) मिलकर भी एक फीसदी वोट नहीं निकाल पाए.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×