ADVERTISEMENT

शिबू सोरेन का शिष्य से हारना, झारखंड की राजनीति का टर्निंग प्वाइंट

1 लोकसभा सीट पर हार JMM को विधानसभा चुनाव में बहुत भारी पड़ सकता है 

Updated
चुनाव
4 min read
शिबू सोरेन का शिष्य से हारना, झारखंड की राजनीति का टर्निंग प्वाइंट
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

लोकसभा चुनाव में झारखंड की राजनीति में वो हुआ है जिसकी कल्पना करना भी मुश्किल है. तीन बार सीएम और आठ बार सांसद रह चुके शिबू सोरेन चुनाव हार गए. शिबू सोरेन को झारखंड की राजनीति में ‘दिशोम गुरु’ कहते हैं यानी ‘आदिवासियों को रास्ता दिखाने वाला गुरु’, लेकिन आज ऐसा लगा रहा है कि ‘दिशोम गुरु’ के सामने खुद ही रास्ते बंद हो चुके हैं.

देश के सबसे बड़े आदिवासी नेता शिबू सोरेन का अपने ही किले दुमका में हार जाना झारखंड की बदलती सियासत का बड़ा संकेत है. लोकसभा चुनाव के नतीजे बता रहे हैं कि झारखंड में इसी साल होने वाले चुनाव में गैर बीजेपी दलों और खासकर झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के लिए मुश्किलें बढ़ने वाली हैं.

ADVERTISEMENT
दुमका में शिबू सोरेन को 4.36 लाख वोट मिले,जबकि उन्हें हराने वाले बीजेपी के सुनील सोरेन को 4.83 लाख वोट. यानी शिबू सोरेन 47 हजार वोट से हारे. 2014 के लोकसभा चुनाव में शिबू सोरेन ने सुनील को 39 हजार वोटों से हराया था.

दुमका में हार का बोझ बहुत बड़ा है

झारखंड अलग राज्य आंदोलन का सबसे बड़ा चेहरा शिबू सोरेन. उन्हें दुमका ही नहीं, झारखंड के आदिवासी इलाकों में बच्चा-बच्चा जानता है. लेकिन वो ही अपने गढ़ में हार गए. उन्हें हराया बीजेपी के सुनील सोरेन ने. वो सुनील सोरेन जो कभी शिबू सोरेन के बेटे दुर्गा सोरेन को अपना गुरु मानते थे. तो सुनील सोरेन ने पहले अपने गुरु दुर्गा सोरेन को विधानसभा चुनाव में हराया और अब 'महागुरु' शिबू सोरेन को लोकसभा चुनाव में हराया. पिछले 30 साल से ये सीट JMM का गढ़ रही है. झारखंड बनने के बाद यहां से कोई और नहीं जीता. इस हार का असर दूर और देर तक रहेगा क्योंकि इससे जो मैसेज पूरे झारखंड में गया है वो JMM के लिए ठीक नहीं है. JMM के हर कार्यकर्ता और वोटर के मन में सवाल है कि जब दुमका से शिबू सोरेन हार गये तो कौन सेफ है?

लोकसभा चुनाव 2019 में JMM, कांग्रेस, RJD और JVM के साथ मिलकर लड़ी. गठबंधन को सिर्फ दो सीटें मिलीं. JMM को सिर्फ एक सीट मिल पाई. राजमहल से JMM के मौजूदा सांसद विजय हांसदा जीते हैं. पार्टी चार सीटों पर चुनाव लड़ी और तीन पर हार गई. बीजेपी 14 में से अकेले 11 सीट जीती और उसकी सहयोगी AJSU ने एक सीट जीती. बीजेपी ने 2014 में 12 सीट जीती थीं.

JMM की इतनी बड़ी हार क्यों हुई?

काडर से कटा सोरेन परिवार

पार्टी के कार्यकर्ताओं का कहना है कि JMM के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन और सुप्रीमो शिबू सोरेन काडर से कट चुके हैं. सचिव अभिषेक पिंटू, केंद्रीय महासचिव विनोद पांडेय और सुप्रियो भट्टाचार्य का पार्टी पर एक तरह से कब्जा हो चुका है. पहले शिबू सोरेन के दरवाजे सबके लिए खुले रहते थे. अब उनसे मिलने के लिए बड़े कार्यकर्ताओं को भी घंटों इंतजार करना पड़ता है. कार्यकर्ता अभिषेक पिंटू पर आरोप लगाते हैं कि वो कार्यकर्ताओं को हेमंत और शिबू सोरेन तक पहुंचने ही नहीं देते.

मुस्लिमों का गुस्सा

झारखंड में गोरक्षकों की हिंसा बड़ा मुद्दा बन चुका है. इतना बड़ा कि हजारीबाग से बीजेपी उम्मीदवार केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने चुनाव के दौरान बयान दिया कि उन्होंने रामगढ़ में मॉब लिचिंग के आरोपियों को आर्थिक मदद दी थी. जब वो ऐसा कह रहे थो तो जाहिर तौर पर अपने टारगेटेड मतदाता तक संदेश पहुंचा रहे थे. वहीं मुस्लिम वोटर JMM से इस बात को लेकर नाराज थे कि JMM अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने इस बड़े मुद्दे पर एक बार सदन में आवाज़ तक नहीं उठाई.

महतो वोटरों की नाराजगी

राज्य में महतो वोटर का बड़ा दबदबा है. लेकिन इस बार ये वोटर JMM से नाराज था. एक शिकायत ये थी कि चुनाव प्रचार के दौरान झारखंड आंदोलन के शहीद महतो नेताओं को उचित सम्मान नहीं दिया गया. महतो नेता आस्तिक महतो को पार्टी में शामिल कराने के बाद भी जमशेदपुर से टिकट नहीं देने को भी मुद्दा बनाया गया. मांडू विधायक और JMM के बागी महतो नेता जयप्रकाश भाई पटेल ने बीजेपी के साथ मिलकर पार्टी को काफी नुकसान पहुंचाया.

पार्टी हार पर मंथन कर रही है लेकिन कार्यकर्ताओं का यही मानना है कि गठबंधन के कारण ही JMM को नुकसान हुआ. JMM का वोट तो ट्रांसफर हुआ लेकिन बाकी दलों का वोट इधर नहीं आया.

शिबू सोरेन की उम्र

शिबू सोरेन ने पिछले चुनाव में घोषणा की थी कि अब ये उनका आखिरी चुनाव होगा लेकिन 2019 में वो फिर चुनाव लड़े. इतना ही नहीं उन्होंने यहां तक कह दिया कि वो जबतक जिंदा रहेंगे तब तक चुनाव लड़ते रहेंगे. 75 साल के शिबू सोरेन की सेहत भी ठीक नहीं रहती है. इन सबका वोटर के बीच अच्छा मैसेज नहीं गया.

मोदी लहर

इन सब में से बड़ा कारण रहा फिर एक बार-मोदी लहर. JMM को पूरा भरोसा था कि दुमका सीट वो हार ही नहीं सकती. इस ओवरकॉन्फिडेंस ने पार्टी को डुबोया. खासकर शहरी क्षेत्रों में बीजेपी ने पैनी पकड़ बनाई और सीट निकाल ली. बाकी राज्य में भी पार्टी को यही लग रहा था कि चारों दल मिलकर बीजेपी को अच्छी टक्कर देंगे लेकिन मोदी की सुनामी में गठबंधन की दीवार ढह गई.

ADVERTISEMENT

अब विधानसभा चुनाव में क्या होगा?

पिछले लोकसभा चुनाव में JMM का वोट प्रतिशत 9 फीसदी था. इस बार ये बढ़कर 11 फीसदी हुआ. माना जा सकता है तो थोड़ा फायदा गठबंधन का हुआ है. 50 फीसदी वोट के साथ बीजेपी नंबर वन पर रही. कांग्रेस को चाईबासा की एक सीट मिली और उसे 15 फीसदी वोट मिले. इस लिहाज से कभी जिस राज्य में JMM की तूती बोलती थी, अब वहां वो तीसरे नंबर की पार्टी बनकर रह गई है. 2014 विधानसभा चुनाव में पार्टी ने 20 फीसदी वोटों के साथ 19 सीटें जीती थीं और राज्य में दूसरे नंबर की पार्टी थी. इस साल के अंत में झारखंड में विधानसभा चुनाव होने हैं. ऐसे में JMM के लिए अपनी साख और वजूद बचा पाना बड़ी चुनौती होगी.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
450

500 10% off

1620

1800 10% off

4500

5000 10% off

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह

गणतंत्र दिवस स्पेशल डिस्काउंट. सभी मेंबरशिप प्लान पर 10% की छूट

मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×