ADVERTISEMENT

The Y Movie Review: साल 2023 में भी महिलाओं का सिनेमा में पुराना चित्रण जारी है

The Y Movie Review: द वाय एक हॉरर फिल्म है, लेकिन फिल्म की पटकथा की बुनावट ऐसी है कि दर्शकों को तो कतई डर नहीं लगता.

Published
The Y Movie Review: साल 2023 में भी महिलाओं का सिनेमा में पुराना चित्रण जारी है
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

कभी कोई फिल्म आपको पसंद ना आए और उसके अंत में  'टू बी कंटिन्यूड' लिखा दिख जाए, तो आप कैसा महसूस करेंगे! ये अहसास आपको गिरीदेव राज की फिल्म 'द वाई' को देखकर महसूस होगा.

ADVERTISEMENT

होनहार निर्देशक जब भूतहा फिल्मों पर ध्यान लगाएं

गिरीदेव राज साल 2016 में कन्नड़ फिल्म 'जीरो मेड इन इंडिया' बनाने के लिए जाने जाते हैं, पिता-पुत्र के रिश्तो पर बनाई गई है जो फिल्म समीक्षकों और दर्शकों को बहुत पसंद आई थी. अब साल 2023 की शुरुआत में गिरीदेव बॉलीवुड के सालों पुराने पिटे हुए भूतहा फॉर्मूले को लेकर अंग्रेजी शीर्षक वाली 'द वाई' फिल्म लेकर हमारे सामने आए हैं. फिल्म की शुरुआत में एक शादीशुदा जोड़े को हम उनके नए आशियाने में जाते देखते हैं और वहां जाने के बाद उनके साथ असामान्य घटनाएं घटित होनी शुरू होती हैं. इसका हल खोजने के लिए घर में एक मनोचिकित्सक को बुलाया जाता है ,जो इन घटनाओं पर से पर्दा उठाता है.

हावभाव और संवाद अदायगी में पीछे रहते कलाकार

फिल्म के नायक युवान हरिहरन की बड़ी-बड़ी दाढ़ी मूंछे रखी गई हैं. इसे प्रदर्शित करते निर्देशक शायद यह भूल गए थे कि दक्षिण फिल्मों के कुछ अभिनेता इन बड़ी दाढ़ी मूंछों के साथ अपने अभिनय से भी प्रभावित करते हैं पर युवान के अभिनय से एक डरी हुई पत्नी के पति वाले सारे हावभाव गायब थे. दीक्षा की बात की जाए तो उनके हिस्से में संवाद बहुत कम आए हैं और बिना संवाद बोले सिर्फ अपनी खूबसूरती से ही कोई भी कलाकार दर्शकों को प्रभावित नहीं कर सकता. मनोचिकित्सक बने कमल घिमिरे को हिंदी सिनेमा में बहुत कम देखा गया है और उनके अभिनय में भी अभी बहुत सुधार की आवश्यकता है. अभिनव किरण ने फिल्म में युवान के दोस्त का किरदार निभाया है और अभिनय के मामले में वह बहुत ही कच्चे साबित हुए हैं.

पटकथा, संपादन और छायांकन पर और भी ज्यादा मेहनत की जा सकती थी

इसकी पटकथा को इतना कमजोर लिख दिया गया है कि ऐसा लगता है कि मानो फिल्म दर्शकों को डराने के लिए सिर्फ एक घड़ी पर निर्भर है. सभी कलाकारों को एक साथ बैठाकर उस घड़ी पर 11:05 बजने का इंतजार किया जाता है. मोबाइल से की हुई बातचीत का बिना स्पीकर ऑन किए दर्शकों को भी सुनाई देना समझ से परे लगता है. फिल्म के संपादन की कमान विनोद बासवराज के हाथों में है और फिल्म की शुरुआत से ही ये लगने लगता है कि आप बहुत से ऐसे दृश्यों को देख रहे हैं, जिन्हें हटाया जा सकता था.

ADVERTISEMENT

फिल्म का छायांकन ज्यादातर समय एक घर को अलग-अलग एंगल से दिखाने तक ही सीमित रहा है और ये प्रयास औसत लगता है. साउंड डिजाइन ही फिल्म की वह हिस्सा है जो इसे देखते हुए थोड़ा बहुत डर सा माहौल बनाने में कामयाबी पाता दिखता है.

फिल्म की असफलता का सबसे बड़ा कारण इसके बेअसर संवाद

'द वाई' के दर्शकों के दिलों तक न पहुंचने के सबसे बड़े कारणों में इसके संवादों का बेअसर होना है. जैसे इसमें अभिनव किरन कहते हैं 'अरे बाप रे आप बबबभूत देखने के लिए बैठे हैं. भूत क्या कोई गर्लफ्रेंड होती है कि उसे देखने के लिए तड़पे जा रहे हैं. मुझे तो सोचकर भी पैंट गीली हो जाती है'.

साल 2023 में भी महिलाओं का सिनेमा में पुराना चित्रण जारी है

फिल्म का एक सकारात्मक पक्ष ये है कि इसमें बिना शादी के माता-पिता बने जोड़ों और उनके बच्चों के बारे में दिखाया गया है. भारतीय समाज में इस तरह के बच्चों को अब भी सही नजरों से नहीं देखा जाता और द वाई में इस विषय को दिखाया जाना, सिनेमा के उद्देश्यों को पूरा करता है. हालांकि महिलाओं के हिंदी सिनेमा में चित्रण पर साल 2023 में भी कोई फर्क नहीं आया है, यहां नायिका अब भी अपने पति के लिए खाना बनाती दिखती है और उसका पति ऑफिस जाता है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
450

500 10% off

1620

1800 10% off

4500

5000 10% off

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह

गणतंत्र दिवस स्पेशल डिस्काउंट. सभी मेंबरशिप प्लान पर 10% की छूट

मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×