ADVERTISEMENTREMOVE AD

Mahabharat 27 April Episode: धृतराष्ट्र से कहा राज्य लौटा दीजिए 

सम्राट युधिष्ठिर ने भगवान श्री कृष्ण के परामर्श के बाद अपना दूत हस्तिनापुर भेजा है. 

Published
टीवी
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

महाभारत धारावाहिक में अब तक के एपिसोड में आपने देखा, भगवान श्री कृष्ण ने द्रुपद से कहा कि क्रोध से नहीं पहले शांति प्रस्ताव हस्तिनापुर के सामने रखा जाएगा. अगर वो नहीं मानते हैं तो ही युद्ध का आहवान किया जाएगा. उन्होंने कहा कि किसी ऐसे व्यक्ति को शांति प्रस्ताव लेकर हस्तिनापुर जाना चाहिए जो कि मधुर भाषा में वहां के राजा धृतराष्ट्र को समझा सके.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

सम्राट युधिष्ठिर ने भगवान श्री कृष्ण के परामर्श के बाद अपना दूत हस्तिनापुर भेजा है. इस बात को सुनकर पितामह भीष्म ने कहा कि मैं जो नहीं चाहता था वो ही हुआ. अब युद्ध होगा ही अनिवार्य है.

श्री कृष्ण से डरा शकुनि

भगवान श्री कृष्ण के परामर्श पर युधिष्ठिर ने राजा द्रुपद के राज पुरोहित को दूत बनाकर हस्तिनापुर भेजा है. जिसकी खबर सुनकर दुर्योधन का खून खौल उठा है. इसके बाद शकुनि ने दुर्योधन से कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है पहले उनकी रणनीति दो देख लो क्या है.

इसके अलावा शकुनि ने कहा कि मैं पांडवों को हमेशा के लिए अज्ञात वास में भेज सकता हूं लेकिन इस सबके बीच सिर्फ एक ही आदमी खड़ा है वो है वासुदेव श्री कृष्ण, जब तक वो पांडवों के साथ है तब तक उनका कुछ बिगाड़ पाना मुश्किल ही है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

गांधारी ने धृतराष्ट्र से कहा पांडवों को राज्य लौटा दीजिए

धृतराष्ट्र और गांधारी आपस में बात कर रहे हैं. इस दौरान गांधारी ने धृतराष्ट्र से कहा कि हमारा पुत्र दुर्योधन जो कर रहा है वो गलत है. ये राज सिंहासन युधिष्ठिर का है क्योंकि वो दुर्योधन से बड़ा है और दुर्योधन, जो कर रहा है हस्तिनापुर में जो होने वाला है वो बहुत गलत है.

हस्तिनापुर की राज्यसभा में पांडवों का संदेशा लेकर राजा द्रुपद के राज पुरोहित पहुंचे हैं. इस दौरान उन्होंने युधिष्ठिर का संदेशा सुनाया है. हस्तिनापुर पहुंचे युधिष्ठिर के शांति दूत का संदेशा सुनकर अहंकारी दुर्योधन सभा में ही उस पर चीख पड़ा. शांति दूत ने धृतराष्ट्र से कहा कि युधिष्ठिर ने अपना इंद्रप्रस्थ का राज मुकुट वापस मांगा है. जिसके बाद धृतराष्ट्र ने कहा कि मुझे इंद्रप्रस्थ लौटाने के लिए सोचने का समय मांगा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×