बिल सरोगेसी के नियमों को सुनिश्चित करने के साथ ही कॉमर्शियल सरोगेसी को बैन भी करेगा.
बिल सरोगेसी के नियमों को सुनिश्चित करने के साथ ही कॉमर्शियल सरोगेसी को बैन भी करेगा. (फोटो: टविटर)
  • 1. क्या है सरोगेसी?
  • 2. दो तरह की होती है सरोगेसी
  • 3. भारत कॉमर्शियल सरोगेसी का सबसे बड़ा बाजार
  • 4. सरोगेसी बिल के प्रावधान
  • 5. अवैध बाजार पर लगेगी लगाम
जानिए क्या होती है Surrogacy और क्या हैं सरोगेसी बिल के प्रावधान?

सरोगेसी के बारे में सुना है, लेकिन बहुत से लोग अभी भी इससे अनजान हैं. लोकसभा ने बुधवार को सरोगेसी बिल पास कर दिया. बिल सरोगेसी के नियमों को सुनिश्चित करने के साथ ही कॉमर्शियल सरोगेसी को बैन भी करेगा. हालांकि, कुछ महिला सांसदों ने मांग की है कि सिंगल पैरेंट सरोगेसी के जरिए माता या पिता बन सकें, इसके लिए बिल में प्रावधान होने चाहिए.

तो आइए आपको सरोगेसी और सरोगेसी बिल के बारे में विस्तार से समझाते हैं.

  • 1. क्या है सरोगेसी?

    मेडिकल साइंस में सरोगेसी वो विकल्‍प है, जिसकी मदद से वो महिलाएं भी मां बन सकती हैं, जो किसी भी वजह से गर्भ धारण करने में सक्षम न हों. आसान शब्दों में कहा जाए तो सरोगेसी का मतलब है 'किराये की कोख', यानी किसी दूसरी स्त्री की कोख में अपना बच्चा पालना. जो महिला अपनी कोख में किसी दूसरे कपल का बच्चा पालती है, उसे 'सरोगेट मदर' कहते हैं. कॉमर्शियल सरोगेसी के जरिये अपनी कोख से दूसरों का बच्चा जन्म देने के लिए उस सरोगेट मदर को पैसे मिलते हैं.

पीछे/पिछलाआगे/अगला

Follow our कुंजी section for more stories.

वीडियो