ADVERTISEMENT

Claustrophobia के डर और घुटन से बाहर कैसे निकलें? डॉक्टर्स से जानिए जवाब

क्लॉस्ट्रोफोबिया एक तरह का डर है, एक तरह का एंग्जाइटी डिसऑर्डर, जो किसी भी इंसान को हो सकता है.

Published
फिट
6 min read
Claustrophobia के डर और घुटन से बाहर कैसे निकलें? डॉक्टर्स से जानिए जवाब
i

हम में से ऐसे कई लोग हैं, जिन्हें किसी न किसी तरह का फोबिया यानी किसी न किसी बात से डर या घबराहट होती है. ऐसा होना बहुत ही स्वाभाविक है. फोबिया के शिकार व्यक्ति बीमार नहीं होते बल्कि एक तरह के मानसिक विकार की पीड़ा झेल रहे होते हैं.

किसी को उंचाई से डर लगता है, तो कोई लोगों की भीड़ देख घबराहट महसूस करने लगता है. कोई विशिष्ट जीव-जन्तुओं से डरता है, तो कोई बंद जगहों को देख यहां तक कि उसके बारे में सोच कर ही घबराने लगता है.

जी हां, आज हम बात करेंगे बंद जगहों से लगने वाले डर और घबराहट की यानी कि क्लॉस्ट्रोफोबिया (Claustrophobia) की. क्या ऐसा कभी आपके साथ हुआ है?

ADVERTISEMENT

जब यह सवाल मैंने अपने पहचान वालों से पूछा तो, उनमें से एक ने कहा कि उसके ससुर अक्सर यह कहा करते हैं कि चाहे जान भी चली जाए पर उन्हें कभी भी किसी भी इलाज के लिए एमआरआई (MRI) मशीन में नहीं डाला जाए.

एक और दोस्त ने बताया कि शहर में रहने के लिए फ्लैट और जॉब खोजने में उसे बहुत परेशानी हुई क्योंकि वो उंची इमारतों में जाने से कतराती है. लिफ्ट देखते ही उसे बेचैनी महसूस होने लगती है. इस कारण उसे हर दिन परेशानी का सामना करना पड़ता है.

इस तरह की बातें क्लॉस्ट्रोफोबिया का शिकार व्यक्ति ही कर सकता है. इस बात से हम अंदाजा लगा सकते हैं कि इस तरह के मेंटल डिसऑर्डर से ग्रसित व्यक्ति अनचाही स्थिति में किस पीड़ा से गुजरते होंगे.

आइये जानते हैं डॉक्टरों से कि क्लॉस्ट्रोफोबिया क्या है? क्यों होता है? इसके लक्षण क्या हैं और इसका इलाज क्या है?

क्या होता है क्लॉस्ट्रोफोबिया? 

"क्लॉस्ट्रोफोबिया यानी जब बंद जगहों में जाने पर बेचैनी वाली घबराहट महसूस हो. बंद और छोटी जगहों से डर लगना. इसकी वजह से व्यक्ति लिफ्ट में, टनल (tunnel) में या किसी भी बंद कमरे में नहीं रह पता. जब इससे घबराहट बहुत बढ़ जाती है, तो व्यक्ति को पैनिक अटैक आने लगते हैं.
डॉ प्रवीण गुप्ता, प्रिन्सिपल डायरेक्टर एंड हेड, डिपार्टमेंट ऑफ न्यूरोलॉजी, फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट

क्लॉस्ट्रोफोबिया एक तरह का डर है, एक तरह का एंग्जाइटी डिसऑर्डर है, जो किसी भी इंसान को हो सकता है. इस समस्या से पीड़ित इंसान को बंद जगहों पर या छोटी जगह पर जाने से घुटन महसूस होती है. कुछ लोगों पर ये डर इतना ज्यादा हावी होता है कि उन्हें हर तंग जगह से डर लगता है. उन्हें ऐसा महसूस होता है कि इस जगह पर उनकी सांसें चलनी बंद हो जाएगी.

"क्लॉस्ट्रोफोबिया एक तरह का मनोविकार या मानसिक रोग है, जिसमें व्यक्ति को बहुत ज्यादा डर अधिकतर तर्कहीन डर बार-बार लगता है यानी इरेशनल फीयर, जब भी वह ऐसी किसी परिस्थिति का सामना करते हैं, जहां उन्हें लगता है कि वो उस जगह से निकल नहीं पाएंगे या उस जगह में बंद हो जाएंगे."
मीमांसा सिंह तनवर, क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट एंड हेड, फोर्टिस स्कूल मेंटल हेल्थकेयर प्रोग्राम, फोर्टिस हेल्थकेयर
ADVERTISEMENT

मीमांसा सिंह तनवर आगे कहती हैं, "किसी छोटी जगह पर होना, जहां से वो अपने आपको बचा नहीं पाएंगे जैसे कि लिफ्ट के अंदर होना, बिना खिड़कियों वाले छोटे कमरे में होना या यहां तक कि हवाई जहाज या ट्रेन में बैठने से भी बहुत अधिक डर लगना. इस तरह के डर को हम क्लॉस्ट्रोफोबिया कहते हैं."

लिफ्ट में जाने के बारे में सोच कर अगर अक्सर ऐसे ख्याल आते हैं कि ये लिफ्ट बंद हो गयी तो? मैं यहीं फंसा गया तो? यह क्लॉस्ट्रोफोबिया के लक्षण हैं.

क्लॉस्ट्रोफोबिया के लक्षणों को जानें  

जिन्हें क्लॉस्ट्रोफोबिया होता है, वो जब ऐसी जगहों के संपर्क में आते हैं, जो उन्हें छोटी लगती है या उन्हें लगता है कि उस जगह से निकाल नहीं पाएंगे तो उन्हें एक तरह की बेचैनी शुरू हो जाती है. ये हैं क्लॉस्ट्रोफोबिया के लक्षण:

  • तेज घबराहट होना

  • दिल की धड़कन तेज होना

  • सांस फूलना

  • पसीना आना

  • मुंह सूखने लगना

  • डर के साथ कंपकंपी लगना

  • सीने के पास कसाव या जकड़न होना

  • जी मचलाना

  • सर दर्द और चक्कर आना

"क्लॉस्ट्रोफोबिक व्यक्ति को ख्याल आने लगता है कि उन्हें शारीरिक चोट पहुंच जाएगी. डर इतना बढ़ जाता है कि उन्हें लगता है, कि वो उस स्थिति से नहीं निकल या बच पाएंगे. तब ऐसी परिस्थिति में पैनिक अटैक आने लगते हैं. इसलिए वो ऐसी जगहों के संपर्क में आने से कतराते हैं. जैसे कि लिफ्ट की जगह सीढ़ियों से जाना, भीड़ वाली जगह देख कर लगना कि वो वहां से निकाल नहीं पाएंगे, तो वहां जाने से हमेशा इनकार करना. कोई भी ऐसी जगह जहां लगे कि वहां से निकलना संभव नहीं है या वो जगह बंद सी है, तो वो उन जगहों पर जाने से बचेंगे.
मीमांसा सिंह तनवर, क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट
यह किसी को भी और किसी भी उम्र में हो सकता है.
ADVERTISEMENT

क्लॉस्ट्रोफोबिया के कारण 

क्लॉस्ट्रोफोबिक व्यक्ति में अलग-अलग कारणों से यह समस्या पैदा होती है. क्लॉस्ट्रोफोबिया से पीड़ित ज्यादातर लोग अपने पुराने बुरे अनुभवों के बारे में बताते हैं, खासकर उनके बचपन से जुड़े. इन अनुभवों में शामिल हैं:

  • छोटी उम्र में माता या पिता से अलग होना या संयुक्त परिवार से अलग होना

  • कभी भीड़ में खोए हों या किसी गड्ढे में फंसे हों

  • वॉटर पूल में गिर गए हों और तैरना न आता हो

  • किसी जगह/कमरे/लिफ्ट में बंद हो गए हों

ऐसी परिस्थितियों के ट्रॉमा से गुजरने के बाद मन में डर घर कर जाता है कि कहीं दोबारा उन्हें इससे गुजरना न पड़े. साथ ही अगर परिवार में किसी व्यक्ति को इस तरह की परेशानी है और घर का बच्चा उनके संपर्क में हमेशा रहता है, तो उसमें भी यह फोबिया होने की आशंका बढ़ जाती है.

क्लॉस्ट्रोफोबिया के ट्रिगर्स 

क्लॉस्ट्रोफोबिया का कोई बना बनाया नियम नहीं है. हर व्यक्ति के लिए यह अलग अनुभव होता है. लक्षण, कारण, ट्रिगर और इलाज सभी के लिए अलग होते हैं.

  • लिफ्ट

  • बिना खिड़की वाले छोटे कमरे

  • भीड़भाड़ वाली जगह

  • सुरंग

  • एलिवेटर्स

  • अंडरग्राउंड ट्रेन

  • बेसमेंट

  • हवाई जहाज

  • सार्वजनिक शौचालय

  • एमआरआई स्कैनर्स (MRI scanners)

कैसे दूर करें क्लॉस्ट्रोफोबिया की समस्या?

"कई थेरेपी मौजूद हैं. जिसमें व्यक्ति को उसी परिस्थिति में ला कर उसके डर को मिटाया जाता है. इसके साथ कॉग्नेटिव बिहेवियरल थेरेपी (cognitive behaviour) थेरेपी है, जो व्यक्ति के मस्तिष्क को ट्रेन करती है कि वो अपने डर/घबराहट पर काबू कैसे पाए. कई दवाइयां हैं, जो इस स्थिति में मदद करती हैं."
डॉ प्रवीण गुप्ता

मीमांसा सिंह तनवर फिट हिंदी से कहती हैं, "अगर इस डर की वजह से आपको बहुत ज्यादा परेशानी हो रही है. जैसे कि आप बाहर नहीं जा पा रहे हैं, जगहों को अवॉइड कर रहे हों, तो जरुरी है कि आप इसका इलाज किसी मनोवैज्ञानिक के पास जा कर कराएं. जहां पर 2 चीजों का उपयोग किया जाता है".

  • साइकलाजिकल थेरेपी - जिसे कॉग्नेटिव बिहेवियरल थेरेपी (cognitive behaviour) कहते हैं. इससे पीड़ित व्यक्ति को धीरे-धीरे उनके डर से सामना कराना होता है, जिससे वो उस स्थिति से लड़ना सीख जाएं और उनका डर कम हो जाए या खत्म हो जाए. इस स्थिति का वैज्ञानिक तरीके से इलाज किया जाता है.

  • दवाइयों का इस्तेमाल - जहां पर भी जरुरत पड़ती है, वहां पर दवाइयों का भी इस्तेमाल किया जाता है ताकि घबराहट कम हो जाए.

"इन दोनों तरीकों का उपयोग करते हुए हम मेंटल डिसऑर्डर, क्लॉस्ट्रोफोबिया को कम कर पाते हैं. थेरेपी का फायदा होता है और धीरे-धीरे क्लॉस्ट्रोफोबिया से परेशान व्यक्ति उसके चुंगल से मुक्त हो जाते हैं."
मीमांसा सिंह तनवर
ADVERTISEMENT

क्लॉस्ट्रोफोबिक लोगों को समझें

यह एक मानसिक विकार (mental disorder) है. ऐसे व्यक्ति की ऐंजाइयटी उसके कंट्रोल में नहीं होती है.

सबसे पहले तो किसी भी परेशानी से जूझते व्यक्ति को समझना और उसके प्रति संवेदनशील होना ही हमें इंसान बनाता है.

  • क्लॉस्ट्रोफोबिक व्यक्ति को समझें और उन्हें सही-गलत समझाने या ज्ञान देने की जगह उनके प्रति संवेदनशील बनें. परिवार और दोस्तों को ये समझना चाहिए कि अगर कोई बार-बार ऐसी स्थिति में परेशान हो रहा है, घबरा रहा है और उस स्थिति से बचने की कोशिश कर रहा है, तो उनके लिए सेन्सिटिव बने और समझें कि कोई परेशानी जरुर है.

  • परिवार या जान पहचान में ऐसा कोई हो, जो बार-बार किसी जगह पर जाने से कतरा रहे हैं. जिसकी वजह से उनके दिनचर्या में रुकावट आ रही हो, तो उन्हें थेरपिस्ट की सहायता लेने के लिए प्रोत्साहित करें.

  • इसे वैज्ञानिक तरीके से ठीक किया जाना चाहिए. थेरपिस्ट धीरे-धीरे उन विषयों से जुड़े डर को उनके दिलो दिमाग से दूर करते हैं और साथ में रिलैक्सेशन एक्सरसाइज की भी मदद लेते हैं. इस तरीके से थेरपिस्ट क्लॉस्ट्रोफोबिक व्यक्ति के ऐंजाइयटी और डर को दूर भागते हैं.

  • जहां दवा की जरुरत होती है, वहां दवा भी दी जाती है.

परिवार, दोस्तों और थेरेपी की मदद से इस मेंटल डिसॉर्डर से बाहर निकला जा सकता है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×