ADVERTISEMENT

Summer Lifestyle: गर्मियों में भूख नहीं या कम लगने की ये है वजह

आपके खाए जाने वाले फूड और बाहर के मौसम के बीच गहरा रिश्ता है. हम बता रहे हैं कि ऐसा क्यों है.

Published
फिट
5 min read
Summer Lifestyle: गर्मियों में भूख नहीं या कम लगने की ये है वजह
i

भारत में तापमान में बहुत ज्यादा उतार-चढ़ाव कोई अनोखी बात नहीं है. लू, शीतलहर, लंबी चिलचिलाती गर्मी और हड्डियां कंपा देने वाली बर्फीली सर्दियां दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में जिंदगी का हिस्सा है.

अगर आप कभी जबरदस्त गर्मी और जबरदस्त सर्दी दोनों मौसमों से गुजरे हैं, तो आपको पता चल जाएगा कि हम किस बारे में बात कर रहे हैं- सर्दियों में किस तरह आपका मन लगातार घी-तेल से बना भारी-भरकम खाना जिसमें ढेरों चीजें पड़ी हों, खाने का करता है.

गर्मियों में भारी-भरकम, घी-तेल वाला खाने खाने का सिर्फ ख्याल भी आपको बेचैन कर देने वाले पेट भर जाने का अहसास करा सकता है.

ADVERTISEMENT

तो, क्या चल रहा है भाई? गर्मियों में हमारी भूख क्यों कम हो जाती है? सर्दी अपने आप गर्म, पौष्टिक भोजन की चाहत क्यों जगा देती है? और गर्मी आपकी भूख पर कैसे असर डालती है?

आइए पता लगाते हैं.

यह समझने के लिए कि गर्मी आपकी बॉडी पर कैसे असर डालती है, आपको दो कॉन्सेप्ट को समझने की जरूरत है- थर्मोरेगुलेशन (thermoregulation) और थर्मोजेनेसिस (thermogenesis).

थर्मोरेगुलेशन (thermoregulation)- ‘थर्म’ शब्द ग्रीक भाषा से आया है, जिसका मतलब है गर्मी.

थर्मोरेगुलेशन वह प्रक्रिया है, जिसके जरिये गर्म खून वाले स्तनधारी अपने असल तापमान को बनाए रखते हैं. हम पहले ही चर्चा कर चुके हैं कि बहुत तेज गर्मी (extreme heat) में शरीर का क्या हाल होता है.
ADVERTISEMENT

फिर भी याद दिलाने के लिए एक बार दोबारा बता दें: इंसानी शरीर का आंतरिक तापमान (internal temperature) लगभग 36.8 डिग्री सेल्सियस है, इसमें 0.5 डिग्री सेल्सियस कम या ज्यादा हो सकता है. अगर आपका आंतरिक तापमान 2-5 डिग्री तक बढ़ जाता है या घट जाता है, तो आप हाइपोथर्मिया (hypothermia) और फ्रॉस्टबाइट (frostbite) (अगर बहुत ठंड है) या हाइपरथर्मिया (hyperthermia) और हीटस्ट्रोक (heatstroke) (अगर बहुत गर्मी है) का शिकार हो सकते हैं.

जब बाहर का तापमान आपके आंतरिक तापमान से नीचे चला जाता है, तो आपका शरीर खुद को गर्म कर इसकी भरपाई करता है. जब बाहरी तापमान आपके आंतरिक तापमान से ज्यादा हो जाता है, तो आपका शरीर खुद को ठंडा रखने की कोशिश में पसीना बहाता है.

आपके आंतरिक तापमान पर कई वजहें असर डालती हैं, इनमें शामिल हैं:

  • बाहर का तापमान

  • कपड़े

  • एक्सरसाइज या कामकाज

  • खाना

  • सोना

  • कुछ खास दवाएं

फूड एक ऐसी खास वजह है, जो आपके शरीर के तापमान पर असर डालती है. यहीं पर दूसरा कॉन्सेप्ट आता है- थर्मोजेनेसिस (thermogenesis).

थर्मोजेनेसिस (thermogenesis) मेटाबोलिक एक्टिविटी है, जिससे गर्मी पैदा होती है.

खाने और एक्सरसाइज जैसी एक्टिविटी बाई-प्रोडक्ट के रूप में गर्मी पैदा करती हैं. इसलिए, जब आप मध्यम से लेकर सघन शारीरिक एक्सरसाइज करते हैं, तो आपको पसीना आने लगता है. आपका शरीर गर्मी पैदा करता है, और आप अपने आप को ठंडा रखने और आंतरिक तापमान को नियंत्रित करने के लिए पसीना बहाते हैं.
ADVERTISEMENT

आप जो खाना खाते हैं उसका असर आपके शरीर के तय तापमान पर भी पड़ता है. कुछ फूड पचाने के दौरान ज्यादा गर्मी पैदा करते हैं, जबकि बाकी कम.

इसे फूड के थर्मिक इफेक्ट (thermic effect of food TEF) या डाइट के चलते थर्मोजेनेसिस (diet-induced thermogenesis DIT) के नाम से जाना जाता है. फूड्स के बाई प्रोडक्ट के तौर पर पैदा गर्मी की मात्रा इस आधार पर घटती-बढ़ती है कि आप फैट, प्रोटीन या कार्बोहाइड्रेट्स ले रहे हैं या नहीं.

इसके अलावा आपके फूड में पानी की मात्रा भी उसके थर्मिक इफेक्ट पर असर डालती है. 2004 की एक स्टडी ने तमाम पोषक तत्वों और उनके TEF के बारे में यह जानकारी दी:

“रिपोर्ट में अलग न्यूट्रीएंट्स की DIT वैल्यू इस तरह बताई गई है. फैट के लिए 0 से 3 फीसद, कार्बोहाइड्रेट के लिए 5 से 10 फीसद, प्रोटीन के लिए 20 से 30 फीसद और अल्कोहल के लिए 10 से 30 फीसद. स्वास्थ्य के नजरिये से 24 घंटे में शरीर में ली गई एनर्जी की कुल मात्रा में मिक्स डाइट वाले DIT की लगभग 10 फीसद हिस्सेदारी होती है.”

तो, संक्षेप में कह सकते हैं कि आपके द्वारा खाए जाने वाले फूड्स में पोषक तत्व अलग-अलग मात्रा में गर्मी पैदा करेंगे और आपके शरीर को अलग तापमान पर गर्म करेंगे.

ADVERTISEMENT

फैट और प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट्स के मुकाबले ज्यादा थर्मोजेनिक होते हैं, और इसके नतीजे में इन्हें खाने के बाद वे आपको गर्म महसूस कराएंगे, यहां तक कि कभी-कभी शरीर को ठंडा रखने के लिए पसीना भी आएगा.

इसलिए आपको “मीट स्वीट्स (meat sweats)” का कुछ अनुभव होगा- जिसमें आपको प्रोटीन और/या कार्बोहाइड्रेट और फैट वाला फूड खाने के बाद पसीना आता है.

इसलिए गर्मियों में आपका बहुत ज्यादा फैटी मीट खाने का मन नहीं करता है(खासकर अगर आप भारत जैसे ट्रॉपिकल देश में रहते हैं). आपका शरीर परेशान करने वाली हालत तक गर्म हो जाता है.

तो जैसे-जैसे आपका कोर टैंप्रेचर बढ़ेगा, धीरे-धीरे आप ज्याद बेचैनी महसूस करेंगे.

संक्षेप में कहें तो, बेचैनी, थकान, भ्रम, चक्कर आना, मांसपेशियों में ऐंठन, डीहाईड्रेशन होता है और गंभीर मामलों में हीट स्ट्रोक, अंग का काम करना बंद कर देना और यहां तक कि मौत भी हो जाती है. तो, आपको शरीर को सीमा से ज्यादा गर्म होने से बचाने और हाईथर्मोजेनिक असर को कम करने के लिए फूड्स की आपकी भूख घट जाती है.

अगर आप अपनी रोमजर्रा की एनर्जी जरूरतों को पूरा नहीं कर पाते हैं, तब भी आप भूखा महसूस करते हैं, इस वजह से लगातार भूख का अहसास होगा, लेकिन आपको तेज भूख नहीं लगेगी (जब तक कि आप वर्कआउट या मध्यम स्तर की एक्सरसाइज नहीं करते).

यह सिर्फ अंदाजे या अधकचरे विज्ञान पर आधारित नहीं है. बाकायदा स्टडी की गई है और ऐसा साबित किया गया है कि गर्मी बढ़ने पर इंसान कम खाते हैं.

उदाहरण के लिए, अलग-अलग भौगोलिक क्षेत्रों में सैनिकों की भूख पर गर्मी के असर को लेकर 1947 में हुई एक स्टडी के इस अंश को लें.

ADVERTISEMENT
स्टडी में पाया गया कि कनाडियन आर्कटिक से ट्रॉपिकल फिलीपींस तक पैदल सैनिकों को जितना चाहें उनकी मर्जी के हिसाब से खाना देने के बावजूद दोनों समूहों के खाना खाने की मात्रा अलग थी.

ट्रॉपिकल देशों में सैनिकों ने एक दिन में औसतन 3100 कैलोरी खाई, जबकि आर्कटिक क्षेत्र में सैनिकों ने एक दिन में करीब 4900 कैलोरी खाई.

ऐसे ही नतीजे 1964 में एक और स्टडी में सामने आए, जिसमें यूनाइटेड किंगडम में तैनात सैनिकों की तुलना में यमन में तैनात सैनिकों के खाने में 25 फीसद की कमी पाई गई.

“शरीर को गर्म या ठंडा रखने के लिए एनर्जी खर्च की एक पारस्परिक प्रक्रिया है. आपका शरीर इस प्रक्रिया में एनर्जी खर्च करता है. जब यह ठंडा होता है, तो आप खुद को गर्म रखने के लिए एनर्जी खर्च करते हैं. और आपको खुद को ठंडा रखने की तुलना में गर्म रखने के लिए आमतौर पर ज्यादा एनर्जी की जरूरत होती है. इसलिए गर्मियों में हमें हाई एनर्जी फूड्स जैसे कि फैट वाले फूड्स खाने की भूख नहीं लगती.”
डॉ. अश्विनी सेतिया

आप इस प्रक्रिया में ढेर सारा इलेक्ट्रोलाइट्स गंवा देते हैं, और जैसा कि हमने पहले बताया है, जब सोडियम जैसे इलेक्ट्रोलाइट्स शरीर से निकलते हैं, तो आपका शरीर इन खोए हुए इलेक्ट्रोलाइट्स और लिक्विड को वापस पाने की पूरी कोशिश करता है.

और ऐसे में होता यह है कि ढेर सारे कम कैलोरी वाले फूड्स जैसे फल और पत्तेदार सब्जियां आपके शरीर की जरूरत को पूरा करने के लिए लिक्विड उपलब्ध कराते हैं.

तो संक्षेप में कह सकते हैं कि लोग ठंड में ऐसा खाना ज्यादा खाने की ख्वाहिश रखते हैं, जो रिच और फैट से भरा हो, जबकि गर्मियों में कम जरूरत है, खासकर जब वे पहले से ही उस गर्मी का असर कम करने की कोशिश कर रहे हों जो उन्हें झेलनी है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×