ADVERTISEMENTREMOVE AD

MP: पन्ना में बस कंडक्टर की कपड़े उतारकर पिटाई, वीडियो वायरल, 7 आरोपी गिरफ्तार

क्विंट हिंदी ने इस मामले में शिकायत दर्ज कराने वाले कंडक्टर से बात की जिसने बताया कि पूरा मामला क्या है.

Published
छोटा
मध्यम
बड़ा

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में एक बार फिर शख्स के कपड़े उतारकर पिटाई करने का मामला सामने आया है. पन्ना जिले के शंकरगढ़ में मामूली सीट विवाद को लेकर बदमाशों ने बस के कंडक्टर की कपड़े उतारकर डंडों से पिटाई कर दी. इसके अलावा कंडक्टर और अन्य यात्रियों के साथ भी मारपीट की गई. गुडों ने बस में भी तोड़फोड़ की. मामले में 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया गया. अदालत ने सभी गिरफ्तार आरोपियों को जेल भेज दिया है.

क्विंट हिंदी ने इस मामले में शिकायत दर्ज कराने वाले कंडक्टर से बात की जिसने चीजों का बातों का खुलासा किया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

क्या है पूरा मामला?

मध्य प्रदेश में सूरत से रीवा के बीच चलने वाली श्रीमहामाया ट्रांसपोर्ट की एक बस सूरत से 1 सितंबर को रवाना हुई. शाम करीब 4 बजे बस भरूच स्टैंड पर पहुंची तो एक यात्री साजुल सिंह परमार बस में सवार हुआ. कंडक्टर मदन तिवारी ने उसे चार सीटर पर बैठाया, इससे यात्री नाराज हो गया और अपने लिए अलग सीट की मांग करने लगा. कंडक्टर ने कहा कि अलग से सीट की व्यवस्था नहीं है. इसपर यात्री भड़क गया और बोला कि शंकरगढ़ पहुंचने पर बताता हूं.

क्विंट हिंदी को प्राप्त FIR की कॉपी के अनुसार, बस 3 सितंबर को सुबह करीब 3 बजे शंकरगढ़ पहुंची तो यात्री ने अपने 3 साथियों को बुला लिया. इन्होंने बस के सामने पत्थर लगाकर बस को रोक दिया.

शिकायत के अनुसार, बदमाशों ने कंडक्टर उमेश तिवारी से शराब पीने के लिए 500 रुपये मांगे और पैसे न देने पर डंडों से उसकी पिटाई कर दी. इसके अलावा खलासी की कपड़े उतारकर पिटाई की गई. इसमें दोनों को शारीरिक चोटें आई हैं. आरोपियों ने बस के ड्राइवर और अन्य यात्रियों के साथ भी बदसलूकी और मारपीट की. इसके साथ ही उन्होंने बस का शीशा भी तोड़ दिया.

एक कंडक्टर से विवाद, दूसरे की कर दी पिटाई

बस के कंडक्टर उमेश कुमार तिवारी ने इस मामले की शिकायत थाने में दर्ज कराई. उन्होंने क्विंट हिंदी से बातचीच में बताया कि जब यात्री से शुरू में सीट को लेकर विवाद हुआ था तब मनीष तिवारी बस में कंडक्टर थे, लेकिन पवई से कंडक्टर बदल जाता है. वहां से उमेश तिवारी की ड्यूटी शुरू हो गई.

इसके बाद बस शंकरगढ़ पहुंची तो आरोपियों ने खलासी को गाली देकर नीचे बुलाया और कपड़े उतारकर उसकी पिटाई कर दी. उस वक्त बस में ज्यादातर यात्री सो रहे थे, जो शोर सुनकर उठ गए.

कंडक्टर उमेश तिवारी ने बताया कि 2 यात्रियों ने खलासी को बचाने की कोशिश की तो आरोपियों ने उनकी भी पिटाई कर दी. घटना के वक्त बस में 36 यात्री सवार थे. जिस खलासी की कपड़े उतारकर पिटाई की गई वो आदिवासी है.

घटना का CCTV फुटेज वायरल, 7 आरोपी गिरफ्तार

ये पूरी घटना बस में लगे सीटीटीवी कैमरे में कैद हो गई, जिसके बाद घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है. वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि आरोपी गालियां दे रहे हैं और लाठी-डंडों से पिटाई कर रहे हैं. पुलिस ने इस मामले में FIR दर्ज कर 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

कमलनाथ ने शिवराज सरकार को घेरा

इस मामले में राजनीतिक लोगों की प्रतिक्रिया भी सामने आई है. कांग्रेस नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर शिवराज सरकार को घेरा. उन्होंने कहा, "शिवराज के शर्मनाक राज में 18 साल में एक ऐसा भाजपाई तंत्र खड़ा किया है जो 'आदिवासियों का दुश्मन' है".

(इनपुट- अब्दुल वसीम अंसारी)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×