राज्यसभा सांसद अमर सिंह का सिंगापुर में निधन, PM मोदी ने जताया दुख

अमर सिंह का पिछले कई महीनों से इलाज चल रहा था

Updated01 Aug 2020, 01:14 PM IST
भारत
2 min read

लंबे समय से बीमार चल रहे राज्यसभा सांसद अमर सिंह का निधन हो गया है. उनका पिछले कई महीनों से सिंगापुर में इलाज चल रहा था. जिसके बाद उनकी हालत कुछ ठीक नहीं थी. अमर सिंह का पिछले दिनों किडनी ट्रांसप्लांट भी हुआ था.

इससे पहले अमर सिंह की मौत को लेकर अफवाह उड़ाई गई थी, जिसके बाद उन्होंने खुद हॉस्पिटल से एक वीडियो जारी कर कहा था कि ‘टाइगर जिंदा है. उन्होंने इस वीडियो में कहा था,

“रुग्ण हूं, त्रस्त हूं व्याधि से लेकिन संत्रस्त नहीं हूं. हिम्मत बाकी है, जोश बाकी है और होश भी बाकी है. हमारे शुभचिंतक और मित्रों ने बड़ी तेजी से अफवाह फैलाई कि यमराज ने मुझे अपने पास बुला लिया है. ऐसा बिल्कुल नहीं है. मेरा इलाज चल रहा है.”

साथी नेताओं ने जताया दुख

अमर सिंह के निधन पर कई नेताओं ने भी दुख जताया है. क्योंकि वो एक वरिष्ठ नेता थे और हर पार्टी के साथ उनके बेहतर संबंध थे, इसीलिए आज उनके निधन पर तमाम नेता दुख जता रहे हैं.

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी अमर सिंह की मौत पर दुख जताया. उन्होंने ट्विटर पर लिखा,

“वरिष्ठ नेता एवं सांसद श्री अमर सिंह के निधन के समाचार से दुःख की अनुभूति हुई है. सार्वजनिक जीवन के दौरान उनकी सभी दलों में मित्रता थी. स्वभाव से विनोदी और हमेशा ऊर्जावान रहने वाले अमर सिंह जी को ईश्वर अपने श्रीचरणों में स्थान दें। उनके शोकाकुल परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं.”
राजनाथ सिंह

अमर सिंह के निधन को लेकर पीएम मोदी ने भी ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा कि

“अमर सिंह एक एनर्जेटिक फिगर थे. पिछले कुछ दशकों में उन्होंने कई बड़े राजनीतिक बदलाव काफी करीब से देखे. उन्हें उनकी दोस्ती के लिए जाना जाता था. उनके निधन से दुखी हूं. उनके परिवाार और दोस्तों के प्रति संवेदना, ओम शांति”
पीएम मोदी

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्विटर पर अपनी संवेदना व्यक्त की.

केंद्रीय मंत्री नितन गडकरी ने भी अमर सिंह के निधन पर दुख जताया और उनकी आत्मा की शांति की प्रार्थना की.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी अमर सिंह के परिवार के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त कीं.

यूपी की राजनीति के दिग्गज नेता

अमर सिंह का नाम उत्तर प्रदेश के बड़े नेताओं में शुमार था. उन्हें समाजवादी पार्टी के मुखिया रहे मुलायम सिंह यादव का काफी करीबी माना जाता था. हालांकि बाद में वो समाजवादी पार्टी से अलग हो गए थे. जिसके बाद पिछले साल हुए लोकसभा चुनावों में ये भी कयास लगाए गए कि वो मुलायम सिंह यादव के खिलाफ मैदान में उतर सकते हैं. हालांकि बाद में खुद अमर सिंह ने इससे इनकार कर दिया था.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 01 Aug 2020, 11:44 AM IST
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!