कोरोना के आंकड़े बढ़ने पर एक्सपर्ट्स: ‘वायरस कह रहा रहो सावधान’

क्या एक बार फिर लॉकडाउन होगा?

Published
भारत
4 min read
क्या एक बार फिर लॉकडाउन होगा?
i

एक बार फिर महाराष्ट्र में कोरोना के आंकड़ों में उछाल देखने को मिल रहा है. फिर से लॉकडाउन का खतरा मंडरा रहा है. 22 फरवरी को राज्य में पिछले 24 घंटों में 6,971 नए मामले और 2417 रिकवरी देखने को मिलीं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, सक्रिय मामलों की संख्या 54149 है.

क्या ये कोरोना की दूसरी वेव है? क्या हमें चिंता करनी चाहिए? वेलोर के क्रिस्चियन मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्रोफेसर और वायरोलॉजिस्ट डॉ जैकब जॉन और COVID-19 पर महाराष्ट्र सरकार के टेक्निकल एडवाइजर डॉ सुभाष सालुंखे ने इन सवालों के जवाब दिए.

मुख्य सवाल क्या है?

डॉ जैकब जॉन ने कहा, "कोई भी एपिडेमियोलॉजिस्ट पहला सवाल यही पूछेगा कि क्या ये नए संक्रमण हैं, मतलब कि उन लोगों में जो पहले कभी संक्रमित नहीं हुए या दोबारा संक्रमण हुआ है."

डॉ जॉन ने कहा कि अगर नए संक्रमण हैं तो मामलों में तेजी ‘अनुशासन में कमी, इकट्ठा होना और हाइजीन न बनाए रखने की वजह से हुआ होगा और अगर दोबारा संक्रमण हुआ है, तो हमें ध्यान रखना होगा और अलर्ट रहना होगा क्योंकि इसका मतलब है कि कोई वैरिएंट इम्युनिटी नेट से बच गया है.’ 

डॉ जैकब जॉन ने कहा कि हमें और टेस्ट करने होंगे और देखना होगा कि ये किस वैरिएंट की वजह से हो रहा है. उन्होंने दोबारा संक्रमण जो ज्यादा चिंताजनक स्थिति बताया.

डॉ सुभाष सालुंखे ने कहा, "हर वायरस और खासकर महामारी फैलाने वालों में म्युटेशन कॉमन बात है, ये कुछ अलग नहीं है. हमारे भारतीय वायरस में भी कई म्युटेशन हैं, वायरोलॉजिस्ट कहते हैं कि ये 3-4000 म्युटेशन हैं और ये चलता रहेगा. कुछ संक्रामकता बढ़ाएंगे और कुछ इसका प्रभाव."

डॉ सालुंखे ने कहा कि NIV और ICMR में वायरोलॉजिकल टेस्ट हो रहे हैं और उनके नतीजे आने के बाद विश्वास के साथ कुछ कहा जा सकता है.

“एपिडेमियोलॉजिकल टेस्ट से हम कुछ जिलों में ट्रांसमिशन में तेजी देख रहे हैं. पहले हर एक परिवार में हम एक-दो केस देखते थे. अब हम पूरा परिवार देख रहे हैं जो संक्रमित है. इससे वायरल एक्टिविटी में कुछ बदलाव के संकेत मिलते हैं. लेकिन साफ तस्वीर के लिए और टेस्टिंग की जरूरत है.”
डॉ सुभाष सालुंखे, COVID-19 पर महाराष्ट्र सरकार के टेक्निकल एडवाइजर

क्या एक बार फिर लॉकडाउन होगा?

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने 21 फरवरी को लोगों को संबोधित करते हुए कहा था कि 'अगर नियमों का पालन ठीक से नहीं किया गया तो पूरे राज्य में लॉकडाउन लग सकता है.' अमरावती जिले में एक हफ्ते का लॉकडाउन लगाया जा चुका है.

डॉ जॉन का कहना है कि अगर ये नया वैरिएंट भी है तो भी 'उन्हें पूरे भारत में नई वेव की आशंका नहीं लगती.' डॉ जैकब जॉन ने कहा, "हम शुरुआत से शुरू नहीं कर रहे हैं, हमारे पास जानकारी है और लोग भी चीजें जानते हैं."

डॉ जॉन ने कहा कि 'वायरस लोगों के बर्ताव का इस्तेमाल करता है- इसलिए ज्यादा भीड़ लगाना, बड़ी गेदरिंग, बिना मास्क पहने निकलना और ऐसे ही कदम स्थिति को खराब कर देंगे.'

“ये वायरस है, ये अपनी तरह से बढ़ता है. हमें अपना बर्ताव बदलना पड़ेगा और फैसला करना होगा कि इसे अपने घर में कितना बुलाना है. ये लोगों पर निर्भर करता है.” 
डॉ सुभाष सालुंखे, COVID-19 पर महाराष्ट्र सरकार के टेक्निकल एडवाइजर

डॉ सालुंखे लोगों को उनकी सुविधाओं की याद दिलाते हुए कहते हैं कि '10-15 दिन के लॉकडाउन को बुरा नहीं माना जाएगा लेकिन ये दिहाड़ी मजदूरों और कम कमाने वालों के लिए बड़ी दिक्कतें पैदा कर देगा."

छोटे जिलों में तेजी क्यों आई?

पिछले एक हफ्ते में महाराष्ट्र में 200 से ज्यादा मामले सामने आए हैं और छह जिले- रत्नागिरी, बीड़, सिंधुदुर्ग, रायगढ़, सतारा और अमरावती में रोजाना मौतों का आंकड़ा बढ़ा है.

“आंकड़े डबल होने का समय अब 8 दिन हो गया है, जो असामन्य है. डबलिंग टाइम 1 या 2 महीने हुआ करता था. अमरावती में हमने करीब 700 लोगों को टेस्ट किया, जिनमें लक्षण नहीं थे लेकिन 350 लोगों का टेस्ट पॉजिटिव आया, जो कि करीब 50 फीसदी पॉजिटिविटी रेट है. ये काफी ज्यादा है. ये सब दिखाता है कि ट्रांसमिशन तेजी से हो रहा है.” 
डॉ सुभाष सालुंखे, COVID-19 पर महाराष्ट्र सरकार के टेक्निकल एडवाइजर

डॉ सालुंखे ने कहा कि वायरस वैसे ही बर्ताव कर रहा है, जैसा उन्होंने सोचा था. उन्होंने कहा कि महामारी का वायरस एक दिन में नहीं चला जाता है और छोटी वेव देखने को मिल सकती हैं, लेकिन इसे नियंत्रित करना लोगों के हाथों में है.

डॉ सालुंखे ने कोरोना मामले बढ़ने की वजहों पर जोर देते हुए कहा कि 'आजकल शादियों में 50 लोगों के प्रोटोकॉल का पालन नहीं हो रहा है, लोग बिना मास्क के घूम रहे हैं." उन्होंने कहा, "हमने वायरस की बेइज्जती करने की कोशिश की, अब वो हमें प्रतिक्रिया दे रहा है."

डॉ जैकब जॉन ने कहा, "हमें छोटे क्षेत्रों में माइक्रो-वेव देखने को मिल सकती हैं."

“हमें पता है कि हमें क्या करना है. सोचिए कि आपको पता है कि आप गड्ढे में गिरने वाले हैं, तो फैसला आप पर है.”
डॉ सुभाष सालुंखे, COVID-19 पर महाराष्ट्र सरकार के टेक्निकल एडवाइजर

और किन राज्यों में बढ़ सकते हैं केस?

महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में कोरोना के आंकड़ों में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है.

डॉ जैकब का कहना है कि केरल में केस का नंबर ज्यादा है, लेकिन 'नवंबर में पीक के बाद से वो डाउनवार्ड ट्रेंड पर है. वहां सेकंड वेव आ चुकी है और अब ग्राफ नीचे जा रहा है.'

“हमें केरल के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है, वो अच्छे से मैनेज कर रहे हैं. भारत की राष्ट्रीय औसत मृत्यु दर 1.4 फीसदी है, जबकि केरल की 0.039% है, ये काफी अंतर है.” 
डॉ जैकब जॉन

डॉ जॉन कहते हैं कि केरल अपने डेटा को लेकर सबसे पारदर्शी है और टेस्टिंग भी बहुत प्रभावी रही है. उन्होंने कहा, "पंजाब और महाराष्ट्र में भी तेजी कम है, ये इशारा है कि हम सावधान हो जाएं और हमें आंकड़ों को अच्छे से देखना होगा."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!