दिल्ली अग्निकांड: बिल्डिंग मालिक रेहान गिरफ्तार,10 बड़ी बातें

150 दमकल कर्मियों ने बचाव अभियान चलाया और 63 लोगों को बिल्डिंग से बाहर निकाला

Updated
भारत
2 min read
150 दमकल कर्मियों ने बचाव अभियान चलाया और 63 लोगों को बिल्डिंग से बाहर निकाला
i

देश की राजधानी के बीचों बीच स्थित रानी झांसी रोड पर चार मंजिला फैक्ट्री में रविवार सुबह लगी भीषण आग में 43 लोग मारे गए. 150 दमकल कर्मियों ने बचाव अभियान चलाया और 63 लोगों को बिल्डिंग से बाहर निकाला.

आग हादसे का शिकार हुई बहुमंजिला इमारत के पास दमकल विभाग की मंजूरी नहीं थी. बिल्डिंग के मालिक रेहान को गैर-इरादतन हत्या के केस में गिरफ्तार कर लिया गया है.

आखिर ये आग कैसे लगी, हादसे में अब तक क्या-क्या हुआ, 10 बड़ी बातें

  1. दिल्ली अग्निकांड में मारे गए सभी लोग मजदूर थे और जब सुबह 4.30 और 5 बजे के बीच आग लगी तब वह सभी सो रहे थे.
  2. अग्निशमन विभाग ने बताया कि आग लगने की जानकारी उन्हें सुबह करीब 5.22 पर मिली, जिसके बाद 25 दमकल गाड़ियां मौके पर पहुंच गईं.
  3. जिस जगह आग लगी, वहां आसपास होजरी, पॉलिथिन और कपड़े बनाए जाने की छोटी-छोटी फैक्ट्रियां चल रही थीं. बताया जा रहा है कि इन्हीं में से एक बिल्डिंग में शॉर्ट सर्किट से आग लगी है. इसके बाद आसपास धुंआ और आग फैल गई.
  4. दमकल अधिकारियों ने बताया कि इलाके के संकरा होने के कारण बचाव काम को अंजाम देने में दिक्कत आई. जब आग लगी तो कई मजदूर गहरी नींद में थे. इमारत में हवा आने-जाने की उचित व्यवस्था नहीं थी इसलिए कई लोगों की जान दम घुटने से चली गई.
  5. सभी झुलसे हुए लोगों और मृतकों को सफरदरगंज, हिंदूराव और LNJP हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां लोग अपने रिश्तेदारों को ढूंढने में लगे हैं.
  6. दिल्ली अग्निशमन सेवा के डायरेक्टर अतुल गर्ग ने बताया कि बिल्डिंग के लिए न तो दमकल सेवा की मंजूरी ली गई थी और न ही परिसर में अग्नि सुरक्षा उपकरण लगे हुए पाए गए.
  7. पुलिस ने बताया कि फैक्ट्री मालिक के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 304 (गैरइरादन हत्या) के तहत मामला दर्ज किया गया है. आरोप है कि फैक्ट्री मालिक ने सुरक्षा मानदंडों का पालन नहीं किया.
  8. दिल्ली सरकार ने अग्निकांड में मारे गए लोगों को 10-10 लाख रुपये और झुलसे लोगों को एक-एक लाख रुपये मुआवजा देने का ऐलान किया है.
  9. दिल्ली के राजस्व मंत्री कैलाश गहलोत ने जिला मजिस्ट्रेट (मध्य) को जांच करने और सात दिन के अंदर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है.
  10. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना में मारे गए लोगों के परिजन के लिए दो-दो लाख रुपये और झुलसे लोगों को 50-50 हजार रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!