ADVERTISEMENT

खराब मौसम में पायलट ने खोया था कंट्रोल, क्रैश हुआ CDS रावत का हेलिकॉप्टर- IAF

फ्लाईट डाटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर के विश्लेषण से शुरुआती जांच में जानकारी मिली है

Updated
भारत
1 min read
<div class="paragraphs"><p>तमिलनाडु के कुन्नूर में बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर क्रैश</p></div>
i

भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत (CDS General Bipin Rawat), उनकी पत्नी और 12 लोगों की जिस अत्याधुनिक हेलिकॉप्टर Mi-17 V5 दुर्घटना में मौत हो गयी थी, शुक्रवार को इस हादसे के कारणों का खुलासा हो गया है. ट्राई-सर्विसेज कोर्ट ऑफ इंक्वायरी की रिपोर्ट के अनुसार जनरल रावत का हेलिकॉप्टर मौसम के अचानक बिगड़ने की वजह से दुर्घटनाग्रस्त हुआ

ADVERTISEMENT

भारतीय वायुसेना ने बताया है कि फ्लाईट डाटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर के विश्लेषण से शुरुआती जांच में जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक, न तो चॉपर में कोई तकनीकी खामी थी, न ही पायलट ने कोई गलती की.

वायुसेना ने दुर्घटना से संबंधित जो प्रारंभिरक रिपोर्ट दी है, उसमें घाटी में मौसम की स्थिति में अप्रत्याशित परिवर्तन के कारण बादलों में प्रवेश का परिणाम थी. इसकी वजह से पायलट का स्थानिक भटकाव हुआ.

आपको बता दें, जनरल रावत, उनकी पत्नी मधुलिका और 12 अन्य सशस्त्र बलों के कर्मियों को ले जा रहा एक Mi-17V5 हेलीकॉप्टर - तमिलनाडु के कोयंबटूर में सुलूर वायु सेना बेस से वेलिंगटन में डिफेंस स्टाफ सर्विसेज कॉलेज तक पिछले साल 8 दिसंबर को दुर्घटनाग्रस्त हो गया था.

दुर्घटना में सीडीएस जनरल रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य लोगों की मौत हो गई. इसमें सवार ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह को छोड़कर कोई जीवित नहीं बचा था लेकिन कुछ दिनों बाद गंभीर रूप से जलने से उनकी मौत हो गई थी.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT