ADVERTISEMENTREMOVE AD

Jahangirpuri violence| सांप्रदायिक संघर्ष में 20 गिरफ्तार, हथियार और तलवार बरामद

Jahangirpuri Violence: आपसी बहस से शुरू हुई बात पत्थरबाजी और हिंसा तक जा पहुंची- FIR दर्ज

Updated
भारत
3 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

दिल्ली के जहांगीरपुरी (Jahangirpuri) में शनिवार शाम को हनुमान जयंती का जुलूस निकालने के दौरान जमकर बवाल हुआ. दो समुदायों की तरफ से एक-दूसरे पर पत्थर और दूसरे हथियारों से हमला किया गया. पूरी हिंसा में पुलिसकर्मियों को ज्यादा चोटें आईं, 8 पुलिसकर्मी घायल हुए, जबकि एक नागरिक को भी चोटें आईं. दिल्ली पुलिस ने रविवार, 17 अप्रैल को सांप्रदायिक झड़पों के सिलसिले में 20 लोगों को गिरफ्तार किया. पुलिस ने हथियार और तलवार भी बरामद किये हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
हिंसा में पुलिस ने आईपीसी की धारा 147, 148, 149, 186, 353, 332, 323, 427, 436, 307, 120बी के तहत मामला दर्ज कर लिया है. दिल्ली पुलिस द्वारा दर्ज एफआईआर के मुताबिक पूरी हिंसा एक बहसबाजी से शुरू हुई.
शोभा यात्रा सवा चार बजे शुरू हुई, जिसे एवन मोटर्स मंगला पार्क पर खत्म होना था. शांतिपूर्वक चल रही शोभा यात्रा 6 बजे जब जामा मस्जिद के पास पहुंची, तो अंसार नाम का शख्स अपने 4-5 साथियों के साथ शोभा यात्रा में शामिल कुछ लोगों से बहस करने लगा. यह बहस बहुत ज्यादा बढ़ गई और दोनों पक्षों की तरफ से पथराव शुरू हो गया.
एफआईआर में अपने बयान में इंस्पेक्टर राजीव रंजन

यहां यह साफ नहीं है कि अंसार की किस बात को लेकर जुलूस में शामिल लोगों से बहसबाजी हुई. फिर बहसबाजी इतनी ज्यादा कैसे हुई कि दोनों ही तरफ से बाकी लोग इसमें शामिल हो गए और एक-दूसरे पर जमकर पत्थर चलाने लगे.

पढ़ें यह भी: भोपाल: हनुमान जयंती जुलूस का स्वागत करने के लिए फूल लेकर खड़े सैकड़ों मुस्लिम

पहले शांत हुई भीड़, उसके बाद फिर होने लगा पथराव

ड्यूटी पर तैनात इंस्पेक्टर राजीव रंजन ने अपने बयान में कहा है कि इसके बाद पुलिस ने समझा-बुझाकर दोनों पक्षों को शांत भी कर दिया. लेकिन थोड़ी देर बाद फिर से नारेबाजी और पथराव शुरू हो गया. जिसके बाद कंट्रोल रूम को सूचना दी गई और अतिरिक्त पुलिस बल मौके पर पहुंचा.

वहां पहुंचे पुलिसबल ने हालात को काबू में करने के लिए 40-50 टियर गैस के गोले छोड़े और भीड़ को तितर-बितर कर हालात पर काबू पाया गया. इस दौरान भीड़ की तरफ से फायरिंग भी की गई, जिसमें एसआई मेदालाल को गोली लगी और 6-7 पुलिसकर्मी भी घायल हुए. इस दौरान उपद्रवी भीड़ ने 4-5 गाड़ियों में तोड़फोड़ भी की.

वहीं जहांगीरपुरी पुलिस स्टेशन में तैनात सब इंस्पेक्टर राजेश के मुताबिक वे कॉन्सटेबल हरेंद्र के साथ मौक पर पहुंचे, जहां अन्य पुलिसकर्मी तैनात थे. वहां काफी पथराव हो चुका था और पुलिस दोनों पक्षों को समझाने की कोशिश कर रही थी. मौके पर टूटी बोतलें, पत्थर और अन्य सामान फैला हुआ था, जिसकी पूरी फोटोग्राफी भी करवाई गई.

पुलिस का दावा- पकड़ा गया गोली चलाने वाला

उत्तर-पश्चिम दिल्ली के डीसीपी ने बताया है कि 21 साल के मोहम्मद असलम को गोली चलाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. वह सीडी पार्क के इलाके का रहने वाला है. घटना को अंजाम देने के लिए इस्तेमाल की गई पिस्टल भी उससे बरामद की गई है.

डीसीपी के मुताबिक, असलम पर 2020 में जहांगीरपुरी थाने में ही IPC की धारा 324/188/506/34 के तहत मामला दर्ज किया गया था.

इन लोगों को किया गया गिरफ्तार

बवाल के बाद गिरफ्तार किए गए लोगों में सारे एक ही समुदाय से हैं. इनके नाम हैं-

1) जाहिद

2) अंसार

3) शहजाद

4) मुखत्यार अली

5) मोहम्मद अली

6) आमिर

7) अख्सर

8) नूर आलम

9) जाकिर

10) अकरम

11) इम्तियाज

12) अबीर खान

13) मुहम्मद अली

पढ़ें ये भी: जहांगीरपुरी: हिंसा के बाद हुईं 14 गिरफ्तारियां, अब तक क्या-क्या हुआ?

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×