ADVERTISEMENT

झारखंड: डायन बताकर 2 की हत्या में 19 को उम्रकैद, राज्य बनने के बाद 1000 मर्डर

Jharkhand में डायन बताकर जिन 1000 लोगों की हत्या हुई उनमें से 90% महिलाएं

झारखंड: डायन बताकर 2 की हत्या में 19 को उम्रकैद, राज्य बनने के बाद 1000 मर्डर
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

11 जून 2013, झारखंड के गुमला जिले का भरनो थाना स्थित करौंदाजोर टुकूटोली. करीब 21-22 महिलाओं की मीटिंग चल रही थी. मीटिंग गांव के एक युवक की मौत को लेकर बुलाई तो गई थी, लेकिन फिर ये मीटिंग दो और हत्या का गवाह बन गई. बैठक में मौजूद 19 महिलाओं ने दो महिलाओं को डायन (Witch) करार देते हुए, लाठी-डंडों से पीट-पीटकर मार दिया. अब करीब 9 साल बाद 19 महिलाओं को अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई है. बता दें कि झारखंड में डायन बताकर हत्या करने की कई घटनाएं सामने आ चुकी है.

ADVERTISEMENT

टूकूटोली की रहने वाली बेरजनिया इंदवार और एगनेसिया एंदवार की हत्या के मामले में गुमला के सिविल कोर्ट के एडीजे-1 दुर्गेशचंद्र अवस्थी की अदालत ने सुनाया है. अदालत ने साथ ही 25-25 हजार रुपये का जुर्माना भी सभी पर लगाया गया है. जुर्माना न देने पर दो साल की अतिरिक्त सजा काटनी होगी. जज ने हत्या के 19 नामजद आरोपियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आजीवन कारावास की सजा सुनाये.

क्या है पूरा मामला?

घटना 11 जून 2013 की है. घटना के दिन आरोपी महिलाओं द्वारा गांव में बैठक कर दोनों महिलाओं की हत्या की योजना बनायी गयी थी. इसके बाद दोनों की हत्या की गयी थी.मृतका ब्रिजेनिया इंदवार की बेटी सेलेस्टीन इंदवार ने आरोपियों के खिलाफ डायन बिसाही के आरोप में अपनी मां और इग्नेसिया इंदवार की हत्या की प्राथमिकी दर्ज करायी थी.

दर्ज केस में कहा गया था कि घटना के दिन गांव में महिलाओं ने बैठक बुलाई थी. दरअसल, गांव के एक युवक की मौत के बाद ये बैठक बुलाई गई थी. एफआईआर में लिखा है कि,

"भीड़ ने मेरी मां व इग्नेसिया इंदवार को लाठी डंडे से मारपीट कर हत्या कर दी. इस दौरान मेरी मां व इग्नेसिया द्वारा कई बार खुद को निर्दोष बताया गया. लेकिन किसी ने कोई बात नहीं सुनी. इस घटना के पूर्व भी गांव में बैठक बुला कर मेरी मां और इग्नेसिया से जुर्माना वसूला गया था."

बता दें घटना के बाद पुलिस ने अगले दिन 12 जून 2013 को सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था.

ADVERTISEMENT

आरोपियों में गांव की भलेरिया इंदवार, इमिलिया इंदवार, करिया देवी, जरलदीता इंदवार, मंगरी देवी, ख्रीस्टीना इंदवार, चिंतामणी देवी, विनिता इंदवार, ज्योति इंदवार, मालती इंदवार, गब्रेला इंदवार, रिजिता इंदवार, मोनिका इंदवार, केसेनसिया इंदवार, नीलम इंदवार, सुशीला इंदवार, कुरमेला इंदवार, ललिता इंदवार व रोजलिया इंदवार शामिल हैं.

अंधविश्वास और जादू टोने के चलते 1000 से ज्यादा लोगों की हत्या

झारखंड जब से बना है तब से लेकर अब तक में अंधविश्वास और जादू टोने के चलते 1000 से ज्यादा लोगों की हत्या की जा चुकी है. इसमें 90% महिलाएं हैं. क्राइम इंवेस्टिगेशन डिपार्टमेंट के एक रिपोर्टेड डाटा के आधार पर 2015-2020 तक में लगभग 230 महिलाओं की जादू टोने संबंधित प्रकरणों में मार दिया गया है.

2015 में 46, 2016 में 39, 2017 में 42, 2018 में 25, 2019 में 27, 2020 में 28 और 2021 में लगभग 24 लोगों की हत्या हुई थी.

साल 2015 से 2020 के बीच 4500 से ज्यादा मामले महिलाओं को डायन घोषित करने के बाद उत्पीड़न के चलते दर्ज किए गए हैं. अगर देखा जाए तो औसतन हर रोज दो से तीन मामले पुलिस के पास पहुंचते हैं. बीते छह सालों में सबसे ज्यादा मामले गढ़वा में सामने आये हैं. गढ़वा में 1127 मामले पुलिस ने दर्ज किए हैं, पलामू में 446, हजारीबाग में 406, गिरिडीह में 387, देवघर में 316, गोड्डा में 236 मामले दर्ज हुए हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×