ADVERTISEMENT

आम को भी लगेगी महंगाई की नजर, देश के सबसे बड़े उत्पादक राज्य UP में फसल चौपट

Mango Price: आम के रेट इस बार 30-35 प्रतिशत अधिक रहने की उम्मीद है.

Updated
भारत
5 min read
आम को भी लगेगी महंगाई की नजर, देश के सबसे बड़े उत्पादक राज्य UP में फसल चौपट
i

अगर आप आम (mango price) खाने के शौकीन हैं तो इस बार जरा जेब ढीली करने के लिए तैयार रहिए. क्योंकि ‘फलों के राजा’ आम के भाव बढ़ने वाले हैं. क्योंकि आम को ये बात शायद रास नहीं आई कि तेल, गैस और नींबू सब महंगा हुआ जा रहा है तो वो कैसे पीछे रहे. इसलिए इस बार आम की मिठास जैसी भी हो लेकिन महंगाई भरपूर होने की उम्मीद है. ऐसा क्यों कहा जा रहा है कि इस बार आम महंगा होगा, इसका कारण है देश के सबसे ज्यादा आम उत्पादन करने वाले राज्य उत्तर प्रदेश में बेहद कम पैदावार. और कम पैदावार के कई कारण हैं जो हम इस स्टोरी में आपके सामने रखने जा रहे हैं.

आंकड़ों के मुताबिक यूपी देश में सबसे ज्यादा आम पैदा करने वाला राज्य है. भारत में पैदा होने वाले कुल आम का करीब 24 फीसदी आम उत्तर प्रदेश में ही पैदा होता है.
ADVERTISEMENT

उत्तर प्रदेश के मलिहाबाद का नाम तो आपने सुना ही होगा, वहां का आम काफी फेमस है. मलिहाबाद के अलावा उन्नाव का हसनगंज, हरदोई का शाहबाद, सहारनपुर का बेहट, बाराबंकी, प्रतापगढ़, बुलंदशहर और अमरोहा समेत 14 इलाके ऐसे हैं जो उत्तर प्रदेश में आम की पट्टी के नाम से जाने जाते हैं. लेकिन हर जगह इस बार आम की फसल बेहद कम बताई जा रही है.

मैंगो ग्रोअर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष इंसराम अली ने क्विंट हिंदी से बातचीत में बताया कि, इस बार आम की फसल हर साल के मुकाबले करीब 80 प्रतिशत कम है. उन्होंने बताया कि

यूपी देश में सबसे बड़ा आम उत्पादक राज्य है और यहां हर साल करीब 40-45 लाख मीट्रिक टन आम की पैदावार होती है. लेकिन इस बार मुश्किल से 6-7 लाख मीट्रिक टन आम की पैदावार होने की उम्मीद है. जिसकी वजह से आम के रेट भी आसमान छू सकते हैं.
इंसराम अली, अध्यक्ष, मैंगो ग्रोअर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया

 यूपी के अमरोहा में आम के बाग का दृश्य

फोटो- क्विंट हिंदी

ADVERTISEMENT

जब हमने उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले में बागों में जाकर उन बागवानों से बात की जो हर साल आम के बाग की फसल किसान से खरीदकर रखवाली करते हैं और पकाकर फसल बेचते हैं. तो उनमें से सबने कहा कि इतनी कम फसल हमने कभी नहीं देखी.

अमरोहा जिले के गांव मूंढा इम्मा में बुलंदशहर से आकर आम की फसल खरीदने वाले शब्बीर अपने बाग की रखवाली कर रहे थे. पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि वो 45 साल से आम आम की पसल खरीदने और बेचने का काम कर रहे हैं. लेकिन इतनी कम फसल कभी हुई हो उन्हें याद नहीं पड़ता. हमने सारी दवाई वही लगाई जो हर बार लगाते थे, फूल भी इस बार पेड़ों पर काफी आया था लेकिन बाद में सब गिर गया और हमें बर्बादी की ओर ले गया.

मूंढा इम्मा में ही शब्बीर के बगल वाला बाग लेकर रखवाली करने वाले हेमराज ने कहा कि

मेरे पिता भी यही काम करते थे अब हम भी यही कर रहे हैं. इस बार तो मन किया कि बाग छोड़कर चले जायें, लेकिन मजबूरी है क्या करते. बाग मालिक का पैसा भी देना है और अपना खर्च भी जो निकल सके निकालना है.

बाग की रखवाली करते बागवान शब्बीर और हेमराज

फोटो- क्विंट हिंदी

ADVERTISEMENT

थोड़ी आगे जब हम बढ़े तो एक गांव कटाई पड़ा जहां ठेके पर बाग लेने वाले मुनव्वर से हमारी मुलाकात हुई. उन्होंने कहा कि, हमारे एक बाग में तो इस बार बेहतर फसल है लेकिन बाकी का हाल बुरा है.

बाग की रखवाली करते मुनव्वर

फोटो- क्विंट हिंदी

ADVERTISEMENT

फसल कम होने के कारण?

‘बढ़ती ग्रमी ने बढ़ाई टेंशन’

मैंगो ग्रोअर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष इंसराम अली ने क्विंट हिंदी से कहा कि मार्च अप्रैल में टेंपरेचर ज्यादा हो गया, जो सर्दी उस वक्त आम को मिलनी चाहिए थी वो नहीं मिली. जिससे जो फूल पेड़ पर आया था वो गिर गया.

‘डुप्लीकेट दवाओं ने भी पहुंचाया नुकसान’

इंसराम अली ने आगे कहा कि, दवाओं की डुप्लीकेसी बहुत ज्यादा बढ़ गई और सरकार उसे रोक नहीं पाई. जिससे जो कीड़ा बाद में पैदा हुआ वो मरा ही नहीं. उन्होंने कहा कि 10 प्रतिशत नुकसान दवाओं की डुप्लीकेसी ने पहुंचाया है. इसको लेकर हमने केंद्र और राज्य दोनों सरकारों को लिखा भी और भारत सरकार के सेक्रेट्री संजय अग्रवाल से हमारी दो राउंड बात भी हुई. उन्होंने वादा किया था कि हम इसको रुकवा देंगे लेकिन वो दवाओं की डुप्लीकेसी रुक नहीं पाई.

मैंगो ग्रोअर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष इंसराम अली ने कहा कि किसान चाहते हैं कि आम के नुकसान पर इस बार मुआवजा दिया जाये. क्योंकि सरकार फलों पर मुआवजा नहीं देती.

ADVERTISEMENT

मुआवजे में भी है पेंच

अगर सरकार आम के नुकसान पर मान लीजिए मुआवजा देती है तो एक पेंच फंसेगा कि वो आम किसान किसे माने. क्या सरकार आम किसान उसे माने जिसके नाम पर बाग है या फिर उसे जिसने फसल ठेके पर ली. क्योंकि आमतौर पर उत्तर प्रदेश में क्या होता है कि किसान दो साल के लिए ठेके पर आम की फसल पहले ही बेच देते हैं. ठेकेदार बाद में दवाई से लेकर सारे काम करता है और फायदे नुकसान का मालिक होता है. तो गिरदावरी के वक्त ये तय कर पाना आसान नहीं होगा कि मुआवजा किसे दिया जाये.

ADVERTISEMENT

यूपी में आम की कौनसी किस्में ज्यादा होती हैं ?

उत्तर प्रदेश का दशहरी आम दुनियाभर में फेमस है. यहां सबसे ज्यादा दशहरी आम ही होता है. जो फिलीपींस, मलेशिया, हांगकांग, सिंगापुर और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों में खूब जाता है. इसके अलावा यूपी में लखनऊ का सफेदा, चौसा, बॉम्बे ग्रीन, लंगड़ा और फजली आम की पैदावार बड़े पैमाने पर होती है.

आम महंगा होने के कारण?

आम महंगा होने के कई कारण हैं, पहला तो यही है कि फसल बेहद कम हुई है तो डिमांड के हिसाब से सप्लाई कम होगी तो महंगाई बढ़ना तय है. इसके अलावा डीजल के रेट भी बढ़ गए हैं, जिसकी वजह से ट्रांसपोर्टेशन महंगा हो गया है. इसका असर भी आम की महंगाई पर पड़ेगा. उम्मीद जताई जा रही है कि इस बार आम हर साल से 30-35 प्रतिशत महंगा बिक सकता है.

दुनिया में भी आम महंगा होना तय!

भारत में कम उत्पादन का असर दुनिया पर पड़ना भी तय माना जा रहा है क्योंकि दुनिया का करीब 41 फीसदी आम भारत में ही पैदा होता है. तो अगर भारत में फसल कम हुई तो पूरी दुनिया प्रभावित होगी.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें