ADVERTISEMENTREMOVE AD

सर्जिकल स्ट्राइक पर बोले PM, फोन कर पाक को बोला था, लाशें उठवा लो

भारत ने पाकिस्तान को ईंट का जवाब पत्थर से दिया

Updated
भारत
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

लंदन में 'भारत की बात, सबके साथ' प्रोग्राम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2016 में हुए सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर बड़ा खुलासा किया. पीएम ने बताया कि भारत की तरफ से सर्जिकल स्ट्राइक करने के बाद इसकी सूचना सबसे पहले पाकिस्तानी सेना को दी गई थी और उनसे बोला गया था कि वहां लाशें पड़ी हैं उठवा लो.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
0

‘ईंट का जवाब पत्थर से दिया’

पीएम ने कहा, ईंट का जवाब पत्थर से देने के लिए हमनें सर्जिकल स्ट्राइक किया. "मेरे देश के निर्दोष नागरिकों को मौत के घाट उतार दिया जाता हो. युद्ध लड़ने की ताकत नहीं हो. पीठ पर वार करने के प्रयास होते हो तो ये मोदी है उसी भाषा में जवाब देना जानता है. हमारे जवान टेंट में सोए हुए थे रात को एक बुझदिल आकर उन्हें मौत के घाट उतार देते हैं. इसलिए हमनें ईंट का जवाब पत्थर से दिया."

मोदी ने कहा हमें अपनी सेना पर नाज है. सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर जो योजना बनी थी, उसको शत-प्रतिशत इंप्लिमेंट किया और सूर्योदय होने से पहले वापस आ गए.

मोदी ने कहा, सर्जिकल स्ट्राइक भारत के वीरों का पराक्रम तो था ही था, लेकिन आतंक का निर्यात करने वालों को पता होना चाहिए, अब हिंदुस्तान बदल चुका है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
“मैंने अफसरों से कहा, सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में हिंदुस्तान को पता चले, मीडिया वहां पहुंचे इससे पहले पाकिस्तान की फौज को फोन करके बता दो कि आज रात हमनें ये किया है. लाशें वहां पड़ी होंगी, अगर तुम्हारे पास समय है तो जा के वहां से ले आओ.”
नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री
ADVERTISEMENTREMOVE AD

‘डर के मारे पाक में कोई फोन नहीं उठा रहा था’

पीएम के मुताबिक भारतीय अधिकारी सुबह 11 बजे से पाकिस्तानी सेना को फोन लगा रहे थे, लेकिन वहां डर के मारे कोई फोन नहीं उठा रहा था. करीब एक घंटे बाद 12 बजे पाकिस्तान में सैन्य अधिकारियों ने फोन उठाया. उसके बाद भारतीय अधिकारियों ने उन्हें सर्जिकल स्ट्राइक की सूचना दे दी. इसके बाद देश की मीडिया को इस बारे में जानकारी दी गई.

ये भी पढ़ें- लंदन में बोले PM मोदी- बच्‍च‍ियों से रेप बेहद जघन्‍य, बहुत दर्दनाक

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें