बेरोजगारी के खिलाफ चला 9 बजे 9 मिनट कैंपेन, ट्विटर पर टॉप ट्रेंड

बेरोजगार युवाओं का साथ देने के लिए कई विपक्षी नेताओं ने किया समर्थन

Updated
भारत
3 min read

वीडियो एडिटर: प्रशांत चौहान

देश में बेरोजगारी को लेकर युवा लगातार सोशल मीडिया पर अपनी आवाज उठा रहे हैं, लेकिन पिछले कई समय से उनकी सुध लेने वाला कोई नहीं मिला. हालांकि अब कुछ विपक्षी दलों ने इसे मुद्दा बनाया है और युवाओं के साथ इस लड़ाई को लड़ने की बात कही है. कई विपक्षी नेताओं ने इसके लिए रात 9 बजे 9 मिनट कैंपेन चलाया, जिसमें लोगों से 9 मिनट के लिए अपने घरों की लाइट बंद करने की अपील की गई. ट्विटर पर हजारों लोगों और युवाओं ने इस कैंपेन का समर्थन किया और काफी देर तक ये टॉप ट्रेंडिंग में रहा.

ट्विटर पर #9बजे9मिनट काफी ज्यादा ट्रेंड में रहा, 9 बजने से पहले ही युवाओं और विपक्षी दलों से जुड़े नेताओं ने इसे लेकर ट्वीट करने शुरू कर दिए थे, जिससे ये लगातार टॉप 5 ट्रेंड में बना रहा. इस कैंपेन के बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर बत्ती बुझाकर फोटो भी शेयर की हैं.

बेरोजगारी के खिलाफ चला 9 बजे 9 मिनट कैंपेन, ट्विटर पर टॉप ट्रेंड

इस बीच बेरोजगारी के विरोध में प्रदर्शन करते हुए आरजेडी नेता तेजस्वी यादव, तेज प्रताप यादव और राबड़ी देवी ने लालटेन जलाई. RJD नेता तेजस्वी यादव ने कहा, "सबसे ज्यादा युवाओं की आबादी बिहार में है लेकिन हकीकत में बिहार बेरोजगारी का केंद्र बन चुका है."

बेरोजगारी के खिलाफ चला 9 बजे 9 मिनट कैंपेन, ट्विटर पर टॉप ट्रेंड
बेरोजगारी के खिलाफ चला 9 बजे 9 मिनट कैंपेन, ट्विटर पर टॉप ट्रेंड

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी इस कैंपेन के पूरा होने के बाद ट्वीट किया है. जिसमें वो अंधेरे में मोमबत्ती लिए दिख रहे हैं. उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि बीजेपी के शासनकाल की आज युवाओं ने उलटी गिनती शुरू कर दी है.

विपक्षी नेताओं का समर्थन

इस पूरे कैंपेन को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और बिहार में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने जमकर प्रमोट किया. सभी नेताओं ने युवाओं से अपील करते हुए कहा था कि इस कैंपेन को सपोर्ट करें और सरकार के खिलाफ सब मिलकर आवाज उठाएं. ये कैंपेन उन तमाम युवाओं के लिए आयोजित किया गया था, जिन्हें पिछले कई सालों से नौकरी नहीं मिली. सैकड़ों युवा ऐसे हैं जो भर्ती परीक्षा दे चुके हैं, लेकिन दो-तीन साल से उनकी नियुक्ति नहीं हुई, वहीं किसी का रिजल्ट ही नहीं आया.

इस कैंपेन को लेकर प्रियंका गांधी ने भी ट्वीट किया है. जिसमें उन्होंने सरकार पर जमकर हमला बोला है. प्रियंका ने ट्विटर पर लिखा, "देश के युवाओं को रोजगार चाहिए. उनकी रुकी हुई भर्तियों की ज्वाइनिंग, परीक्षाओं की डेट, नई नौकरियों की नोटिफिकेशन, सही भर्ती प्रक्रिया और ज्यादा से ज्यादा नौकरियां चाहिए. इसके बदले सरकार कोरे भाषण, लाठियां और उपेक्षा देती है. आखिर कब तक? #9बजे9मिनट"

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!