ADVERTISEMENT

Prayagraj में जिस घर पर चला बुलडोजर वह आरोपी का है ही नहीं- अधिवक्ता मंच का दावा

Prophet Remarks Row: प्रयागराज SSP का दावा- आरोपी जावेद मोहम्मद के घर से अवैध हथियार मिले

Updated
भारत
3 min read

उत्तर प्रदेश में प्रशासन का बुलडोजर एक्शन जारी है. प्रयागराज में स्थानीय प्रशासन ने पैगंबर मुहम्मद पर टिप्पणी (Prophet Remarks Row) को लेकर हुए हिंसक विरोध प्रदर्शन के प्रमुख आरोपी जावेद मोहम्मद (Javed Mohammed) के घर पर रविवार, 12 जून को बुलडोजर चला दिया. इस कार्रवाई के कुछ ही घंटे बाद जहां एक तरफ यूपी पुलिस ने आरोपी के घर में "अवैध हथियार" मिलने का दावा किया वहीं दूसरी ओर जावेद मोहम्मद की 19 साल की बेटी सुमैया फातिमा ने आरोप लगाया कि उसके पिता को फंसाया जा रहा है. इसके अलावा अधिवक्ता मंच के वकीलों ने याचिका दायर कर आरोप लगाया है कि दरअसल जिस मकान को प्रशासन ने गिराया है वह जावेद मोहम्मद का है ही नहीं, बल्कि उनकी पत्नी का है.

ADVERTISEMENT

प्रयागराज हिंसा: आरोपी का घर तोड़ने के बाद UP पुलिस का दावा- मिले अवैध हथियार

वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया से जुड़े जावेद मोहम्मद को शनिवार को प्रयागराज में गिरफ्तार किया गया था. पुलिस का आरोप है कि प्रयागराज में 10 जून को पैगंबर पर बीजेपी नेता के विवादस्पद बयान को लेकर हुए विरोध प्रदर्शन में जावेद मोहम्मद मुख्य साजिशकर्ता है.

पुलिस ने उसकी पत्नी परवीन और बेटी सुमैया को भी हिरासत में ले लिया था.

घर पर बुलडोजर चलने के बाद मीडिया से बात करते हुए प्रयागराज के SSP अजय कुमार ने दावा किया कि आरोपी के घर से 12 बोर का अवैध तमंचा, 315 बोर का तमंचा और कई कारतूस बरामद हुए हैं. साथ ही ऐसे डॉक्यूमेंट बरामद किए जाने का दावा भी है, इसमें न्यायपालिका पर कथित तौर पर 'तल्ख टिप्पणी' की गयी है.

साथ ही प्रयागराज के जिलाधिकारी संजय खत्री ने बुलडोजर कार्रवाई पर कहा कि

"प्रशासन ने सभी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए और उचित नोटिस जारी कर जावेद मोहम्मद के एक अवैध निर्माण को गिरा दिया... सीसीटीवी फुटेज के आधार पर हम उपद्रवी तत्वों की पहचान कर रहे हैं और कार्रवाई की जा रही है"
ADVERTISEMENT

"पापा का प्रशासन के साथ हमेशा सहयोग रहा है"-

उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा रिहा किए जाने के कुछ घंटे बाद जावेद मोहम्मद की बेटी सुमैया फातिमा (19) ने मीडिया से बात की. उसने कहा कि "मेरे पिता जी को फंसाया गया है. आजतक उनका नाम किसी मामले में नहीं आया. उन्होंने हमेशा प्रशासन के साथ सहयोग किया है... अक्सर पुलिस के अधिकारी हमारे घर आकर चाय पीते रहे हैं.

"लेकिन अब अचानक से उन्होंने अपना रंग बदल लिया है और अब्बू पर कार्रवाई की.. मेरे पिता पूरे दिन घर पर थे और नमाज पढ़ने के लिए पास की मस्जिद में गए थे.जब पुलिस आई तो वह मस्जिद में थे. हमने पुलिस को बताया कि वह घर पर नहीं थे, पुलिस ने हमें कहा कि फिर से चेक करो. उसके तुरंत बाद मेरे पिता पहुंचे, क्योंकि वह पास की मस्जिद में गए थे. तब उन्हें बताया गया कि कोतवाली पुलिस स्टेशन के एसओ ने उन्हें बुलाया था..फिर वह अपनी स्कूटी से थाने चले गए "

घंटों बाद, पुलिस उनके घर वापस आई और उसे और उसकी मां को पूछताछ के लिए ले गई. यह पूछे जाने पर कि उसके बाद क्या हुआ, सुमैया ने कहा कि उनसे उनके पिता के फेसबुक पोस्ट के बारे में सवाल पूछे गए. साथ ही वे घर पर क्या बातचीत करते हैं, किस विचारधारा में विश्वास रखते हैं- ऐसे सवाल पूछे गए.

सुमैया ने कहा कि उनसे पूछताछ कर रहे पुलिस अधिकारी ने उनकी बहन आफरीन फातिमा के बारे में भी सवाल किया, जो एक रिसर्चर और जेएनयू की पूर्व छात्रा हैं.

ADVERTISEMENT

अधिवक्ता मंच से जुड़े हाईकोर्ट के वकीलों ने इलाहबाद हाई कोर्ट में दाखिल की याचिका

अधिवक्ता मंच से जुड़े हाईकोर्ट के वकीलों ने आरोपी 'जावेद मोहम्मद के घर' पर प्रशासन की कार्रवाई के खिलाफ इलाहबाद हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की है. इलाहबाद हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस को भेजे इस पत्र याचिका में आरोप लगाया गया है कि प्रशासन ने जावेद मोहम्मद के बहाने दूसरे के मकान पर बुलडोजर चलाया है.

वकीलों का कहना है कि दरअसल मकान जावेद मोहम्मद का नहीं, उनकी पत्नी का है जिन्हें वह घर अपने पिता से गिफ्ट के रूप में मिला था. जबकि प्रशासन ने नोटिस जावेद मोहम्मद को जारी किया था.

वकीलों ने मांग की है कि कोर्ट प्रशासन को मकान के पुनर्निर्माण का आदेश दे और परिवार को करोड़ों का मुआवजा दिया जाए. साथ ही प्रयागराज विकास प्राधिकरण के अधिकारियों को दंडित और निलंबित करने की मांग की गयी है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×