ADVERTISEMENTREMOVE AD

"ट्रेन कितनी भी लेट हो,आपके पिताजी का क्या जाता है", इन्क्वायरी का ऐसा जवाब मिला

Railway ने एक्शन लेते हुए तीन कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया.

Published
न्यूज
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

भारतीय रेलवे (Indian Railway) में खराब खाने से लेकर साफ-सफाई में कमी तक की शिकायत सुनी होगी, लेकिन एक जानकारी मांगने पर अभद्र जवाब मिला हो ये कम ही दिखाई देता है, हालांकि इस बार ऐसा ही हुआ है. एक यात्री ने रेल मदद एप से जानकारी मांगी तो उसे जो जवाब मिला वह देखकर दंग रह गया.

जवाब काफी अशोभनीय था. यात्री ने ट्वीट कर इसकी शिकायत रेल मंत्रालय से की. शिकायत होते ही हड़कंप मच गया. रेलवे ने तुरंत एक्शन लेते हुए तीन कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

"ट्रेन कितनी भी लेट हो, आपके पिताजी का क्या जाता है"

ये पूरा मामला रतलाम रेल मंडल का है, एक यात्री ने रतलाम रेल मंडल से गुजरने वाली गोल्डन टेम्पल ट्रेन की टाइमिंग को लेकर रेल मदद एप पर जानकारी मांगी थी कि लेकिन उसे जानकारी के बजाय जवाब मिला कि "ट्रेन कितनी भी लेट हो, आपके पिताजी का क्या जाता है", इस जवाब को देखकर यात्री दंग रह गया. इसके बाद यात्री ने ट्विटर पर मामले की शिकायत की.

 3 कर्मचारी निलंबित, जांच कमेटी गठित

रेल मंत्रालय ने वापस जब रतलाम रेल मंडल के अधिकारियों को यह जवाब भेजा तो जवाब देखकर रतलाम रेल मंडल में भी हड़कंप मच गया, जिसके बाद रतलाम मंडल रेल प्रबन्धक विनीत गुप्ता ने ऑपरेटिंग विभाग के 3 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया. इस मामले की ज्यादा जांच के लिए एक कमेटी का गठन कर दिया है.
0

ऐप हैक होने की भी आशंका

इस मामले के सामने आने के बाद रेलवे की खूब किरकिरी हो रही है. रेलवे ने अपनी जांच में कुछ बिंदुओं की ओर इशारा किया है, जिसमें से एक बिंदू ये है कि कहीं रेलवे मदद एप को हैक तो नही किया गया था, अगर एप को हैक किया गया था तो ये भी रेलवे के लिए बड़ी खतरे वाली बात है. रेल विभाग के कुछ कर्मचारी इस मामले में मानवीय भूल मानकर गलत कॉपी पेस्ट किए जाने की भी बात कह रहे है.

रतलाम रेल मंडल के जंनसम्पर्क अधिकारी ने कहा कि "फिलहाल रेल मदद ऐप पर इस तरह का मामला सामने आने पर एक जांच कमेटी बिठा दी है, जिसमें यह संभावना भी है कि ऐप को कहीं हैक तो नहीं कर लिया गया. इस बिंदु पर भी जांच की जा रही है...जांच रिपोर्ट आने के बाद ही मामले का खुलासा होगा. अगर कर्मचारी अशोभनीय भाषा का प्रयोग करते हैं तो यह पैसेंजर जो हमारा उपभोक्ता है उसके साथ गलत किया गया. मामला हैक का है या कर्मचारियों की लापरवाही का यह जांच के बाद पता चलेगा"

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×