ADVERTISEMENT

अयोध्या में अभी रेलवे स्टेशन ही राम मंदिर जैसा बनाएगी सरकार

कैबिनेट के सामने पेश किया जाएगा प्रस्ताव

Updated
राम मंदिर का मामला इस वक्त सुप्रीम कोर्ट में
i

अयोध्या में राम मंदिर विवाद सुप्रीम कोर्ट में है. लेकिन इसके पहले ही सरकार ने अयोध्या में रेलवे स्टेशन को ही राम मंदिर की शक्ल देने का ऐलान किया है.

रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने घोषणा की है कि अयोध्या के रेलवे स्टेशन का डिजाइन राम मंदिर जैसा ही होगा.

ADVERTISEMENT

डिजाइन बनाने पर हो रहा विचार

सिन्हा ने कहा कि अयोध्या को इस तरह से विकसित किया जाएगा कि दुनिया के किसी कोने से कोई भी आए तो गर्व से कह सके कि यह श्री राम की जन्मभूमि है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की इच्छा के मुताबिक इस तरह का डिजाइन बनाने का विचार किया गया है.

रेलवे स्टेशन का डिजाइन बिल्कुल वैसा ही होगा, जैसा विश्व हिंदू परिषद ने राम जन्मभूमि पर मंदिर बनाने के लिए डिजाइन तैयार किया है.
  • 01/04
    रेलवे स्टेशन का डिजाइन बिल्कुल राम मंदिर जैसा होगा.(फोटोः क्विंट हिंदी)
    रेलवे स्टेशन का डिजाइन बिल्कुल राम मंदिर जैसा होगा.
  • 02/04
    अयोध्या में राम मंदिर विवाद सुप्रीम कोर्ट में है. (फोटोः क्विंट हिंदी)
    अयोध्या में राम मंदिर विवाद सुप्रीम कोर्ट में है.
  • 03/04
    सरकार ने अयोध्या में रेलवे स्टेशन को ही राम मंदिर की शक्ल देने का ऐलान किया है.(फोटोः क्विंट हिंदी)
    सरकार ने अयोध्या में रेलवे स्टेशन को ही राम मंदिर की शक्ल देने का ऐलान किया है.
  • 04/04
    रामलला के दर्शन के लिए अयोध्या में देश भर से लोग आते हैं(फोटोः क्विंट हिंदी)
    रामलला के दर्शन के लिए अयोध्या में देश भर से लोग आते हैं

कैबिनेट के सामने पेश किया जाएगा प्रस्ताव

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘रामलला के दर्शन के लिए अयोध्या में देश भर से लोग आते हैं. इसीलिए रेलवे स्टेशन पर उतरते ही उन्हें यह अहसास होना चाहिए वे भगवान राम की जन्मभूमि में आए हैं. यही कारण है कि अयोध्या रेलवे स्टेशन का डिजाइन इस तरह का बनाने का विचार किया गया है. इस संबंध में रेल मंत्रालय जल्द ही कैबिनेट के सामने प्रस्ताव पेश करेगा.’

(क्विंट और बिटगिविंग ने मिलकर 8 महीने की रेप पीड़ित बच्ची के लिए एक क्राउडफंडिंग कैंपेन लॉन्च किया है. 28 जनवरी 2018 को बच्ची का रेप किया गया था. उसे हमने छुटकी नाम दिया है. जब घर में कोई नहीं था,तब 28 साल के चचेरे भाई ने ही छुटकी के साथ रेप किया. तीन  सर्जरी के बाद छुटकी को एम्स से छुट्टी मिल गई है लेकिन उसे अभी और इलाज की जरूरत है ताकि वो पूरी तरह ठीक हो सके. छुटकी के माता-पिता की आमदनी काफी कम है, साथ ही उन्होंने काम पर जाना भी फिलहाल छोड़ रखा है ताकि उसकी देखभाल कर सकें. आप छुटकी के इलाज के खर्च और उसका आने वाला कल संवारने में मदद कर सकते हैं. आपकी छोटी मदद भी बड़ी समझिए. डोनेशन के लिए यहां क्लिक करें.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT