बिहार: नई सरकार में नीतीश की ‘नो बॉल’ साबित हुए मेवालाल चौधरी!

शिक्षामंत्री के इस्तीफे की ये तो खबर है, जरा क्रोनोलॉजी समझिए. एक्शन-रिएक्शन देखिए.

Updated
पॉलिटिक्स
3 min read

बिहार के शिक्षामंत्री से पदभार संभालते ही इस्तीफा ले लिया गया है. अगले आदेश तक शिक्षा मंत्रालय अशोक चौधरी को दे दिया गया है. मेवालाल चौधरी दलील भी दे रहे हैं कि आरोप सिद्ध नहीं हुआ है, चार्जशीट नहीं है, कोर्ट ने आदेश नहीं दिया है लेकिन दलीलों के बावजूद नीतीश से मिलकर इस्तीफा भी दे चुके हैं. अब ये तो खबर है लेकिन आप क्रोनोलॉजी समझिए. एक्शन-रिएक्शन देखिए.

  • पहले बिहार चुनाव में बीजेपी की सीटें, जेडीयू से कहीं ज्यादा आती हैं. फिर, पीएम खुद ऐलान कर देते हैं कि नीतीश सीएम होंगे.
  • नीतीश कहते हैं कि सीएम हम नहीं एनडीए की बैठक में चुना जाएगा.
  • बैठक में नीतीश सीएम चुने जाते हैं और फिर वो कहते हैं कि उनका तो मन ही नहीं था मुख्यमंत्री बनने का, लेकिन बीजेपी नेताओं ने आग्रह किया.
  • आगे डिप्टी सीएम पर सस्पेंस गहराता है, नीतीश के करीबी सुशील कुमार मोदी का पत्ता कटता है और बीजेपी के दो डिप्टी सीएम नियुक्त होते हैं. शपथ के बाद नीतीश एक सवाल के जवाब में कहते हैं वो 'सुशील कुमार मोदी' को मिस करेंगे और ये फैसला बीजेपी का था.
राजनीति के मंझे हुए खिलाड़ी नीतीश समझते थे कि मेवालाल चौधरी का शिक्षामंत्री बनाए जाना बीजेपी को चुभ सकता है, तीन साल पहले बीजेपी तो मेवालाल को गिरफ्तार करवाने की मांग कर रही थी. फिर भी, खुद को दबाव में नहीं दिखाने के लिए नीतीश मेवालाल चौधरी को शिक्षा मंत्री बनाते हैं. खूब किरकिरी होती है और बीजेपी चुप रहती है.

अचानक, नीतीश मेवालाल को बुलाकर इस्तीफा ले ले लेते हैं. मतलब, नीतीश कुमार को अपना फैसला खुद ही वापस लेना पड़ा है-मतलब नई सरकार में नीतीश की 'नो बॉल' और बोहनी हो गई खराब.

इस क्रोनोलॉजी से हमें क्या शिक्षा मिलती है? ये पूरी कवायद कह रही है कि इस बार बिहार में 'नीतीश सरकार' नहीं 'एनडीए सरकार' है और होगा वही जो 'बिग ब्रदर' बीजेपी चाहेगी. हां, ये भी है कि नीतीश कुमार खुद को इंडिपेंडेट दिखाने की कोशिश नतीजों के बाद से अबतक करते आए हैं.

वो बार-बार एक्शन के रिएक्शन में ये बताने की कोशिश कर रहे हैं कि वो वैसे ही चलेंगे जैसा पिछली सरकारों में चले थे लेकिन यहां आंकड़े उनके साथ नहीं है. ऐसा नहीं कहा जा सकता कि इस्तीफे लेने के पीछे तर्क ये है कि नीतीश कुमार 'करप्शन' बर्दाश्त नहीं कर सकते, क्योंकि मेवालाल चौधरी पर लगे दाग तो सार्वजनिक हैं.

विपक्ष बता रहा है- 'तमाशा'

विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव कहते हैं कि अगर नीतीश कुमार जानते ही थे कि मेवालाल चौधरी दागी विधायक हैं तो उन्हें मंत्री क्यों बनाया गया.

आप थक चुके है इसलिए आपकी सोचने-समझने की शक्ति क्षीण हो चुकी है. जानबूझकर भ्रष्टाचारी को मंत्री बनाया. थू-थू के बावजूद पदभार ग्रहण कराया. घंटे बाद इस्तीफे का नाटक रचाया. असली गुनाहगार आप हैं. आपने मंत्री क्यों बनाया? आपका दोहरापन और नौटंकी अब चलने नहीं दी जाएगी?
तेजस्वी यादव, आरजेडी

मेवालाल चौधरी 2015 में पहली बार जेडीयू विधायक बने थे, इससे पहले मेवालाल चौधरी बिहार कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति हुआ करते थे. इनके कुलपति रहते विश्वविद्यालय में साल 2012 में सहायक अध्यापक और जूनियर वैज्ञानिकों की बहाली हुई थी. तब ही सहायक प्रोफेसर-सह-जूनियर वैज्ञानिकों की नियुक्ति में कथित अनियमितताओं को लेकर सुर्खियों में आए. ऐसे में अभी के राष्ट्रपति और तत्कालीन राज्यपाल राम नाथ कोविंद की अनुशंसा पर फरवरी 2017 में मामला दर्ज हुआ था और जांच की सिफारिश हुई थी.

जेडीयू ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया था, बाद में उनकी वापसी भी हो गई थी. अब तीन दिन पहले मंत्री की शपथ लेने वाले मेवालाल चौधरी का इस्तीफा हो गया है.

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!