ADVERTISEMENTREMOVE AD

बिहार फ्लोर टेस्ट: RJD के 3 विधायकों ने तेजस्वी के साथ किया 'खेला', ये रही वजह

Bihar Floor Test: RJD विधायक चेतन आनंद, नीलम देवी और प्रह्लाद यादव ने नीतीश कुमार को समर्थन किया.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

बिहार विधानसभा (Bihar Vidhan Sabha) में सोमवार को नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने विश्वास मत हासिल कर लिया है. NDA सरकार के पक्ष में 129 वोट पड़े जबकि आरजेडी समेत विपक्ष ने सदन से वॉकआउट कर दिया. सदन में बहुमत का आंकड़ा 122 है. इससे पहले सदन के स्पीकर अवध बिहारी चौधरी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित हुआ था.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

बहुमत परीक्षण से पहले RJD विधायक और बाहुबली नेता आनंद मोहन के बेटे चेतन आनंद के पाला बदलकर NDA खेमे में आने के बाद उनका एक फेसबुक पोस्ट सामने आया है. चेतन आनंद ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर लिखा, "ठाकुर के कुएं में पानी बहुत है, सब को पिलाना है."

Bihar Floor Test: RJD विधायक चेतन आनंद, नीलम देवी और प्रह्लाद यादव ने नीतीश कुमार को समर्थन किया.

RJD के कितने विधायकों ने बदला पाला?

विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग के दौरान RJD के तीन विधायक सत्ता पक्ष की चले गए. स्पीकर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के दौरान RJD विधायक चेतन आनंद, नीलम देवी और प्रह्लाद यादव ने तेजस्वी का साथ छोड़ नीतीश कुमार को समर्थन दिया.

वजह क्या रही?

RJD के तीनों विधायकों के पाला बदलने की वजह राजनीतिक बताई जा रही है. चेतन आनंद के NDA के पक्ष में जाने की वजह आगामी लोकसभा चुनाव में JDU की टिकट को बताई जा रही है. इसके अलावा नीतीश कुमार की सरकार के दौरान ही उनके पिता जेल से रिहा हुए थे.

वहीं अगर नीलम देवी की बात करें तो वह बाहुबली अनंत सिंह की पत्नी हैं और अनंत सिंह के जेल जाने के बाद वह पटना के मोकामा सीट से विधायक बनी. कयास लगाए जा रहे हैं कि नीलम देवी को एनडीए से लोकसभा का टिकट भी मिल सकता है.

प्रह्लाद यादव मुंगेर के सूर्यगढ़ा विधानसभा से विधायक हैं और उनकी पलटी के पीछे विजय सिन्हा और ललन सिंह का हाथ बताया जा रहा हैं. कयास है कि प्रह्लाद यादव को लोकसभा का टिकट मिल सकता है.

चेतन आनंद ने नाटकीय अंदाज में बदला पाला

चेतन आनंद के पाला बदलने पर तेजस्वी यादव ने विधानसभा में उन्हें शुभकामनाएं देते हुए अपना छोटा भाई बताया. तेजस्वी यादव ने कहा कि जब चेतन आनंद को किसी ने टिकट नहीं दिया तब हमने टिकट देकर उन्हें चुनाव जितवाया. तेजस्वी ने कहा कि "कुछ मजबूरियां रही होंगी जो मैं नहीं जानता हूं. वो हमेशा मेरे भाई रहेंगे."

दरअसल 11 फरवरी को आरजेडी विधायक चेतन आनंद को लेकर पटना पुलिस को शिकायत की गई थी की उन्हें किडनैप करके तेजस्वी के आवास पर रखा गया है. इसके बाद पुलिस इसकी जांच करने तेजस्वी यादव के आवास पर पहुंच गई थी.

हालांकि, पुलिस को वहां आरजेडी कार्यकर्ताओं के विरोध का भी सामना करना पड़ा और काफी हंगामा भी हुआ. इसके बाद चेतन आनंद ने पुलिस से कहा कि वो अपनी मर्जी से यहां हैं. इसके बाद पुलिस वापस लौट गई थी. 

पुलिस जब देर रात दोबारा तेजस्वी यादव के आवास पर पहुंची तो आरजेडी विधायक चेतन आनंद वहां से निकल गए और अपने घर पहुंच गए हैं. इसके बाद चेतन आनंद ने सुबह नीतीश कुमार से मुलाकात की थी जिसके बाद वो एनडीए के खेमे में शामिल हो गए.

(इनपुट: तनवीर आलम)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×