ADVERTISEMENTREMOVE AD

NDA में शामिल नीतीश की JDU, शरद यादव गुट नाराज

शनिवार का दिन बिहार की सियासत में काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

Updated
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

4 साल के बाद एक बार फिर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू, एनडीए में शामिल होगी .नीतीश कुमार के घर हुई कार्यकारिणी की बैठक में एनडीए में शामिल होने का फैसला लिया गया. राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में प्रस्ताव पारित कर दिया गया है. नीतीश कुमार ने पिछले महीने राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) और कांग्रेस के साथ अपनी पार्टी के महागठबंधन से नाता तोड़कर बिहार में बीजेपी के साथ मिलकर नई सरकार बनाई थी.

सरकार बनाने के बाद से ही इस बात की अटकलें चल रही थीं कि जेडीयू केंद्र में भी एनडीए के साथ शामिल होगी. उधर, पार्टी की

पटना में हुई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद जेडीयू प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा कि पार्टी में कोई दो फाड़ नहीं है. 71 विधायक, 30 एमएलसी और सभी पार्टी पदाधिकारी नीतीश कुमार के साथ हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

नीतीश-शरद समर्थकों में झड़प

नीतीश के आवास के बाहर शरद यादव और नीतीश कुमार के समर्थकों के बीच उस समय झड़प हो गई, जब शरद के विश्वासपात्र उन्हें 'जनअदालत कार्यक्रम' स्थल ले जा रहे थे . बाइक पर सवार शरद यादव के समर्थक पटना हवाई अड्डे से उन्हें एस्कॉर्ट करते हुए 'जनअदालत कार्यक्रम ' स्थल एस के मेमोरियल हाल जा रहे थे. मुख्यमंत्री आवास के सामने आने पर वो शरद यादव के पक्ष में नारेबाजी करने लगे.

शरद को एस्कॉर्ट कर रहे उनके समर्थकों में से कुछ के हाथों में डंडे थे और उन्होंने हवा में बेल्ट भी लहराया और मुख्यमंत्री आवास में प्रवेश करने की कोशिश की. कुछ ही देर में नीतीश के समर्थक भी बड़ी संख्या में वहां पहुंच गए और उन्होंने शरद के समर्थकों को खदेड़ दिया.

शरद यादव की जन अदालत

हालांकि नीतीश कुमार के महागठबंधन से नाता तोड़ने के फैसले से पार्टी के कई वरिष्ठ नेता और सांसद शरद यादव के समर्थक पार्टी नेतृत्व से नाराज चल रहे हैं. शनिवार को जहां एक ओर नीतीश कुमार ने कार्यकारिणी की बैठक बुलाई , वहीं शरद यादव ने 'जनअदालत' बुलाई.

जेडीयू के दोनों गुटों के अलग-अलग बैठक बुलाए जाने के बाद यह तय माना जा रहा है कि पार्टी में दरार पड़ चुकी है. जेडीयू प्रवक्ता केसी त्यागी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि हमने शरद यादव को भी कार्यकारिणी की बैठक में बुलाया था.

शरद यादव के इस कार्यक्रम को शक्ति प्रदर्शन के रूप में देखा जा रहा है. शरद गुट के समर्थकों ने पटना की सड़कों पर पोस्टर लगाए हैं, जिसमें लिखा है 'जनअदालत का फैसला- महागठबंधन जारी है.

शरद गुट की ओर से आयोजित 'जनअदालत' के बारे में पार्टी के वरिष्ठ नेता के सी त्यागी ने कहा कि यह पार्टी का आधिकारिक कार्यक्रम नहीं है. बिहार जेडीयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि 'जनअदालत' से हमारा कोई लेना-देना नहीं है. उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि यह 'जनअदालत' तो राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के आवास पर बुलाई जानी चाहिए.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×