ADVERTISEMENTREMOVE AD

महाराष्ट्र: एकनाथ शिंदे सरकार की आलोचना करने पर रैपर गिरफ्तार

एक अन्य घटना में शिवसेना कार्यकर्ताओं ने शिंदे और मोदी की आलोचना करने पर उद्धव गुट की एक महिला नेता की पिटाई कर दी.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

सरकार में एक साल से भी कम वक्त में सत्तारूढ़ शिवसेना (Shivsena) की आलोचना के प्रति सहनशीलता कम होती दिख रही है. एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) गुट के एक नेता की शिकायत के बाद औरंगाबाद पुलिस ने गुरुवार 6 अप्रैल को भारतीय जनता पार्टी-शिवसेना सरकार को बदनाम करने के आरोप में एक रैपर को गिरफ्तार किया है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

औरंगाबाद के रहने वाले अंबेडकरवादी रैपर राज मुंगसे ने 25 मार्च को यूट्यूब पर अपना ट्रैक अपलोड किया था. ट्रैक सरकार के कामकाज पर आधारित है, जबकि इसमें मुख्य रूप से उन परिस्थितियों पर बात की गई है, जिसमें शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के ज्यादातर विधायकों ने पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को छोड़ दिया था.

मुंगसे अपने गीत में '50 खोके (Boxes)' का जिक्र करते हैं. एक ऐसा मुहावरा जो विपक्षी पार्टी के नेताओं और कैडर के लिए समान रूप से एक राग बन गया है और जो संकेत देता है कि बागी विधायकों को पैसे का लालच दिया गया था.

उन्होंने इस बात का जिक्र किया है कि बागी विधायकों ने बीजेपी की कथित सहायता से, गुजरात के सूरत से असम के गुवाहाटी तक, महाराष्ट्र लौटने से पहले गोवा तक गए, जिसकी वजह से आखिरकार जून 2022 में ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास अघाड़ी सरकार गिर गई.

मुंगसे का गीत नेताओं को 'चोर' भी कहता है और कुछ मैन्युफैक्चरिंग प्रोजेक्टों को महाराष्ट्र से गुजरात स्थानांतरित करने के लिए उन्हें दोषी ठहराता है.

अगर मुंगसे के गीत में कही गई बातों पर गौर किया जाए तो दिखता है कि वो अपने रैप में किसी पार्टी या राजनेता का नाम नहीं लेते हैं.

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के नेता जितेंद्र आव्हाड, शिवसेना (UBT) नेता सुषमा अंधारे और अन्य नेताओं द्वारा सोशल मीडिया पर शेयर किए जाने के बाद ट्रैक वायरल हो गया. आगे क्या होने वाला है, इसकी आशंका को देखते हुए आव्हाड ने सोमवार को अपने ट्वीट में पुलिस से मुंगसे को गिरफ्तार नहीं करने का अनुरोध भी किया था.

शिंदे गुट की युवा सेना के नेता स्नेहल कांबले ने मंगलवार को ठाणे जिले के अंबरनाथ में शिकायत दर्ज कराई. अंबरनाथ पूर्व में शिवाजी नगर पुलिस ने धारा 501 (मानहानि से संबंधित कंटेंट छापना) धारा 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान), धारा 505 (2) (वर्गों के बीच शत्रुता, घृणा या दुर्भावना पैदा करने या बढ़ावा देने वाले बयान) के तहत FIR दर्ज की.

यह घटना की कथित तौर पर एकनाथ शिंदे और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करने वाले सोशल मीडिया पोस्ट के लिए सोमवार को शिवसेना कैडर ठाकरे गुट की एक महिला नेता रोशनी शिंदे की पिटाई के बाद हुई है. रोशनी शिंदे पर एक शॉपिंग सेंटर के पास 15-20 महिलाओं की भीड़ ने हमला किया, जिसमें वह घायल हो गईं. इसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया.

रोशानी ने अपने हॉस्पिटल बेड से मीडिया से बात करते हुए कहा कि ये आनंद दिघे और बालासाहेब ठाकरे की शिक्षा नहीं है कि आप एक महिला को पीटेंगे.

"देवेंद्र फडणवीस बेकार"- उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे, उनकी पत्नी रश्मि ठाकरे और आदित्य ठाकरे ने अगले दिन एकनाथ शिंदे से मुलाकात की. बाद में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने उपमुख्यमंत्री और गृह मंत्री देवेंद्र फडणवीस पर जमकर निशाना साधा और कथित अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने के लिए उन्हें "बेकार" बताया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
रोशनी गर्भ धारण करने में सक्षम होने के लिए इलाज कर रही थी. वह उनसे (हमलावरों) से अनुरोध कर रही थी कि वे पेट पर न मारें और दूर से बात करें लेकिन फिर भी उसके पेट में लात मारी गई. जो लोग इस तरह के वीभत्स कृत्य में शामिल हैं, वो ना सिर्फ बल्कि महाराष्ट्र में कहीं भी रहने के लायक नही हैं.
उद्धव ठाकरे

पूर्व मेयर और शिवसेना नेता मीनाक्षी शिंदे ने मौखिक झड़प की बात को स्वीकार करते हुए कहा कि शिवसेना नेताओं ने इन दावों का खंडन किया है कि रोशनी को पीटा गया था. हमारी लड़कियां उस लड़की (रोशनी) से बात करने गई थीं, कोई शारीरिक हिंसा नहीं हुई.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×