ADVERTISEMENT

ममता का मोदी सरकार से सवाल, चुनाव के पहले क्यों हुआ पुलवामा हमला?

ममता बनर्जी ने पुलवामा हमले को लेकर सरकार से किए ये 7 सवाल

Updated
ममता का मोदी सरकार से सवाल, चुनाव के पहले क्यों हुआ पुलवामा हमला?
i

पुलवामा में सीआरपीएफ पर हुआ आतंकवादी हमले पर ममता बनर्जी ने मोदी सरकार पर गंभीर सवाल उठाए हैं. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने संदेह जताया कि ऐन चुनाव के पहले ही ये हमला क्यों हुआ?

ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार देश को सांप्रदायिक दंगों में झोंक देना चाहती है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने मोदी सरकार से पूछा..

पाकिस्तान के खिलाफ 5 साल से कोई कार्रवाई क्यों नहीं की गई? चुनाव के वक्त ही ये मुद्दा क्यों गरमाया जा रहा है? चुनाव करीब हैं और ऐसे मौके पर पुलवामा में हमला संदेह पैदा करता है?
ADVERTISEMENT

ममता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि केंद्र सरकार को उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए, जिन्होंने इस हमले को अंजाम दिया है. लेकिन अगर बीजेपी-आरएसएस ने इस मौके पर दंगे भड़काने की कोशिश की तो देश माफ नहीं करेगा.

ममता बनर्जी के गंभीर आरोप

  1. पुलवामा हमला चुनाव के वक्त ही क्यों हुआ?
  2. सरकार ने पांच साल में पाकिस्तान के खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों नहीं की?
  3. आतंकवादी हमले के खुफिया अलर्ट के बावजूद 2000 से ज्यादा जवानों को एक साथ 78 गाड़ियों के काफिले में सड़क मार्ग के जरिए क्यों ले जाया जा रहा था.
  4. कुछ लोग दंगा करने की कोशिश कर रहे हैं, इसका क्या मतलब है?
  5. अमेरिका की खुफिया रिपोर्ट में कहा गया है कि चुनावों से पहले हिंसा हो सकती हैं, क्या ये सही है?
  6. जब खुफिया एजेंसियों ने पहले से अलर्ट किया था, तो सावधानी क्यों नहीं बरती गई?
  7. CRPF ने जवानों को एयरलिफ्ट कराए जाने का आग्रह किया था, फिर ऐसा क्यों नहीं किया गया?
ADVERTISEMENT

ममता ने संघ और बीजेपी पर भी साधा निशाना

ममता बनर्जी ने कहा कि जो लोग पुलवामा हमले के लिए जिम्मेदार हैं, उनके खिलाफ सरकार को सख्त कार्रवाई करनी चाहिए, लेकिन बीजेपी और आरएसस इस मौके पर दंगे भड़काने की कोशिश कर रहे हैं, अगर ऐसा हुआ तो देश माफ नहीं करेगा.

ADVERTISEMENT

CRPF को पहले ही दे दी गई थी IED हमले की चेतावनी

जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक के एक पत्र के मुताबिक, कश्मीर पुलिस ने आठ फरवरी को ही सीआरपीएफ, बीएसएफ, आईटीबीपी, एसएसबी, सेना और वायु सेना को आईईडी हमले की संभावना की खुफिया सूचना दे दी थी.

हालांकि, यह पता नहीं चला है कि चेतावनी जारी होने के बावजूद सीआरपीएफ ने 2,547 सुरक्षा बलों के साथ 78 वाहनों के काफिले को जम्मू स्थित आवाजाही शिविर से 270 किलोमीटर दूर स्थित श्रीनगर जाने की अनुमति क्यों दे दी?

कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक के हवाले से भेजी गई खुफिया जानकारी में सुरक्षा एजेंसियों को किसी स्थान पर जाने या तैनाती से पहले उस स्थान को सही से जांचने के लिए कहा गया था क्योंकि खुफिया जानकारी में आईईडी के उपयोग की संभावना जताई गई थी.

ADVERTISEMENT

पुलवामा हमले में शहीद हो गए थे 40 जवान

बीती 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए एक आत्मघाती आतंकी हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के 45 जवान शहीद हो गए थे. गुरुवार दोपहर जैश-ए-मोहम्मद के एक आत्मघाती हमलावर ने आईईडी से भरे अपने वाहन को सीआरपीएफ जवानों को ले जा रही एक बस से टकरा दिया था.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, news और politics के लिए ब्राउज़ करें

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×