छत्तीसगढ़ चुनाव:सट्टा बाजार में भाव बदले अब कांग्रेस और BJP बराबर
छत्तीसगढ़ चुनाव:सट्टा बाजार में भाव बदले  अब कांग्रेस और BJP बराबर

छत्तीसगढ़ चुनाव:सट्टा बाजार में भाव बदले अब कांग्रेस और BJP बराबर

छत्तीसगढ़ में रमन सिंह की चौथी बार ताजपोशी होगी या नहीं इसे लेकर सट्टा बाजार को भी भरोसा नहीं है. सट्टा बाजार ये अंदाज लगा ही नहीं पा रहा है कि लगातार तीन टर्म के बाद चौथी बार बीजेपी की सरकार में वापसी होगी या फिर इस बार कांग्रेस के हाथ सत्ता आएगी.

छत्तीसगढ़में दो चरणों की वोटिंग 20 नवंबर को खत्म हो चुकी है. वैसे तो नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे पर सटोरियों के भाव से लगता है कि नतीजे बड़ा सरप्राइज दे सकते हैं.

इसे भी पढ़ें- मध्यप्रदेश में वोटिंग के बाद क्या कहता है सट्टा बाजार

सट्टा बाजार में इस वक्त कांग्रेस और बीजेपी को 40-42 सीटों पर बराबरी का भाव मिल रहा है. राज्य में बहुमत के लिए 46 सीटें चाहिए.

छत्तीसगढ़ में इस बार चुनाव में न तो कोई बड़ा मुद्दा था और न कोई लहर. खास बात यही है कि राज्य में पिछली बार के मुकाबले 3 परसेंट कम वोटिंग हुई है. 2013 में करीब 77 परसेंट के मुकाबले 74 परसेंट रही.

चुनाव प्रचार के दौरान छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह 
चुनाव प्रचार के दौरान छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह 
(फोटो: रमन सिंह ट्विटर)

माना जा रहा था कि अजीत जोगी की छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस और बीएसपी गठबंधन के मैदान में उतरने की वजह से सरकार बनाने में उनकी पार्टी की भूमिका अहम हो जाएगी. सट्टा भाव से भी यही लग रहा है कि टक्कर बराबरी की है और त्रिशंकु विधानसभा हो सकती है.

हालांकि कांग्रेस ने वोटिंग के पहले साफ कर दिया है कि वो सरकार बनाने में अजीत जोगी की मदद नहीं लेगी.

जनसभा को संबोधित करते कांग्रेस नेता टीएस सिंह देव
जनसभा को संबोधित करते कांग्रेस नेता टीएस सिंह देव
(फोटोः नीरज गुप्ता)
छत्तीसगढ़ के लोगों के वोट EVM में बंद है. लेकिन छत्तीसगढ़ पर कुछ वक्त पहले के सट्टा भाव में बीजेपी को 90 सीटों में 43-45 और कांग्रेस के 38-40 सीट मिलने का अनुमान था. लेकिन ताजा सट्टा भाव में दोनों की सीटें बराबर मिलने का अनुमान है.

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ में वोटिंग खत्म हो चुकी है अब सबकी नजर राजस्थान की तरफ हैं जहां 7 दिसंबर को वोटिंग हैं. जहां ज्यादातर अनुमानों के मुताबिक कांग्रेस की सरकार बनने का अनुमान है.

एक अनुमान के मुताबिक मौजूदा विधानसभा चुनावों पर करीब 20 हजार करोड़ का सट्टा लगा हुआ है. लेकिन चुनाव में जीतने के साथ सट्टा जीतने वालों का फैसला भी 11 दिसंबर को ही होगा.

यह भी पढ़ें: राजस्थान: सट्टा बाजार में BJP को चांस नहीं, कांग्रेस काफी आगे

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our पॉलिटिक्स section for more stories.

    वीडियो