ADVERTISEMENT

बिहार: JP यूनिवर्सिटी के सिलेबस से हटाया गया जेपी नारायण का चैप्टर, नीतीश नाराज

इस बीच, पंडित दीन दयाल उपाध्याय, सुभाष चंद्र बोस और जोतिराव फुले पर अध्याय पेश किए गए हैं.

Published
राज्य
2 min read
<div class="paragraphs"><p>मुख्यमंत्री&nbsp;नीतीश कुमार</p></div>
i

बिहार (Bihar) के जय प्रकाश विश्वविद्यालय ने अपने एमए राजनीति विज्ञान पाठ्यक्रम से सामाजिक और राजनीतिक कार्यकर्ता राम मनोहर लोहिया का चैप्टर हटा दिया है. सबसे दिलचस्प बात ये है कि जिनके नाम पर विश्वविद्यालय का नाम है, यानी जयप्रकाश नारायण का भी चैप्टर हटा दिया है, जिस पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने नाराजगी जाहिर की है.

ADVERTISEMENT

अन्य कई हस्तियों के नाम हटाए गए

अन्य प्रख्यात हस्तियां जिनके नाम पाठ्यक्रम से हटा दिए गए थे, उनमें दयानंद सरस्वती, राजा राम मोहन राय और बाल गंगाधर तिलक शामिल हैं. नीतीश कुमार ने परिवर्तनों को "अनुचित" और "अवांछित" कहा, और शिक्षा विभाग के माध्यम से सुधारात्मक कदम उठाने के लिए कहा.

बर्दाश्त नहीं किया जा सकता: लालू प्रसाद यादव

नारायण और लोहिया पर अध्यायों को हटाने का मुद्दा एक विवाद में बदल गया है, विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने आरएसएस और बीजेपी-जेडीयू सरकार पर 'छिपे हुए एजेंडे' का आरोप लगाया है, यह कहते हुए कि जनहित में भविष्य में इस तरह के कदमों की अनुमति नहीं दी जाएगी, नीतीश कुमार ने राज्य के अन्य विश्वविद्यालयों को भी अपने पाठ्यक्रम में बदलाव करने से पहले शिक्षा अधिकारियों से परामर्श करने की चेतावनी दी.

मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि "परंपरा का पालन नहीं किया गया" और उनकी सरकार "जनता के मूड के खिलाफ" पाठ्यक्रम को स्वीकार नहीं कर सकती है.

ADVERTISEMENT

लालू प्रसाद यादव, जिन्होंने मुख्यमंत्री रहते हुए विश्वविद्यालय की स्थापना की, उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि,

"आरएसएस समर्थित बिहार सरकार और आरएसएस की मानसिकता ने महान समाजवादी नेताओं के विचारों को हटा दिया था".उन्होंने ट्वीट किया, "मैंने 30 साल पहले अपनी कर्मभूमि छपरा में जेपीयू की स्थापना की थी. इसका नाम जय प्रकाश जी के नाम पर रखा गया था. इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. सरकार को तत्काल संज्ञान लेना चाहिए"

विश्वविद्यालय के कुलपति और अधिकारियों को आज पटना तलब किए जाने के बाद इस फैसले के पीछे का कारण बताने को कहा गया.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT