मुंबई: कोरोना के कहर की कहानी, श्मशान कर्मचारी की जुबानी

मुंबई के श्मशान कर्मियों ने कहा- हमें प्राथमिकता के तहत मिले वैक्सीन 

Published
राज्य
2 min read

वीडियो एडिटर: पूर्णेन्दु प्रीतम

देशभर में कोरोना की दूसरी लहर से हजारों लोगों की मौत हो रही है. दिल्ली से लेकर मुंबई तक श्मशानों पर शवों की कतार लगी हुई है. ऐसे में श्मशान घाट पर कमर्चारी दिन रात काम कर रहे है. हालांकि मुंबई की स्थिति काबू में आती दिख रही है. लेकिन क्विंट हिंदी ने मुंबई की श्मशान भूमि पर इन कर्मचारियों से बात कर जमीनी हालात समझने की कोशिश की.

‘शवों को जलाते हुए PPE किट शरीर से चिपक जाता है’

“शवों को जलाते समय गर्मी इतनी बढ़ जाती है कि पीपीई किट शरीर पर चिपक जाता है. हैंड ग्लब्स भी लकड़ियों से फट जाते हैं.” 31℃ में काम कर रहे घाटकोपर श्मशान भूमि के दीपक पाल बताते है. वो जन्म से अपने पिता के साथ यहां काम कर रहे हैं. दीपक आगे बताते हैं कि, “पिछले हफ्ते से शवों की संख्या कम हो गई है लेकिन लोड बढ़ने पर 17 से 18 शव कतार में लग जाते हैं.”

चौबीसों घंटे जल रही चिताओं के बीच कर्मचारी कम संख्या में काम करते नजर आते हैं. वर्ली श्मशान भूमि पर दिन में 16 से 17 शव आते हैं. लकड़ी पर एक शव को जलने में कम से कम तीन से चार घंटे का समय लगता है. ऐसे में यहां सिर्फ चार कमर्चारियों का स्टाफ है.

चिता को साफ कर अस्थियां निकाल रहे सुधीर का कहना है कि, "हम दो लोग लकड़ी पर और एक गड्ढे में दफनाने का काम करता है. लेकिन हमने कभी किसी को नाराज नहीं किया. उन्हें चिता वक्त में निकालकर देते हैं. हम अपना काम अच्छे से कर रहे है. कोई तकलीफ नहीं है."

वहीं इलेक्ट्रिक फर्नेस पर ऑपरेटर का काम कर रहे कर्मचारियों का कहना है कि,"पानी की किल्लत की वजह से मशीन ठंडी नहीं हो पाती. जिस वजह से हम दिन में सिर्फ आठ शव जला सकते हैं. इससे ज्यादा जलाएं तो मशीन में अधिक तापमान की वजह से विस्फोट हो सकता है. 800℃ तापमान में शवों का दहन होता है. लेकिन दूसरा शव लेने में दो घंटे लग जाते हैं. ताकि मशीन का तापमान 600℃ तक आ सके. ऐसे में कतार में खड़ी भीड़ को संभालना काफी मुश्किल भरा काम हो जाता है."

श्मशान कर्मियों को प्राथमिकता के तहत मिले वैक्सीन

इन समस्याओं से जूझ रहे श्मशानकर्मियों की तरफ महानगर निगम बीएमसी प्रशासन को ध्यान देने का फिलहाल बिल्कुल वक्त नहीं है. क्योंकि पूरी कोशिश कोविड को रोकने के मिशन पर लगी हुई है. ऐसे में अमानवीय स्थिति में काम कर रहे कर्मचारियों के पास इसी तरह काम करने के अलावा दूसरा कोई चारा नहीं है.

शवों को जलाने वाले कर्मचारियों को भी वैक्सीन मिलने में प्राथमिकता दी जाए. कोरोना से मृत व्यक्ति के शवों को जलाते हुए संक्रमित होने का सबसे ज्यादा खतरा होता है. इसके बावजूद हमें अब तक वैक्सीन नहीं मिली है.
दीपक, कर्मचारी, घाटकोपर श्मशान भूमि

दादर स्थित श्मशान भूमि के कर्मचारी सुधीर इस बात से संतुष्ट है पिछले साल भर में उन्होंने 40 से 45 कोविड शवों का दाह संस्कार किया लेकिन अभी तक उन्हें कोई बीमारी नहीं हुई है. उनका मानना है कि ये लोगों की दुआ और भगवान की मेहरबानी है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!