ADVERTISEMENTREMOVE AD

MP में नए उद्योगों को 15 दिन में क्लीयरेंस, देरी पर अफसर को सजा

Published
राज्य
2 min read
story-hero-img
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

मध्य प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है, जहां 'मध्यप्रदेश समयबद्ध निर्बाधन (टाइम बॉण्ड) अधिनियम 2020' को मंजूरी दी गई है. इसके तहत नए उद्योगों को 10 विभागों की 40 अनुमतियां एक से 15 दिन में ऑनलाइन मिलेंगी, देरी होने पर प्राधिकारी को दंडित किए जाने का भी प्रावधान किया गया है. आधिकारिक तौर पर मिली जानकारी के मुताबिक, मुख्यमंत्री कमलनाथ की अध्यक्षता में 19 फरवरी को हुई कैबिनेट की बैठक में औद्योगिक निवेश को बढ़ावा देने के लिए इस अधिनियम को मंजूरी दी गई.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
इस अधिनियम में प्रावधान किया गया है कि औद्योगिक निवेश के लिए आवेदन करने वालों को 10 विभागों से संबंधित 40 अनुमतियां या लाइसेंस 15 दिन में मिल जाएगा.

इस समयबद्ध अधिनियम के मुताबिक, 25 अनुमतियां या लाइसेंस एक दिन में, 10 अनुमतियां या लाइसेंस सात दिन में और पांच अनुमतियां व लाइसेंस 15 दिनों में ऑनलाइन प्रदान करना होगा.

इसमें कहा गया है कि समय सीमा में स्वीकृत न होने पर प्राधिकारी के डिजिटल सिग्नेचर का इस्तेमाल कर प्राप्त आवेदन को पोर्टल स्वमेव जारी कर देगा. इस विधेयक में समय-सीमा में काम नहीं होने पर संबंधित विभाग के अधिकारी को दंडित करने का प्रावधान भी किया गया है.

इससे नए उद्योग लगाने के इच्छुक निवेशकों को सरकारी प्रक्रिया के चलते उलझना नहीं पड़ेगा.

इस अधिनियम से उद्योग, लघु उद्योग, सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) और पर्यटन क्षेत्र में निवेश करने वाले उद्योग समूहों या व्यक्तियों को यह सुविधा मिलेगी. राज्य सरकार समय-सीमा में अन्य अनुमतियां या लाइसेंस जारी करने संबंधी प्रावधानों वाले इस अधिनियम विधानसभा में पेश किया जाएगा.

इसी तरह राज्य में फिल्म उद्योग को आकर्षित करने के मकसद से फिल्म पर्यटन नीति को भी मंजूरी दी गई. इसका उद्देश्य फिल्म निर्माताओं को आकर्षित करना व निजी निवेश को प्रोत्साहित करना है. राज्य में फिल्म की शूटिंग होने पर विशेष अनुदान भी दिया जाएगा.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×