ADVERTISEMENTREMOVE AD

PM मोदी डॉ. की ड्रेस में, असद अहमद की फेक फोटो, नेहरू से जुड़े झूठे दावों का सच?

WebQoof Roundup: पानी के ऊपर चलती महिला से जुड़े झूठे दावों का सच ?

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

झांसी में 13 अप्रैल को एनकाउंटर में मारे गए अतीक अहमद (Atiq Ahmed) के बेटे असद अहमद (Asad Ahmed) की फोटो बताकर, अतीक के छोटे बेटे अली अहमद की फोटो शेयर की गई. इसके अलावा, कभी कई राजनेताओं के साथ एक दावत में खाना खाते जवाहर लाल नेहरू की फोटो इस गलत दावे से शेयर की गई कि उन्होंने आजादी के तुरंत बाद इफ्तार पार्टी दी थी. तो कभी डॉ. की पोशाक में पीएम मोदी की फोटो शेयर कर गलत दावा किया गया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

इस हफ्ते सोशल मीडिया पर वायरल ऐसे तमाम भ्रामक और गलत दावों का सच हमने आपको बताया. यहां ऐसे ही तमाम झूठे दावों का सच आपको एक साथ मिलेगा.

क्या ये फोटो एनकाउंटर में मारे गए असद अहमद की है?

एनकाउंटर में मारे गए उमेश पाल हत्याकांड में फरार चल रहे गैंगस्टर अतीक अहमद (Atiq Ahmed) के बेटे असद अहमद (Asad Ahmed)  की बताकर कई मीडिया संगठनों ने ये फोटो शेयर की.

WebQoof Roundup: पानी के ऊपर चलती महिला से जुड़े झूठे दावों का सच ?

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/TOI)

ये फोटो अतीक अहमद के छोटे बेटों में से एक अली अहमद की है. अली यूपी के प्रयागराज की नैनी सेंट्रल जेल में है, जो 2021 के जबरन वसूली के एक केस में जेल भेजा गया था.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

0

ये फोटो नेहरू की ओर से दी गई इफ्तार पार्टी की है?

देश के पूर्व पीएम जवाहर लाल नेहरू के साथ एक टेबल में खाना खाते कई राजनेताओं की फोटो नेहरू पर 'तुष्टिकरण की राजनीति' का आरोप लगाते हुए शेयर की गई. दावा किया गया कि आजादी के बाद 1947 में नेहरू ने इफ्तार पार्टी दी थी, जिसका विरोध सरदार पटेल ने किया था और वो इस दावत में शामिल भी नहीं हुए थे.

WebQoof Roundup: पानी के ऊपर चलती महिला से जुड़े झूठे दावों का सच ?

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

वायरल फोटो 1947 की नहीं, बल्कि 1948 की है और इफ्तार पार्टी को नहीं दिखाती. तब चक्रवर्ती राजगोपालाचारी को भारत के पहले गवर्नर जनरल के तौर पर नियुक्त किया गया था. इसके जश्न में सरदार पटेल ने सभी को दावत दी थी, न कि नेहरू ने.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

ADVERTISEMENTREMOVE AD

क्या डॉ. की पोशाक में पीएम मोदी की ये फोटो असली है?

प्रधानंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की ये फोटो असली बताकर शेयर की गई. जिसमें वो किसी रिसर्चर के तौर पर माइक्रोस्कोप से अपने हाथों को देखते नजर आ रहे हैं.

WebQoof Roundup: पानी के ऊपर चलती महिला से जुड़े झूठे दावों का सच ?

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

पीएम मोदी की ये फोटो असली नहीं है. फोटो को आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की मदद से तैयार किया गया है. इसे बनाने वाले क्रिएटर के मुताबिक, इसे बनाने के लिए AI टूल Midjourney का इस्तेमाल किया गया है.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

ADVERTISEMENTREMOVE AD

RSS ने मुस्लिम महिलाओं का धर्मांतरण कराने से जुड़ा लेटर किया जारी?

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) का एक कथित लेटरहेड सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इसे इस दावे से शेयर किया जा रहा है कि RSS ने हिंदू पुरुषों से मुस्लिम महिलाओं को 'फंसाकर' उनका धर्म परिवर्तन करने के लिए कहा है.

WebQoof Roundup: पानी के ऊपर चलती महिला से जुड़े झूठे दावों का सच ?

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

पड़ताल में हमने पाया कि ये लेटर फेक है. हमने RSS की ओर से जारी किए गए पुराने लेटर चेक किए. हमें लेटर के फॉर्मैट और लोगो से जुड़ी कई असमानताएं मिलीं. जिसे आप नीचे देख सकते हैं.

WebQoof Roundup: पानी के ऊपर चलती महिला से जुड़े झूठे दावों का सच ?

टेक्स्ट के अलाइनमेंट और लोगों में अंतर देखा जा सकता है.

(फोटो: Altered by The Quint)

इसके अलावा, RSS के सुनील अंबेडकर ने ट्वीट कर इस वायरल लेटर को फर्जी बताया है.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

ADVERTISEMENTREMOVE AD

नर्मदा नदी में पानी पर चली महिला?

सोशल मीडिया पर मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के जबलपुर में पैदल नदी पार करती एक महिला का वीडियो वायरल है. वीडियो को कई तरह के चमत्कार से जुड़े दावों से शेयर किया जा रहा है. दावा है कि इसमें दिख रही वृद्ध महिला पानी पर चल रही हैं.

WebQoof Roundup: पानी के ऊपर चलती महिला से जुड़े झूठे दावों का सच ?

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

पड़ताल में हमने पाया कि वायरल वीडियो में महिला नदी पार करती तो दिख रही हैं, लेकिन ये कोई चमत्कारिक शक्ति नहीं. दरअसल, वीडियो जिस घाट का है, वहां पानी जमीन की सतह से ज्यादा ऊपर नहीं था. लिहाजा महिला ने ठीक उसी तरह पैदल चलकर नदी पार कर ली, जैसा कि कोई आम शख्स करता.

  • वीडियो में दिख रही महिला ने खुद पुष्टि की है कि पानी ज्यादा गहरा नहीं था.

  • मध्यप्रदेश पुलिस ने महिला को लेकर किए जा रहे चमत्कार से जुड़े दावों को बेबुनियाद बताया है.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

ADVERTISEMENTREMOVE AD

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9643651818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×