ADVERTISEMENT

क्या कनाडा के PM जस्टिन ट्रूडो ने किसानों के समर्थन में धरना दिया?

ये दावा ट्रूडो के उस बयान के बाद किया जा रहा है, जिसमें उन्होंने भारतीय किसानों के साथ एकजुटता की बात कही है.

Published
क्या कनाडा के PM जस्टिन ट्रूडो ने किसानों के समर्थन में धरना दिया?

भारत में कृषि कानूनों के खिलाफ हो रहे किसान आंदोलन (Farmers’ Protests) के बीच, सोशल मीडिया पर कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो (Justin Trudeau) की एक फोटो वायरल हो गई है. सिर पर कपड़ा बांधे ट्रूडो की इस फोटो के साथ दावा किया जा रहा है कि वो किसानों के समर्थन में धरने में शामिल हुए. बता दें कि ये फोटो असल में 2015 की है.

सोशल मीडिया पर ये दावा ट्रूडो के उस बयान के बाद किया जा रहा है, जिसमें उन्होंने भारतीय किसानों के साथ एकजुटता की बात कही है. उन्होंने एक बयान में कहा था, “अगर मैं किसानों द्वारा प्रदर्शन के बारे में भारत से आ रही खबरों पर ध्यान देना शुरू नहीं करता तो बेपरवाह होता. स्थिति चिंताजनक है... शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के अधिकारों की रक्षा के लिए कनाडा हमेशा खड़ा रहेगा.” विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता, अनुराग श्रीवास्तव ने कनाडाई नेताओं द्वारा की गई इन टिप्पणियों को “अनुचित” बताया.

दावा

ट्रूडो की फोटो के साथ यूजर्स ने लिखा है: "किसानों के धरनें पर कनाडा के प्रधानमंत्री"

क्या कनाडा के PM जस्टिन ट्रूडो ने किसानों के समर्थन में धरना दिया?
क्या कनाडा के PM जस्टिन ट्रूडो ने किसानों के समर्थन में धरना दिया?
क्या कनाडा के PM जस्टिन ट्रूडो ने किसानों के समर्थन में धरना दिया?
क्या कनाडा के PM जस्टिन ट्रूडो ने किसानों के समर्थन में धरना दिया?
ADVERTISEMENT

हमें जांच में क्या मिला?

रिवर्स इमेज सर्च करने पर, हमें हिंदुस्तान टाइम्स का 2015 का एक आर्टिकल मिला, जिसमें इस फोटो का इस्तेमाल किया गया है. आर्टिकल में फोटो का क्रेडिट न्यूज एजेंसी रॉयटर्स को दिया गया है.

आर्टिकल के मुताबिक, “कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो इंडो-कैनेडियन समुदाय के साथ दिवाली सेलिब्रेट करने के लिए ओटावा में हिंदू मंदिर और एक गुरद्वारे में पहुंचे.”

रॉयटर्स की वेबसाइट पर कीवर्ड सर्च करने पर हमें ये ओरिजनल फोटो भी मिली.

क्या कनाडा के PM जस्टिन ट्रूडो ने किसानों के समर्थन में धरना दिया?

ये फोटो, रॉयटर्स के फोटोग्राफर पैट्रिक डॉयल मे 11 नवंबर 2015 को क्लिक की थी, जब ट्रूडो गुरद्वारा साहिब ओटावा सिख सोसाइटी पहुंचे थे.

इससे साफ होता है कि कनाडा के प्रधानमंत्री की एक पुरानी तस्वीर को गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है.

आप हमारी सभी फैक्ट-चेक खबरें यहां पढ़ सकते हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT