ADVERTISEMENT

किसान आंदोलन में नहीं बंटी शराब, फेक है वीडियो

किसान आंदोलन का बताया जा रहा वीडियो पड़ताल में अप्रैल 2020 का निकला, जब संसद में कृषि कानून पास भी नहीं हुए थे

Updated
किसान आंदोलन में नहीं बंटी शराब, फेक है वीडियो

सोशल मीडिया पर एक वायरल वीडियो के आधार पर दावा किया जा रहा है कि किसान आंदोलन के दौरान शराब बांटी गई. हालांकि, वेबकूफ की पड़ताल में सामने आया कि वीडियो अप्रैल 2020 का है, संसद में कृषि से जुड़े तीन नए कानून पास भी नहीं हुए थे.

दावा

वीडियो के साथ शेयर किया जा रहा कैप्शन है -  “Farmer protests. Free liquor distribution हिंदी अनुवाद - किसान आंदोलन, मुफ्त में बंटती शराब

Renuka Jain नाम के ट्विटर हैंडल से वीडियो इसी दावे के साथ शेयर किया. इस वीडियो को अब तक 96,000 से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं.

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://archive.is/4IOmj">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
सोर्स : (स्क्रीनशॉट /ट्विटर)
ADVERTISEMENT

वीडियो फेसबुक और ट्विटर पर इसी दावे के साथ शेयर किया जा रहा है.

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://perma.cc/4CK5-E7P2">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
सोर्स : (स्क्रीनशॉट /फेसबुक)
ADVERTISEMENT
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://perma.cc/TG57-ETX9">यहां </a>क्लिक करें
पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें
सोर्स : (स्क्रीनशॉट /फेसबुक)
ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया

इनविड टूल के जरिए वीडियो को अलग-अलग की-फ्रेम्स में बांटने के बाद हमने फ्रेम्स को येंडेक्स पर रिवर्स सर्च किया. हमें यूट्यूब पर अप्रैल 2020 में अपलोड किया गया एक वीडियो मिला. इस यूट्यूब वीडियो के विजुअल्स पूरी तरह वायरल वीडियो से मिलते हैं. कैप्शन के मुताबिक, वीडियो 25 मार्च, 2020 को शुरू हुए लॉकडाउन का है.

ADVERTISEMENT

हमें कुछ फेसबुक पोस्ट और अन्य यूट्यूब चैनलों पर भी यही वीडियो. ये सभी वीडियो अप्रैल 2020 के दौरान अपलोड किए गए हैं. वीडियो यहां, यहां और यहां देखा जा सकता है.

ADVERTISEMENT

ये पुष्टि नहीं हो सकी कि वीडियो असल में किस जगह का है और कब शूट किया गया. लेकिन, चूंकि वीडियो अप्रैल 2020 को ही इंटरनेट पर आ चुका है इसलिए साफ है कि ये संसद में कृषि से जुड़े बिल पास होने से पहले का है. यानी इस वीडियो का दिल्ली सीमा पर चल रहे किसान के प्रदर्शन से कोई संबंध नहीं है.

ADVERTISEMENT

केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन को लेकर ऐसे ही कई दावे पहले भी भ्रामक साबित हो चुके हैं. कई दावों में किसानों को खालिस्तानी समर्थक बताने की भी कोशिश हुई. हमारी सभी फैक्ट चेक रिपोर्ट्स पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT