ADVERTISEMENTREMOVE AD

FACT CHECK: मदरसे में मिले हथियारों की बताई जा रही इन तस्वीरों का सच क्या है?

ये बात सच है कि साल 2019 में बिजनौर के एक मदरसे से 6 लोगों को कुछ हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया था, लेकिन हथियारों की संख्या भी गलत है और कई तस्वीरें भी.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

सोशल मीडिया पर कई तस्वीरों का एक सेट शेयर किया जा रहा है, जिनमें से ज्यादातर तस्वीरों में हथियार दिख रहे हैं. कुछ तस्वीरों में तलवारें और कुछ में पुलिस के साथ खड़े कुछ लोग दिख रहे हैं.

क्या है दावा?: इन तस्वीरों को शेयर करने वाले कई यूजर्स ने दावे में लिखा है कि ये सभी तस्वीरें उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बिजनौर की हैं. जहां 6 मौलवियों को गिरफ्तार किया गया है और इनके पास से एलएमजी मशीन मिली है जो एक बार में 8 हजार राउंड फायर कर सकती है.

ये बात सच है कि साल 2019 में बिजनौर के एक मदरसे से 6 लोगों को कुछ हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया था, लेकिन हथियारों की संख्या भी गलत है और कई तस्वीरें भी.

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

(ऐसे और भी पोस्ट के आर्काइव आप यहां और यहां देख सकते हैं.)

ADVERTISEMENTREMOVE AD

सच क्या है?: ये बात सच है कि यूपी के बिजनौर में साल 2019 में एक मदरसे से हथियार निकले थे.

  • लेकिन वायरल तस्वीरों में से सभी तस्वीरें उस घटना की नहीं हैं. सिर्फ एक तस्वीर जिसमें आगे पुलिस ऑफिसर बैठे दिख रहे हैं. वहीं तस्वीर बिजनौर की है. बाकी तस्वीरें अलग-अलग जगह की हैं. और इनके साथ शेयर हो रहा वायरल दावा गलत है.

  • इसके अलावा, हथियारों की जो संख्या बताई जा रही है वो भी गलत है. क्योंकि मदरसे से इतनी बड़ी संख्या में हथियार नहीं बरामद हुए थे.

हमने सच का पता कैसे लगाया?: हमने अलग-अलग तस्वीरों को रिवर्स इमेज सर्च कर उनका सच पता लगाया. यहां सभी तस्वीरों पर अलग-अलग नजर डालते हैं.

दावे में ये पूरा मामला बिजनौर का बताया जा रहा है, इसलिए हमने बिजनौर से जुड़ी ऐसी रिपोर्ट ढूंढने के लिए गूगल पर कीवर्ड सर्च किया.

  • इससे हमें बिजनौर पुलिस का एक ट्वीट मिला, जिसे 11 जुलाई 2019 को ट्वीट किया गया था.

  • इस ट्वीट में इस्तेमाल की गई तस्वीरों में से एक तस्वीर वो भी है जो वायरल दावे में दिख रही है.

  • ट्वीट कैप्शन के मुताबिक, तब बिजनौर पुलिस ने मदरसे में अवैध हथियारों की तस्करी करते 6 लोगों को पकड़ा था और इस कार्रवाई में उन्हें 1 पिस्टल, 4 तमंचे और भारी मात्रा में कारतूस मिले थे.

ये बात सच है कि साल 2019 में बिजनौर के एक मदरसे से 6 लोगों को कुछ हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया था, लेकिन हथियारों की संख्या भी गलत है और कई तस्वीरें भी.

बिजनौर पुलिस का ट्वीट

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

ADVERTISEMENTREMOVE AD

इस घटना से जुड़ी कई रिपोर्ट्स भी हमें मिलीं.

यहां से ये तो साफ है होता है कि ये फोटो बिजनौर की है, लेकिन ये दावा गलत है कि वहां एलएमजी जैसे हथियार मिले थे. इसके अलावा, ये घटना 4 साल पुरानी है, हाल की नहीं.

एक साथ रखी कई तलवारों की तस्वीर:

ये बात सच है कि साल 2019 में बिजनौर के एक मदरसे से 6 लोगों को कुछ हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया था, लेकिन हथियारों की संख्या भी गलत है और कई तस्वीरें भी.

फर्श पर रखी तलवारों की तस्वीर

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

  • इस फोटो से जुड़ी पड़ताल क्विंट की वेबकूफ टीम पहले भी कर चुकी है. साल 2019 में यही फोटो गुजरात के राजकोट की बताकर शेयर की गई थी.

  • तब हमने पड़ताल में पाया था कि ये फोटो पटियाला की एक कृपाण फैक्ट्री की है.

  • तब फैक्ट्री के मालिक बचन सिंह ने क्विंट से पुष्टि की थी कि ये फोटो उनके कृपाण गोदाम की है, जहां से वो इन कृपाणों को पूरे पंजाब में सप्लाई करते हैं.

  • ये पूरी पड़ताल आप यहां पढ़ सकते हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

सोफे पर रखी बंदूकों की तस्वीर:

ये बात सच है कि साल 2019 में बिजनौर के एक मदरसे से 6 लोगों को कुछ हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया था, लेकिन हथियारों की संख्या भी गलत है और कई तस्वीरें भी.

ये तस्वीर बिजनौर की बताकर शेयर की जा रही है.

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

  • इस फोटो को रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें ये फोटो 'mehrzadalavinia' नाम के एक इंस्टाग्राम अकाउंट पर मिली.

  • इसे बिजनौर की घटना से भी करीब 3 महीने पहले अप्रैल 2019 में पोस्ट किया गया था.

ये बात सच है कि साल 2019 में बिजनौर के एक मदरसे से 6 लोगों को कुछ हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया था, लेकिन हथियारों की संख्या भी गलत है और कई तस्वीरें भी.

ये फोटो 17 अप्रैल 2019 को पोस्ट की गई थी.

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/इंस्टाग्राम)

  • हालांकि, हमें इस फोटो के ओरिजनल सोर्स के बारे में पता नहीं चला, लेकिन ये साफ है कि ये फोटो बिजनौर वाले घटना का नहीं है.

  • हमने इंस्टाग्राम अकाउंट के बायो के मुताबिक, ये अकाउंट ईरान के किसी यूजर का है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

पुलिसकर्मियों के सामने टेबल में रखी तलवारों से जुड़ी तस्वीर:

ये बात सच है कि साल 2019 में बिजनौर के एक मदरसे से 6 लोगों को कुछ हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया था, लेकिन हथियारों की संख्या भी गलत है और कई तस्वीरें भी.

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

  • इस तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें हूबहू यही तस्वीर तो नहीं मिली, लेकिन हमें एक और तस्वीर मिली जो इसी दावे के साथ कई दूसरे यूजर्स ने शेयर भी किया है.

  • ये तस्वीर Guajarat Headline नाम की एक वेबसाइट की एक रिपोर्ट में इस्तेमाल की गई थी.

  • 5 मार्च 2016 की रिपोर्ट के मुताबिक, ये हथियार गुजरात के राजकोट में एक स्टोर से बरामद किए गए थे. और इस घटना के सिलसिले में 5 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया था.

  • इसके अलावा, इस घटना से जुड़ी दूसरी न्यूज रिपोर्ट्स भी हमें मिलीं.

ये बात सच है कि साल 2019 में बिजनौर के एक मदरसे से 6 लोगों को कुछ हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया था, लेकिन हथियारों की संख्या भी गलत है और कई तस्वीरें भी.

5 मार्च 2016 की रिपोर्ट

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/GH)

इस तस्वीर और वायरल हो रही तस्वीर के बीच तुलना करने पर साफ पता चलता है कि ये दोनों तस्वीरें एक ही जगह की हैं.

ये बात सच है कि साल 2019 में बिजनौर के एक मदरसे से 6 लोगों को कुछ हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया था, लेकिन हथियारों की संख्या भी गलत है और कई तस्वीरें भी.

पीछे लगे कैलेंडर और अलमारी एक जैसी ही हैं

(फोटो: Altered by The Quint)

ADVERTISEMENTREMOVE AD

क्या ऐसी किसी घटना से जुड़ी हाल की रिपोर्ट है?: हमने ऐसी न्यूज रिपोर्ट्स की भी तलाश की जिनमें ऐसी किसी घटना का जिक्र हो कि यूपी के बिजनौर में हथियारों का जखीरा निकला है. लेकिन हमें ऐसी किसी घटना की हाल कि रिपोर्ट नहीं मिली.

निष्कर्ष: साफ है कि यूपी के बिजनौर में एक मदरसे में 6 लोगों को हथियारों के साथ गिरफ्तार तो किया गया था, लेकिन ये घटना हाल की नहीं बल्कि 4 साल पुरानी है.

इसके अलावा, जैसा दावे में बाकी तस्वीरों का इस्तेमाल कर ये बताने की कोशिश की गई है कि वहां हथियारों का जखीरा मिला था. वो भी सच नहीं है क्योंकि रिपोर्ट्स के मुताबिक, मदरसे में 1 पिस्टल और 4 तमंचों के साथ भारी मात्रा में कारतूस मिले थे.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9643651818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×