चीन में स्प्रिंग फेस्टिवल मनाने का अनूठा तरीका
चीन में स्प्रिंग फेस्टिवल मनाने का अनूठा तरीका

चीन में स्प्रिंग फेस्टिवल मनाने का अनूठा तरीका

चीन में नया साल यानी लूनर न्यू ईयर आज से (5 फरवरी ) से शुरू हो गया है. स्प्रिंग फेस्टिवल के रूप में फेमस यह त्योहार चीन का सबसे खास पारंपरिक और अहम त्योहार है. चीन में 15 दिनों तक इसका जश्न मनाया जाता है.

चीन में नए साल का जश्न मनाने के लिए देश-दुनिया के कोने-कोने से लोग अपने घर वापस आते हैं. इस बात से लोगों को कोई फर्क नहीं पड़ता कि उन्हें अपने घर आने में कितना लंबा समय लगता है या कितनी परेशानियां आती है. लोगों का तो सिर्फ एक ही मकसद होता है स्प्रिंग फेस्टिवल अपनों के साथ अपने होमटाउन में ही मनाया जाए. इसके लिए चीन के लोग कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहते हैं. चीनी लोगों के लिए यह समय अपने ग्रामीण और दूर-दराज में रहने वाले परिवारों के साथ नया साल मनाने का सबसे दुर्लभ अवसर होता है.

भारत में जो रौनक दीवाली पर और पश्चिमी देशों में क्रिसमस पर देखने को मिलती है वही रौनक चीन में नए साल पर देखी जा सकती है. नए साल को धूम-धाम से मनाने के लिए लोगों को सरकार की तरफ से छुट्टी भी मिलती है. चीनी लोगों के लिए यह समय नेशनल हॉलीडे के रूप में जाना जाता है.

हाल के सालों में, इस त्योहार को मनाने के नए तरीके भी सामने आए हैं. जो लोग अपने घर से बाहर रहते हैं वे अपने घर वालों को शहर में बुलाकर एक जगह इसे सेलिब्रेट करते हैं. वहीं कुछ लोग आज भी पुरानी परंपराओं का पालन करते हुए अपने होमटाउन जाते हैं. ऐसे ही लोगों में से एक हैं रॉन्ग्रॉन्ग, जो इस फेस्टिवल को मनाने के लिए काफी दूरी तय कर अपने होमटाउन गईं हैं.

बीजिंग में रहने वाली रॉन्ग्रॉन्ग लूनर ने न्यू ईयर से 12 दिन पहले 23 जनवरी 2019 को जल्दी काम खत्म किया और अपनी मां, दादी, चचेरे भाई और भतीजे के साथ अपने होमटाउन दक्षिण-पूर्व चीन के फुजियान प्रांत के लिए निकल गईं.

बीजिंग में पली-बढ़ीं रॉन्ग्रॉन्ग का परिवार सालों से बीजिंग में रहता है. लेकिन स्प्रिंग फेस्टिवल को मनाने के लिए उनका पूरा परिवार हमेशा बीजिंग से 2,000 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय करके अपने होमटाउन में आते हैं. फ्लाइट लेट होने के वजह से रात के 9 बजे सभी लोग फुजोहू एयरपोर्ट पर पहुंचे. लेकिन यहां से उन्हें होमटाउन जाने में दो घंटे का और समय लगा. तमाम परेशानियों का सामना करते हुए रॉन्ग्रॉन्ग की फैमिली देर रात अपने होमटाउन पहुंचे लेकिन उनके चेहरे पर थकावट की जगह गजब की खुशी और उत्साह दिख रहा था.

रॉन्ग्रॉन्ग की दादी ने कहा, "यह हमारा सबसे खास त्योहार है. यह ऐसा समय होता है जब हम अपने परिवार के सभी लोग और रिश्तेदारों से मिल पाते हैं." स्प्रिंग फेस्टिवल के मौके पर उन्हें अपने होमटाउन में आना काफी अच्छा लगता है. उनका कहना है कि "आखिरकार, यह हमारा घर है, जहां हमारी जड़ें जमी हुई हैं. ऐसे में हमें यहां साल में एक बार तो आना जरूरी है."

स्प्रिंग सीजन इतना खास होता है कि इस मौसम में चीनी लोग ब्लाइंड डेट और शादियों के लिए शायद ही डेट फिक्स करते हैं. इस फेस्टिवल के दौरान आमतौर पर बाकी किसी तरह के समारोह का आयोजन नहीं किया जाता है. स्प्रिंग फेस्टिवल के लिए रॉन्ग्रॉन्ग ने काफी तैयारियां की है. देखिए तस्वीरों में-

(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
रॉन्ग्रॉन्ग और उसकी दादी ने मिलकर अपनी आंटी की शादी के लिए दानपान(दक्षिणी फुजियान में शादियों में यूज होने वाली ट्रेडिशनल ट्रे) बनाया है. दूसरे ग्रामीण इलाकों की तरह यहां से भी लोग बड़े शहरों में काम करने के लिए अपने गांव छोड़ देते हैं तो इसलिए रीति-रिवाज वाले फंक्शन स्प्रिंग फेस्टिवल के दौरन ही होते हैं क्योंकि तब सभी गांव वाले लोग अपने घर लौट आते हैं. ये भी एक वजह है कि रॉन्ग्रॉन्ग का परिवार हर साल घर आता है.
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
घर लौटने के एक दिन बाद रॉन्ग्रॉन्ग और उसकी मां पुटियन में एक शॉपिग सेंटर पहुंचे, जहां उन्होंने स्प्रिंग फेस्टिवल के लिए घर को सजाने की कुछ चीजें खरीदीं.
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
दानपान बनाते हुए रॉन्ग्रॉन्ग की दादी मां उन्हें ट्रेडिशनल पुटियन गिफ्ट के लिए पेपर कटिंग के बारे में बताती हुई.
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
ब्रेकफास्ट करने के बाद, रॉन्ग्रॉन्ग और उसकी मां ने अपने घर के पास से राइस(चावल) केक खरीदे जिन्हें वो अक्सर अपने बचपन में स्नैक्स के रूप में खाया करती थीं. बचपन की यादें ताजा हो गईं. 
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
अपनी दादी के साथ गांव की गलियों में घूमते हुए अपने पड़ोसियों संग मजाक करती हुईं रॉन्ग्रॉन्ग
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
घर में सफाई के दौरान धूपदानी को साफ करती हुईं रॉन्गग्रॉन्ग, साथ में हैं उनकी दादी जो उन्हें कुछ समझाती हुई
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
क्योंकि रॉन्ग्रॉन्ग का परिवार एक साल से घर से बाहर था तो स्प्रिंग फेस्टिवल के लिए घर की सफाई करना एक बड़ा काम बन गया है. 
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
सूरज की रोशनी के बीच, रॉन्ग्रॉन्ग अपनी दादी के साथ मिलकर दानपान को साफ करती हुईं, ये दानपान काफी दिनों से रखे हुए थे. 
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
समुद्र की देवी और शांति की दूत माजू देवी  की पूजा के लिए रॉन्ग्रॉन्ग और उनकी मां एक प्रसिद्ध मंदिर पहुंचीं. माजू का ये पैतृक मंदिर डोंगवू गांव के पास मीझोउ द्वीप पर है. इस द्वीप पर माजू संस्कृति का पालन किया जाता है. इस इलाके के कई लोग देवी माजू की पूजा करते हैं. 
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
(Picture: शेन जियां / China Pictorial)  
अपने ऑफिस में रॉन्ग्रॉन्ग. यूनिवर्सिटी से ग्रैजुएट होने के बाद, रॉन्ग्रॉन्ग को बीजिंग की एक हाउसहोल्ड गुड्स कंपनी के प्लानिंग डिपार्टमेंट में मैनेजर के तौर पर नौकरी मिली.

(लेखक: वांग युनकॉन्ग. ये आर्टिकल बीजिंग स्थित चाइना पिक्टोरियल द्वारा प्रदान किया गया है)

(My रिपोर्ट डिबेट में हिस्सा लिजिए और जीतिए 10,000 रुपये. इस बार का हमारा सवाल है -भारत और पाकिस्तान के रिश्ते कैसे सुधरेंगे: जादू की झप्पी या सर्जिकल स्ट्राइक? अपना लेख सबमिट करने के लिए यहां क्लिक करें)


Follow our दुनिया section for more stories.

    वीडियो