ADVERTISEMENTREMOVE AD

कुवैत की इमारत में लगी भीषण आग, मरने वालों में 41 भारतीय मजदूर भी- कैसे हुआ हादसा?

Kuwait Fire Update: PM मोदी के आदेश पर विदेश राज्य मंत्री केवी सिंह तत्काल कुवैत रवाना होंगे.

Updated
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

Kuwait Fire Update: कुवैत के मंगफ शहर से दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. बुधवार, 12 जून को मजदूरे के आवास वाली एक इमारत में भीषण आग लग गई, जिसमें 41 भारतीयों सहित कम से कम 49 लोगों की मौत हो गई, और 50 से अधिक लोग घायल हो गए हैं. पीएम मोदी और विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर ने घटना पर दुख जताया. PM मोदी के आदेश पर विदेश राज्य मंत्री केवी सिंह तत्काल कुवैत रवाना हो गए हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
रॉयटर्स की रिपार्ट के अनुसार, जिस इमारत में आग लगी वो विदेशी कामगारों की एक इमारत है. मृतकों में केरल के 11 लोगों सहित 41 भारतीयों की मौत हो गई है.

कैसे लगी इमारत में आग?

इंडियन एक्सप्रेस कि रिपोर्ट के मुताबिक मेजर जनरल ईद रशीद हमद ने कहा कि घटना की सूचना अधिकारियों को स्थानीय समयानुसार सुबह 6 बजे (0300 GMT) दी गई थी. अधिकारियों ने बताया की आग कुवैत के दक्षिणी अहमदी प्रांत के मंगफ इलाके में छह मंजिला इमारत की रसोई में लगी.

कुवैत टाइम्स के अनुसार आंतरिक मामलों के मंत्री शेख फहद अल-यूसुफ अल-सबा ने पुलिस को मंगफ इमारत के मालिक को गिरफ्तार करने का आदेश दिया है. कथित तौर पर इमारत में लगभग 160 लोग रहते थे, जो एक ही कंपनी के कर्मचारी थे. आग से मरने वालों की संख्या 41 तक पहुंच गई है. अधिकारियों का कहना है कि इस मामले में जांच शुरू कर दी गई है.

मंत्री ने मौके का दौरा कर एक बयान में कहा, "आज जो हुआ वह कंपनी और इमारत के मालिकों के लालच का परिणाम है."

इस घटना में घायल हुए 30 से अधिक भारतीय श्रमिकों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

कुवैत में भारतीय दूतावास ने एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है जिस पर वॉट्सएप की सुविधा भी है. ये नंबर है: +965-65505246

मृतक भारतीय नागरिकों के परिवारों को मिलेंगे 2 लाख रुपये

PMO ने जानकारी देते हुए बताया, "प्रधानमंत्री मोदी ने कुवैत में आग लगने की घटना में मृतकों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की, साथ ही घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की और प्रधानमंत्री राहत कोष से मृतक भारतीय नागरिकों के परिवारों को 2 लाख रुपये की राशि देने की घोषणा भी की है."

Kuwait Fire Update: PM मोदी के आदेश पर विदेश राज्य मंत्री केवी सिंह तत्काल कुवैत रवाना होंगे.
ADVERTISEMENTREMOVE AD

PM मोदी और भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने घटना पर जताया दुख

घटना के बाद भारत के केंद्रीय विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर ने सोशल एक्स पर घटना के बारे में पोस्ट करते हुए जान गंवाने वाले परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है. उन्होंने लिखा "कुवैत शहर में आग लगने की घटना की खबर से गहरा सदमा लगा है. कथित तौर पर 40 से अधिक मौतें हुई हैं और 50 से अधिक को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. हमारे राजदूत शिविर में गए हैं. हम आगे की जानकारी का इंतजार कर रहे हैं. हमारा दूतावास सभी को पूरी सहायता प्रदान करेगा.“

बाद में प्रधानमंत्री ने भी ट्वीट कर लिखा कि, "कुवैत शहर में आग लगने की घटना दुखद है. मेरी संवेदनाएं उन सभी के साथ हैं जिन्होंने अपने प्रियजनों को खोया है. मैं प्रार्थना करता हूं कि घायल जल्द से जल्द ठीक हो जाएं. कुवैत में भारतीय दूतावास स्थिति पर बारीकी से नजर रख रहा है और प्रभावितों की सहायता के लिए वहां के अधिकारियों के साथ काम कर रहा है."

भारतीय दूतावास से आदर्श स्वेका ने किया घटनास्थल का दौरा 

भारतीय दूतावास से आदर्श स्वेका ने अल-अदान अस्पताल का दौरा किया जहां आग की घटना में घायल हुए 30 से अधिक भारतीय श्रमिकों को भर्ती कराया गया है. यह जानकारी 'इंडिया इन कुवैत' के एक्स हैन्डल से दी गई है. पोस्ट में बताया गया कि आदर्श स्वेका ने कई मरीजों से मुलाकात की और उन्हें दूतावास से पूरी सहायता का आश्वासन दिया. अस्पताल अधिकारियों द्वारा लगभग सभी की हालत स्थिर बताई गई है.

वहीं कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने ट्वीट किया, "कुवैत के शहर में आग लगने से 40 से अधिक भारतीयों की मौत की भयावह खबर से स्तब्ध और दुखी हूं. शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है और मैं सभी घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं. मध्य पूर्व में हमारे श्रमिकों की स्थिति गंभीर चिंता का विषय है. भारत सरकार को अपने समकक्षों के साथ मिलकर अपने नागरिकों की सुरक्षा को प्राथमिकता देनी चाहिए और सम्मानजनक जीवन स्तर सुनिश्चित करना चाहिए."

बता दें कि भारतीयों के मौत का आधिकारिक आंकड़ा अभी नहीं आया है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×