शशि कपूर के निधन से पाकिस्तान में भी गम का माहौल, ऐसे किया याद
कपूर हवेली के बाहर लगे बैनर में लिखा है- ‘<b>पेशावर आपको कभी नहीं भूलेगा</b>’
कपूर हवेली के बाहर लगे बैनर में लिखा है- ‘पेशावर आपको कभी नहीं भूलेगा(फोटो: Twitter)

शशि कपूर के निधन से पाकिस्तान में भी गम का माहौल, ऐसे किया याद

बॉलीवुड अभिनेता शशि कपूर के निधन से भारत ही नहीं पाकिस्तान के लोग भी गमजदा हैं. शशि कपूर के निधन की खबर मिलते ही पाकिस्तान के लोग भी शोक में डूब गए. पेशावर में लोगों ने कैंडल जलाकर शशि कपूर को श्रद्दांजलि दी.

पेशावर में कैसर खवानी बाजार के करीब स्थित शशि कपूर के पैतृक घर के बाहर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया, जिसमें सिनेमा प्रेमियों के साथ-साथ कई क्षेत्रों के नामचीन लोगों ने भी हिस्सा लिया.

कपूर हवेली के बाहर लगे बैनर में लिखा है- ‘<b>पेशावर आपको कभी नहीं भूलेगा</b>’
कपूर हवेली के बाहर लगे बैनर में लिखा है- ‘पेशावर आपको कभी नहीं भूलेगा
(फोटो: Twitter)

कपूर हवेली का निर्माण शशि कपूर के दादा दीवान बाशेश्वरनाथ सिंह कपूर ने 20वीं शताब्दी के शुरुआती दिनों में कराया था. शशि कपूर के पिता पृथ्वीराज कपूर साल 1928 में पेशावर से मुंबई शिफ्ट हो गए थे. उसके बाद 1947 में बंटवारे के दौरान पूरी कपूर फैमिली मुंबई शिफ्ट हो गई थी.

कपूर हवेली के बाहर कैंडल जलाते लोग
कपूर हवेली के बाहर कैंडल जलाते लोग
(फोटो: Twitter)

साल 1990 में शशि कपूर, ऋषि और रणधीर कपूर के साथ पेशावर में अपनी हवेली गए थे. 2016 में ऋषि कपूर ने कपूर हवेली के बाहर की ट्विटर पर अपनी एक तस्वीर शेयर की थी.

कपूर परिवार के अलावा अभिनेता दिलीप कुमार, शाहरख खान, विनोद खन्ना, अमजद खान और अनिल कपूर की जड़ें भी पेशावर से जुड़ी हैं.

चार दिसंबर को शशि कपूर का 79 साल की उम्र में निधन हो गया था.

ये भी पढ़ें- एक्टर के तौर पर पहचाने जाने वाले शशि कपूर बेहतर प्रोड्यूसर भी थे

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our दुनिया section for more stories.