ADVERTISEMENTREMOVE AD

तुर्की का दावा- उसकी सेना ने ईराक में कुर्द आतंकवादी संगठनों पर किया हमला

यह ऑपरेशन मेटिना, जैप और अवासिन-बस्यान के इराकी क्षेत्रों पर केंद्रित है

Updated
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

तुर्की (Turkey) के रक्षा मंत्रालय ने सोमवार, 18 अप्रैल को कहा कि तुर्की के लड़ाकू विमानों, हेलीकॉप्टरों और ड्रोन ने उत्तरी इराक में एयर और लैंड ऑपरेशन में कुर्द आतंकवादी ठिकानों को निशाना बनाया है. सैन्य कार्रवाई कुर्दिस्तान वर्कर्स पार्टी (PKK) और सीरियाई कुर्द वाईपीजी मिलिशिया के आतंकवादियों के खिलाफ ईराक और सीरिया में लंबे समय से चल रहे तुर्की अभियान का हिस्सा थी, दोनों को अंकारा द्वारा आतंकवादी समूह माना जाता था.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि

यह ऑपरेशन मेटिना, जैप और अवासिन-बस्यान के इराकी क्षेत्रों पर केंद्रित है. एयर ऑपरेशन के साथ-साथ कमांडो और स्पेशल फोर्सेज ने भी जमीनी और एयर दोनों ऑपरेशन में भाग लिया.

Anadolu न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक रक्षा मंत्री हुलुसी अकार ने कहा कि हमारा ऑपरेशन योजना के मुताबिक सफलतापूर्वक जारी है. इसके पहले चरण में पहचाने गए टारगेट पर कब्जा कर लिया गया है.

ऑपरेशन ‘ऑपरेशन क्लॉ लॉक’ नाम के ऑपरेशन का उद्देश्य आतंकवादी हमलों को रोकना था और एक आकलन के बाद सीमा सुरक्षा सुनिश्चित करना था कि पीकेके बड़े पैमाने पर हमले की योजना बना रहा था. सैन्य कार्रवाई में तोपखाने ने भी आतंकवादी ठिकानों पर गोलीबारी की है.
तुर्की रक्षा मंत्रालय

रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक तुर्की नियमित रूप से उत्तरी इराक में हवाई हमले करता है, एक ऐसा क्षेत्र जिसमें उसने अपने आक्रमणों का समर्थन करने के लिए बार-बार कमांडो भेजे हैं.

पीकेके ने 1984 में तुर्की के खिलाफ हथियार उठाए थे और इस दौरान हुए संघर्ष में 40 हजार से अधिक लोग मारे गए थे.

तुर्की के अधिकारियों का कहना है कि उनका मानना ​​है कि बगदाद पीकेके से लड़ने में उनके पक्ष में है, जिसे यूरोपीय संघ और संयुक्त राज्य अमेरिका ने भी एक आतंकवादी संगठन माना है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×