ADVERTISEMENT

Dalit और भारतीय सिनेमा: सुजाता, सैराट से जय भीम तक... जाति से जूझती फिल्में

Casteism and Indian Cinema: 1946 में चेतन आनंद की फिल्म नीचा नगर को कान फिल्म फेस्टिल का बेस्ट फिल्म अवार्ड मिला

Published
Dalit और भारतीय सिनेमा: सुजाता, सैराट से जय भीम तक... जाति से जूझती फिल्में
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

हर हफ्ते कई फिल्में थिएटर में रिलीज की जाती हैं, जिनमें से कुछ मसाला फिल्में होती हैं, जो लोगों के एंटरटेनमेंट के लिए बनाई जाती हैं. कई फिल्में सोशल मैसेज के साथ आती हैं और समाज को आईना दिखाती हैं. वैसे हमारे देश में कम ही फिल्में महिला अधिकारों और जातिवाद पर बनती हैं. आज हम आपको जातिवाद पर बनी ऐसी ही कुछ शानदार फिल्मों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो जातीय भेदभाव पर खुलकर बात करती हैं.

ADVERTISEMENT

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
450

500 10% off

1620

1800 10% off

4500

5000 10% off

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह

गणतंत्र दिवस स्पेशल डिस्काउंट. सभी मेंबरशिप प्लान पर 10% की छूट

मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×