‘वॉइस ऑफ़ गॉड’ कहे जाने वाले मेहदी हसन को ख़िराज-ए-अक़ीदत 

अहमद फ़राज़ और फैज़ अहमद फैज़ जैसे शायरों के लिए, मेंहदी हसन की आवाज उनकी पहली पसंद थी.

Published13 Jun 2020, 03:39 PM IST
पॉडकास्ट
1 min read

गीत: आदित्य रॉय

होस्ट, राइटर, साउंड डिजाइनर: फबेहा सय्यद

एडिटर: शैली वालिया

म्यूसिक: बिग बैंग फज

अहमद फ़राज़ और फैज़ अहमद फैज़ जैसे शायरों के लिए, मेंहदी हसन की आवाज उनकी पहली पसंद थी. लता मंगेशकर के लिए उनकी आवाज मानो भगवान की आवाज हो. जिस गायक के जीवन में उसने 50000 के करीब गजलें गईं हों, जिस पर न सिर्फ भारत और पाकिस्तान की अवाम अपना हक समझती है, बल्कि नेपाल की रियासत भी मोहब्बत से याद करती है. उस फनकार को भारतीय उपमहाद्वीप का 'शहंशाह-ए-ग़ज़ल' अगर नहीं कहेंगे तो और क्या कहेंगे?

मेहदी हसन की पैदाइश राजस्थान के झुंझुनू जिले में हुई और 6 साल ही कि उम्र में उन्होंने अपने चाचा और वालिद की सरपरस्ती में संगीत की शिक्षा लेनी शुरू कर दी. सीखते-सीखते दो ही साल हुए थे, कि बड़ौदा के महाराजा के सामने उन्होंने अपनी पहली पेशकश दी, जब वो लगातार 40 मिनट तक गाते रहे. उसके बाद भारत में कई रियासतों में अपने दादा इमामुद्दीन के साथ दरबारों में गायकी की. यहां तक कि 10 साल ही की उम्र में नेपाल और पाकिस्तान से बुलावे आने लगे. लेकिन ऐसे ही एक बुलावे की वजह से उनकी जिन्दगी में एक ऐसा मोड़ आया जिसने जिंदगी पलट दी. मुल्क की तकसीम से पहले जो दरबारों में शाही मिजाज देखते देखते बढ़ा हुआ, वो लड़का साइकिल मैकेनिक बन गया. मेहदी हसन की बरसी के मौके पर सुनिए उन की दास्तां आज उर्दूनामा के इस खास एपिसोड में.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!