सुशांत की मौत का सबक- लाइलाज नहीं डिप्रेशन,यूं करें इक-दूजे की मदद

डिप्रेशन एक ऐसा अदृश्य दुश्मन है जिनके बारे में हम उतनी बात नहीं करते जितनी करनी चाहिए.

Published15 Jun 2020, 04:28 PM IST
पॉडकास्ट
1 min read

बॉलीवुड एक्टर, सक्सेसफुल टीवी स्टार, सुशांत सिंह राजपूत की 14 जून को मौत हो गई. वो महज 34 साल के थे. 15 जून को मुंबई में सुशांत का अंतिम संस्कार हुआ. जब कोई भी दुनिया से चला जाता है तो उसके चाहने वालों को तकलीफ तो होती ही है, लेकिन सुशांत की बात जरा अलग है. सुशांत बहुत भारी मन के साथ अलविदा कह गए हैं. सुशांत ने सुसाइड की है, न जाने कितनी घुटन रही होगी सुशांत के भीतर जो उन्होंने ऐसा कदम उठाया.

डिप्रेशन एक ऐसा अदृश्य दुश्मन है जिनके बारे में हम उतनी बात नहीं करते जितनी करनी चाहिए. आज पॉडकास्ट में सुसाइड और डिप्रेशन से जुड़ी बातें समझेंगे कि इंसान का अकेलापन किस हद तक उसकी मौत का सबब बन जाता है और कैसे इसे होने से रोका जा सकता है.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!