सात्विक-चिराग दिला सकते हैं ओलंपिक मेडल, बस डिफेंस करना होगा मजबूत

सात्विक साईराज और चिराग ने इस साल थाईलैंड ओपन का खिताब अपने नाम किया था

Published
सात्विक और चिराग के साथ कोच लिम्पेले
i

बैडमिंटन में भारत के डबल्स स्पेशलिस्ट कोच फ्लांडी लिम्पेले का मानना है कि सात्विक साईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी भारत को 2020 के टोक्यो ओलंपिक में पहला डबल्स का मेडल दिला सकते हैं, बशर्ते वो अपने डिफेंस को दुरुस्त करें और लगातार अच्छे प्रदर्शन पर फोकस करें.

सात्विक और चिराग ने इस साल थाईलैंड ओपन सुपर 500 खिताब जीता और फ्रेंच ओपन सुपर 750 में उपविजेता रहे. अपने प्रदर्शन के दम पर दोनों इस साल करियर की सर्वश्रेष्ठ सातवीं रैंकिंग पर भी पहुंचे.

इस प्रदर्शन के दम पर उन्होंने बैडमिंटन विश्व महासंघ का ‘मोस्ट इंप्रूव्ड प्लेयर आफ द ईयर’ पुरस्कार भी जीता.

कोच लिम्पेले ने कहा,

‘‘उन्होंने इस साल अच्छी प्रगति की लेकिन कुछ चीजें बदलनी होंगी. वे ओलंपिक में पदक जीत सकते हैं लेकिन शॉट चयन और कोर्ट पर रणनीति में लगातार अच्छा प्रदर्शन करना होगा.’’

उन्होंने कहा, ‘‘उनका अटैक अच्छा है लेकिन डिफेंस पर मेहनत करनी होगी. उनका प्रदर्शन उतार चढाव भरा रहा है और अब ओलंपिक ज्यादा दूर नहीं है लिहाजा उन्हें अपने डिफेंस पर काम करना होगा.’’

साथ ही उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों का खराब रवैया और टीमवर्क के अभाव से देश में युगल बैडमिंटन के विकास पर असर पड़ रहा है.

उन्होंने कहा, ‘‘इसका ताल्लुक खिलाड़ियों के रवैये से है. युगल में समस्या हो जाती है क्योंकि यह टीम प्रयास की बात है. यह व्यक्तिगत खेल नहीं है लिहाजा साझेदार एक दूसरे को समझने वाले होने चाहिये.’’

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!