ADVERTISEMENT

WADA ने रूस पर लगाया 4 साल का बैन,ओलंपिक और FIFA वर्ल्ड कप से बाहर

रूस पर बैन के खिलाफ अपील का विकल्प है

Updated
WADA ने रूस पर लगाया 4 साल का बैन,ओलंपिक और FIFA वर्ल्ड कप से बाहर
i

वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी (WADA) ने डोपिंग के आरोप में रूस पर 4 साल तक वैश्विक खेलों में हिस्सा लेने पर बैन लगा दिया है. सोमवार 9 दिसंबर को स्विट्जरलैंड में लुजाने में WADA के मुख्यालय में हुई कार्यकारी समिति की बैठक में एकमत से रूस पर सभी बड़े खेल टूर्नामेंट्स में हिस्सा लेने पर रोक लगाने का फैसला किया गया.

ADVERTISEMENT

यानी रूस 2020 के टोक्यो ओलंपिक और 2022 के फुटबॉल विश्व कप समेत किसी भी बड़े खेल आयोजन का हिस्सा नहीं बन पाएगा. रूसी खिलाड़ियों के खिलाफ डोपिंग की शिकायतों और उसको निपटाने में रूसी डोपिंग एजेंसी की नाकामी के बाद ये बैन लगाने का फैसला किया है.

रूसी एंटी डोपिंग एजेंसी (RUSADA) पर आरोप था कि इसने डोपिंग में फंसे एथलीटों के सैंपल से छेड़छाड़ की थी और छेड़छाड़ किया हुआ डेटा जनवरी 2019 में जांच के लिए WADA को सौंपा था.

WADA के प्रवक्ता जेम्स फिट्जजेराल्ड ने कहा,

‘‘सिफारिशों की पूरी सूची सर्वसम्मति से स्वीकार कर ली गयी है. WADA कार्यकारी समिति ने सर्वसम्मति से स्वीकार किया कि रूसी डोपिंगरोधी एजेंसी ने चार साल तक नियमों का पालन नहीं किया.’’

हालांकि रूस पर इस बैन के खिलाफ अपील करने के लिए 21 दिन का समय है.

ADVERTISEMENT

रूसी खिलाड़ी ले सकेंगे ओलंपिक में हिस्सा

रूस पर इस प्रतिबंध के बावजूद रूसी खिलाड़ी ओलंपिक में हिस्सा ले सकते हैं. फैसले के मुताबिक रूसी खिलाड़ी टोक्यो ओलंपिक में तटस्थ खिलाड़ी के तौर पर भाग ले सकते हैं यानी वो रूसी झंडे के बजाए किसी तटस्थ झंडे या इंटनरनेशनल ओलंपिक कमेटी के तहत हिस्सा ले सकेंगे.

लेकिन ऐसा तभी संभव होगा जबकि वे यह साबित करेंगे कि वे डोपिंग की उस व्यवस्था का हिस्सा नहीं थे जिसे WADA सरकार प्रायोजित मानता है. साथ ही उन्हें खुद को डोपिंग से मुक्त भी साबित करना होगा.

फिट्जजेराल्ड ने कहा, ‘‘उन्हें यह साबित करना होगा कि वे रूसी डोपिंग कार्यक्रम का हिस्सा नहीं थे जैसा कि मैकलारेन रिपोर्ट में कहा गया है या उनके नमूनों में हेराफेरी नहीं की गयी थी.’’

मैकलारेन रिपोर्ट 2016 में जारी की गयी थी जिसमें रूस में विशेषकर 2011 से 2015 तक सरकार प्रायोजित डोपिंग का खुलासा किया गया था. रूस पर 2015 से ही एक राष्ट्र के तौर पर खेलने पर प्रतिबंध है.

इस प्रतिबंध के बाद भी हालांकि रूस यूरो-2020 फुटबॉल में हिस्सा ले सकेगा, क्योंकि यूरोप की फुटबॉल संस्था UEFA को खेल के बड़े आयोजकों में नहीं गिना जाता है.

हालांकि WADA ने ये भी साफ किया है कि बैन की टाइमिंग के मद्देनजर लुजाने में जनवरी 2020 में होने वाले विंटर यूथ ओलंपिक गेम्स में ये प्रतिबंध लागू नहीं होगा.

साथ ही रूस 2032 में होने वाले ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों की मेजबानी के लिए दावा भी नहीं कर पाएगा.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, sports और all-sports के लिए ब्राउज़ करें

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×