ADVERTISEMENTREMOVE AD

Asia Cup फतह में भारत को मिला वर्ल्डकप जीतने का फॉर्मूला? कई जवाब मिले-कुछ बाकी

Asia Cup के फाइनल में श्रीलंका को 10 विकेट से हराकर टीम इंडिया 8वीं बार खिताब अपने नाम करने में कामयाब रही.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

भारत और श्रीलंका (IND vs SL) के बीच एशिया कप (Asia Cup) का फाइनल मैच भारत की झोली में रहा. श्रीलंका को 10 विकेट से हराकर टीम इंडिया 8वीं बार एशिया कप का खिताब अपने नाम करने में कामयाब रही. लेकिन इस एशिया कप में खिताब के अलावा भी भारत को बहुत कुछ मिला है, जिसपर ध्यान देना जरूरी है.

वर्ल्ड कप से करीब एक महीना पहले इस टूर्नामेंट की शुरुआत हुई तो खिलाड़ियों की चोट से लेकर फॉर्म तक, कई तरह के सवाल उठ रहे थे. अब जब एशिया कप खत्म हो गया तो भारत के पास न सिर्फ उन सवालों के जवाब हैं, बल्कि एक संतुलित टीम भी.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

5 अक्टूबर से भारत में शुरू हो रहे क्रिकेट वर्ल्ड कप के स्कॉड की घोषणा इस एशिया कप के दौरान ही हुई. प्रसिद्ध कृष्णा और तिलक वर्मा का नाम छोड़कर वर्ल्ड कप के स्कॉड में वही टीम है, जो इस एशिया कप के दौरान थी. इसलिए इसे विश्व कप का रिहर्सल भी माना जा रहा था.

संतुलित टीम और फॉर्म में बल्लेबाज

एशिया कप में भारत को एक संतुलित टीम मिल गई है. मौजूदा वक्त में भारत के बेस्ट 11 खिलाड़ी कौन से हैं, जिन्हें वर्ल्ड कप की टीम में होना चाहिए उसका जवाब एशिया कप ने दिया है. ओपनिंग में शुभमन गिल और रोहित शर्मा की जोड़ी ने नेपाल के खिलाफ 147* रन, श्रीलंका के खिलाफ सुपर 4 के मैच में 80 रन और पाकिस्तान के खिलाफ 121 रन की साझेदारी की. बांग्लादेश के खिलाफ गिल ने शतक भी लगाया. बल्लेबाजी में थोड़ा नीचे आएं तो विराट कोहली और केएल राहुल ने भी इस टूर्नामेंट में शतक जड़े और कई महत्वपूर्ण पारियां खेलीं. यानी फॉर्म की कोई समस्या नहीं है.

पाकिस्तान के खिलाफ पहले मैच में कोई नतीजा नहीं निकला, लेकिन इस मैच में भी जब लगा कि भारत का टॉप ऑर्डर लड़खड़ा रहा है, तो निचले क्रम में ईशान किशन और हार्दिक पांड्या ने मोर्चा संभाल लिया. दोनों ने 138 रनों की साझेदारी कर दी.

बांग्लादेश के खिलाफ भले ही भारतीय टीम (मेन टीम के कई खिलाड़ियों को इस मैच में आराम दिया गया था) हार गई, लेकिन इसमें अक्षर पटेल का बल्ला चला. यानी कुल मिलाकर कहें तो बल्लेबाजी की तस्वीर साफ हो गई है. भारत का हर बल्लेबाज फॉर्म में है.

0

केएल राहुल को लेकर चिंताएं खत्म

सबसे ज्यादा चर्चा केएल राहुल को लेकर थी, वो लगभग 5 महीने बाद क्रिकेट के मैदान पर वापसी कर रहे थे. उनके फॉर्म और चोट, दोनों को लेकर सवाल थे. लेकिन उन्होंने एक तरफ शतक बनाकर अपने फॉर्म में होने का प्रमाम दे दिया तो दूसरी तरफ विकेट कीपिंग करके ये भी दिखा दिया कि वो पूरी तरह से फिट हैं. श्रीलंका के खिलाफ फाइनल में उन्होंने एक शानदार कैच पकड़ा, जिसके बाद उनकी फिटनेस पर अब कोई सवाल खड़ा नहीं होता.

Asia Cup के फाइनल में श्रीलंका को 10 विकेट से हराकर टीम इंडिया 8वीं बार खिताब अपने नाम करने में कामयाब रही.

श्रीलंका के खिलाफ फाइनल मैच में कैच पकड़ते केएल राहुल

(फोटो: X)

ऑलराउंडर्स की बात करें तो जडेजा थोड़ा फीके नजर आए, लेकिन हार्दिक पांड्या और अक्षर पटेल ने गेंद और बल्ले दोनों से खूब दम दिखाया. क्रिकेट एक्सपर्ट गुरकीरत सिंह गिल ने क्विंट हिंदी से बातचीत में कहा...

"एशिया कप शुरू होने से पहले केएल राहुल और जसप्रीत बुमराह की फिटनेस और फॉर्म को लेकर सवाल थे, लेकिन दोनों ने अच्छा फरफॉर्म किया. केएल राहुल का प्रदर्शन दस्तानों के साथ भी अच्छा रहा."

गेंदबाजी में दिखा दम, लेकिन फील्डिंग में सुधार की जरूरत

गेंदबाजी में सबकी नजर बुमराह पर थी. वो भी लंबे समय बाद चोट से वापसी कर रहे थे. उन्होंने भी दिखा दिया कि उनकी गेंदें टप्पे पर गिर रही हैं और फिटनेस को लेकर कोई सवाल नहीं है. तेज गेंदबाजी में बुमराह और सिराज ने भारत को बड़ा भरोसा दिलाया है. सिराज ने तो श्रीलंका के खिलाफ एक ही ओवर में 4 विकेट और पारी में 6 विकेट लेकर सबके होश उड़ा दिए.

कुलदीप यादव ने भी बता दिया है कि उनकी फिरकी वर्ल्ड कप में भारतीय पिचों पर बल्लेबाजों का काल बनने जा रही है. एशिया कप में 9 विकेट लेकर वो मैन ऑफ द सीरीज भी बने हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

हां, टीम इंडिया को थोड़ी मेहनत फील्डिंग में करनी होगी. नेपाल जैसी टीम के खिलाफ पहले 20 गेंदों में ही कोहली, अय्यर और ईशान किशन ने कैच छोड़े. यहां कोई बड़ी टीम होती तो ये बहुत भारी पड़ सकता था.

अब विश्व कप का इंतजार है, लेकिन उससे पहले ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारतीय टीम 3 ODI मैच खेलेगी. ये सीरीज 22 सितंबर से शुरू होने जा रही है. यहीं सही मायनों में टीम इंडिया का टेस्ट होगा.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×