ADVERTISEMENTREMOVE AD

Ranji चैंपियन ऐसे ही नहीं बनते: MP के कप्तान ने शादी से ज्यादा टीम को दी अहमियत

Ranji Trophy Madhya Pradesh: मध्यप्रदेश ने 41 बार की चैंपियन मुंबई को हराकर इतिहास रचा है.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

भारत के घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy 2022) में मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) ने रविवार, 26 जून को 41 बार की चैंपियन मुंबई को हराकर इतिहास रच दिया. MP के लिए ये पहला रणजी खिताब था और ये मुमकिन हुआ आदित्य श्रीवास्तव की कप्तानी में.

इस जीत में कोच चंद्रकांत पंडित के योगदान को किनारे कर के नहीं देखा जा सकता. अपनी कोचिंग में पंडित 6 बार टीमों को रणजी चैंपियन बना चुके हैं. कोच चंद्रकांत पंडित और कप्तान श्रीवास्तव के रिश्ते क्रिकेट से इतर नीजि तौर भी काफी अच्छे बताए जाते हैं. दोनों ने रविवार को मैच जीतने के बाद प्रेस कांफ्रेंस में एक ऐसा किस्सा साझा किया जिसपर फैंस हैरान हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

शादी के लिए बस 2 दिन का समय, हनीमून की भी छुट्टी नहीं थी

आदित्य की पिछले साल शादी होने वाली थी और वो एक अच्छे बच्चे की तरह कोच से इसके लिए छुट्टी मांगने गए तो कोच ने उन्हें बस 2 दिन की छुट्टी दी और इसके बाद दोबारा ट्रेनिंग पर लौटने के लिए कह दिया. इतना ही नहीं, कोच ने कहा कि मैंने इन्हें हनीमून पर जाने से भी मना कर दिया.

चंद्रकांत पंडित कोच के तौर पर कितने सख्त हैं और ट्रेनिंग को लेकर कितने सीरियस रहते हैं इस घटना के बाद आसानी से समझा जा सकता है. इसके बाद आदित्य ने मुस्कुराते हुए कहा कि, "मेरी शादी पिछले साल हुई थी, लेकिन मैंने अपनी पत्नी के लिए10 दिन की छुट्टी भी नहीं ली है."

0

कोच का 23 साल पुराना सपना पूरा

रविवार का दिन कोच चंद्रकांत पंडित के लिए काफी यादगार रहा. उन्होंने अपनी कोचिंग में उसी चिन्नास्वामी स्टेडियम में मध्यप्रदेश को चैंपियन बनाया जहां वे 23 साल पहले कर्नाटक के खिलाफ फाइनल हार गए थे. उस वक्त पंडित खुद मध्य प्रदेश के कप्तान थे. उन्होंने कहा कि

"हर ट्रॉफी संतुष्टि देती है, लेकिन यह विशेष है. मैं इसे एमपी कप्तान के रूप में सालों पहले (23 साल) नहीं कर सका था. इन वर्षों में, मैंने हमेशा महसूस किया है कि मैंने यहां कुछ छोड़ दिया है. यही कारण है कि मैं इसके बारे में थोड़ा अधिक उत्साहित और भावुक हूं."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×