ADVERTISEMENTREMOVE AD

दीपा मलिक को खेल रत्न सम्मान, बजरंग और जडेजा नहीं हो पाए शामिल

खेल रत्न पाने वाली पहली महिला पैरा एथलीट बनीं दीपा मलिक

Updated
छोटा
मध्यम
बड़ा

वीडियो एडिटरः संदीप सुमन

ADVERTISEMENTREMOVE AD

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार 29 अगस्त को खेल दिवस के मौके पर राष्ट्रपति भवन में खिलाड़ियों को खेल पुरस्कारों से नवाजा. दीपा मलिक को भारतीय खेलों के सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया. दीपा मलिक ये सम्मान पाने वाली पहली महिला पैरा एथलीट बन गई.

हालांकि दीपा के अलावा पहलवान बजरंग पूनिया को भी ये सम्मान दिया जाना था लेकिन वर्ल्ड चैंपियनशिप की तैयारियों के चलते रूस में होने के कारण बजरंग अपना अवॉर्ड लेने नहीं आ पाए.

बजरंग के अलावा भी कुछ खिलाड़ी अपनी उपस्थिति दर्ज नहीं करा पाए. जिन्हें बाद में अवार्ड दिया जाएगा.

दीपा मलिक खेल रत्न हासिल करने वाली पहली महिला पैरा-एथलीट बन गई हैं. इसी के साथ दीपा इस अवार्ड को हासिल करने वाली दूसरी पैरा-एथलीट बन गई हैं. दीपा ने रियो पैरालम्पिक-2016 में शॉट पुट (गोलाफेंक) में सिल्वर मेडल हासिल किया था. इसके अलावा वह एशियाई खेलों में जेवलिन थ्रो और डिस्कस थ्रो में ब्रॉन्ज जीत चुकी हैं.

दीपा सर्वोच्च खेल सम्मान पाने वाली देश की दूसरी पैरा एथलीट हैं. इससे पहले जेवलिन थ्रो में एथलीट देवेंद झाझरिया को 2017 में इस सम्मान से नवाजा गया था.

इस साल के पुरस्कारों के चयन के लिए 12 सदस्यीय कमेटी ने 17 अगस्त को बैठक में खिलाड़ियों के नामों की सिफारिश की थी. इस कमेटी में महिला मुक्केबाज मैरी कॉम, पूर्व फुटबॉल खिलाड़ी बाइचुंग भूटिया, पूर्व एथलीट अंजू बॉबी जॉर्ज, भारतीय महिला क्रिकेट टीम की पूर्व कप्तान अंजुम चोपड़ा, टेबल टेनिस कोच कमलेश मेहता, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज (रिटायर्ड) मुकुंदन शर्मा, खेल सचिव राधेश्याम झुलानिया, भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के महा निदेशक संदीप प्रधान और टारगेट ओलम्पिक पोडियम स्कीम (टॉप्स) के मुख्य कार्यकारी कमांडर राजेश राजगोपालन के नाम भी शामिल हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

जडेजा और अंजुम भी नहीं हुए शामिल

इसके अलावा भारतीय क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर खिलाड़ी रविंद्र जडेजा और महिला क्रिकेट टीम की खिलाड़ी पूनम यादव को अर्जुन अवार्ड के लिए चुना गया है.

जडेजा इस समय भारतीय टीम के साथ वेस्टइंडीज दौरे पर हैं इसलिए वह इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पाए. महिला निशानेबाज अंजुम मुदगिल भी समारोह में हिस्सा नहीं ले पाईं. अंजुम रियो डी जेनेरो में आईएसएसएफ वर्ल्ड कप में हिस्सा ले रही हैं.

बैडमिंटन कोच विमल कुमार और टेबल टेनिस कोच संदीप गुप्ता को उनके योगदान के लिए द्रोणाचार्य पुरस्कार दिया गया. विमल कुमार की कोचिंग में साइना नेहवाल, अश्विनी पोनप्पा. पी कश्यप जैसे खिलाड़ियों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई पुरस्कार जीते.

भारतीय कबड्डी टीम के कप्तान अजय ठाकुर को भी अर्जुन अवॉर्ड से सम्मानित किया गया. ठाकुर 2016 में वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे. इसके साथ ही 2018 एशियाई खेलों में तीसरे नंबर पर रही भारतीय टीम के कप्तान भी थे.

अवॉर्ड पाने के बाद ठाकुर ने कहा कि उनका सपना पूरा हो गया है.

“जब भी कोई खिलाड़ी खेलता है तो उसकासपना होता है कि वो देश के लिए खेले और अर्जुन अवॉर्ड मिले. 10 साल से भारत के लिएखेल रहा हूं और आज मुझे ये अवॉर्ड मिला है, तो मुझे बहुत गर्व हो रहा है.”
अजय ठाकुर, भारतीय कबड्डी कप्तान (अर्जुन अवॉर्ड)
ADVERTISEMENTREMOVE AD

ये एथलीट्स और कोच हुए सम्मानित

द्रोणाचार्य अवॉर्ड- विमल कुमार (बैडमिंटन), संदीप गुप्ता (टेबल टेनिस), मोहिंदर सिंह ढिल्लों (एथलेटिक्स) को द्रोणाचार्य अवार्ड से नवाजा गया. मेरजबान पटेल (हॉकी), रामबीर सिंह खोखर (कबड्डी), संजय भारद्वाज (क्रिकेट) को द्रोणाचार्य अवार्ड (लाइफटाइम कैटेगरी) से नवाजा गया है.

अर्जुन अवॉर्ड- इस सूची में तजिंदरपाल सिंह तूर (एथलेटिक्स), मोहम्मद अनस याहिया (एथलेटिक्स), एस. भास्करन (बॉडी बिल्डिंग), सोनिया लाठर (बॉक्सिंग), रविन्द्र जडेजा (क्रिकेट), चिंगलियाना सिंह कंगुजम (हॉकी), अजय ठाकुर (कबड्डी), गौरव सिंह गिल (मोटर स्पोर्ट्स), प्रमोद भगत (बैडमिंटन), अंजुम मौदगिल (निशानेबाजी), हरमीत राजुल देसाई (टेबल टेनिस), पूजा ढांडा (कुश्ती), फवद मिर्जा (घुड़सवारी), गुरप्रीत सिंह संधू (फुटबॉल), पूनम यादव (क्रिकेट), स्वप्ना बर्मन (एथलेटिक्स), सुंदर सिंह गुर्जर (पैरा खेल, एथलेटिक्स), भामिदपति साई प्रणीत (बैडमिंटन), सिमरन शेरगिल (पोलो) के नाम हैं.

ध्यानचंद पुरस्कार- मनोज कुमार (कुश्ती) मैनुअल फ्रेड्रिक (हॉकी), अरूप बसाक (टेबल टेनिस), नीतिन कीर्तन (टेनिस), चांग्ते लालरेमसांगा (तीरंदाजी) को चुना गया है

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×