ADVERTISEMENT

''इस मिट्टी से हमारा मोह जुड़ गया था''... जब घर लौटते वक्त भावुक हुए किसान

टिकरी बॉर्डर पर किसान एक-दूसरे के साथ लिपटकर रोने लगे.

Published

सरकार के लिखित आश्वासन के बाद किसान आंदोलन (Farmers Protest) स्थगित हो गया है. 1 साल से ज्यादा वक्त से दिल्ली की सीमाओं पर बैठे किसान अब वापस घर लौटने लगे हैं. इन किसानों को घर लौटने की खुशी तो है, लेकिन लौटते वक्त ये भावुक भी हो जा रहे हैं. आइए जानते हैं कि वापस गांव लौटते वक्त क्यों रोने लगे कुछ किसान.

ADVERTISEMENT

टिकरी बॉर्डर पर घर वापसी की तैयारी कर रहे एक किसान द क्विंट से बातचीत के दौरान भावुक हो गए. जब उनसे पूछा गया कि आपकी आंखों में आंसूं क्यों है, तो उन्होंने कहा, ''ये खुशी के आंसूं हैं, हम जीतकर जा रहे हैं. कोई पीछे से हमें ये नहीं कहेगा कि बहुत बेकार लोग थे.''

उन्होंने आगे कहा, ''हम टिकरी बॉर्डर पर एक-एक दुकान पर जाकर पूछेंगे कि हमारे से कोई गलती तो नहीं हो गई? कोई उधार या कुछ और है तो हम आज उनसे माफी मांगकर जाएंगे. उनको गले लगकर जाएंगे.''

ADVERTISEMENT

टिकरी बॉर्डर पर ही कुछ अन्य किसान भी क्विंट से बात करते वक्त भावुक हो गए. एक किसान दूसरे किसान के साथ लिपटकर रोने लगे.उन्होंने कहा, ''इतना बड़ा आंदोलन, अपनी मां को बचाने के लिए हम लड़े, हम भाई हैं.''

बॉर्डर पर लाइब्रेरी चलाने वाले एक अन्य किसान ने कहा, ''आज जब हम ट्रॉली पर सामान रख रहे थे तो आंख में आंसू आ गए, इस मिट्टी के साथ हमारा मोह जुड़ गया था.''

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, videos के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  Farmers Protest 

ADVERTISEMENT
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×