जावा या रॉयल एनफील्ड 350: क्या अपनी बुलेट बेच दे BTech बबुआ ?

जावा या रॉयल एनफील्ड 350: क्या अपनी बुलेट बेच दे BTech बबुआ ?

वीडियो

जावा ने बाइस साल बाद मारा है इंडियन मार्केट पे धावा. माने, जावा वापस आ गया है, लेकर 3 नए मॉडल्स, जावा, जावा Forty Two और पेराक. अब सवाल ये उठता है कि जब इतनी बढिया बाइक मार्केट में आ गयी हो तो क्या वक्त आ चुका है बदलने का अपनी रॉयल एनफील्ड 350 को? परेशान ना हों, हम आपकी कन्फ्यूजन दूर किए देते हैं.

पावर और टॉर्क

अगर आप गाड़ी तेज चलाने के शौकीन हैं तो फिर जावा और बुलेट में, जावा थोड़ा बेहतर होगा. क्योंकि जावा का सिर्फ 300 cc का इंजन है, लेकिन इसका पावर है 27 bhp और क्लासिक 350 का सिर्फ 19 bhp है.

लेकिन टॉर्क में दोनों में बराबर है: 28 Nm.

तो जब आप ट्रैफिक सिगनल से निकलेंगे, तो दोनों साथ चलेंगे थोड़ी देर के लिए. उसके बाद जावा आगे निकल जाएगा क्योंकि जावा का वजन भी थोड़ा सा कम है बुलेट से.

इंजन

इंजन में भी थोड़ा सा फर्क है. रॉयल एनफील्ड क्लासिक में 350 cc का एयर कूल्ड इंजन है और 5 -स्पीड गियर बॉक्स है. जावा में 300 cc का लिक्विड कूल्ड इंजन और 6-स्पीड गियर बॉक्स है. इसीलिए जावा ज्यादा स्पोर्टी लगेगा आपको अगर आप रॉयल एनफील्ड क्लासिक से तुलना करेंगे. पर अगर आपको स्टेबिलिटी चाहिए, लम्बी राइड के लिए चाहिए, तो फिर मामला अलग है.

डिजाइन

नए जावा का डिजाइन पुराने जावा जैसा ही है, लेकिन उसकी क्वालिटी पहले से बेहतर है. फिर वो चाहे इसका स्टील हो या प्लास्टिक. इसकी फिट और फिनिश भी काफी अच्छी  है.

क्लासिक 350 की क्वालिटी भी सुधर गयी है पर, इसमें वेल्डिंग के निशान थोड़े बहुत इधर-उधर मिल जाएंगे.

जो जावा बाइक मैंने देखी, वो सिर्फ एक प्रोटोटाइप था. जनवरी में जब बाइक मार्केट में आएगी तब पता चलेगी असल क्वालिटी मॉडल की.

कीमत

जावा ने तीन मॉडल निकाले हैं: जावा: Rs 1,64,000, Forty Two: Rs 1,55,000 पेराक: Rs 1,89,000

और उसी रेंज में, Rs. 1,62,000 में आपको क्लासिक 350 मिल रहा है, अगले और पिछले टायरों में डिस्क ब्रेक और ABS के साथ.

तो कीमत में ये दोनों (जावा और क्लासिक 350) लगभग बराबर हैं. तो आखिरकार आपको ये तय करना पड़ेगा कि लुक्स और स्टाइल के नजरिये से आप कौन सी गाड़ी लेते हैं.

तो क्या अपनी बुलेट बेच दें?

देखो ये फीलिंग पर निर्भर करता है.
ऐसे भी लोग होते हैं, जिन्हे बुलेट पर बैठकर अच्छी फीलिंग आती है. और ऐसे भी लोग हैं जिन्हें जावा तेज चलाने की आदत है. 1960 और 1970 में जावा और रॉयल एनफील्ड में खूब कंपीटिशन था और अब भी शायद रहे. अब देखते हैं कौन आगे निकलता है?

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our वीडियो section for more stories.

वीडियो

    वीडियो